दमोह (नईदुनिया प्रतिनिधि)। संपर्क क्रांति एक्सप्रेस में दिल्ली जा रही एक महिला से एसी कोच के अटेंडर ने छेड़छाड़ की घटना को अंजाम दिया था, जिसकी शिकायत महिला के द्वारा रेलवे के किसी वरिष्ठ अधिकारी को ट्वीट कर की थी और दिल्ली जीआरपी में भी शिकायत दर्ज कराई थी। दिल्ली से डायरी आने के बाद दमोह जीआरपी ने मामले की जांच शुरू की और एक आरोपित को गिरफ्तार भी किया है। हालांकि, यह मामला काफी दिन पुराना है, जिसकी डायरी दमोह पुलिस को अभी मिली है।

जानकारी देते हुए दमोह जीआरपी चौकी प्रभारी एसके शर्मा ने बताया कि छत्तीसगढ़ से एक महिला पिछले महीने संपर्क क्रांति एक्सप्रेस के एसी कोच में बैठकर दिल्ली जा रही थी। दमोह स्टेशन से ट्रेन के निकलते ही चलती ट्रेन में रात के समय एसी कोच के किसी अटेंडर ने महिला के साथ छेड़छाड़ कर दी। महिला के द्वारा विरोध करने पर आरोपित ट्रेन से भाग निकला। महिला जब दिल्ली पहुंची तो उसने दिल्ली जीआरपी को घटना की जानकारी दी। वहां मामला दर्ज होने के बाद डायरी दमोह जीआरपी के पास पहुंची। इस मामले में जांच करते हुए एक संदिग्ध आरोपित को पकड़ा है और घटना की जांच की जा रही है।

जमीन बिक्री के मामले में ईओडब्ल्यू द्वारा एफआइआर दर्ज

आर्थिक अपराध अनुसंधान ब्यूरो द्वारा दमोह के एक जमीन बिक्री के मामले में अपराध पंजीबद्ध किए जाने की जानकारी प्राप्त हुई है। इस संबंध में संबंधितों द्वारा न्यायालय में अग्रिम जमानत याचिका भी प्रेषित कर दी है।

इस संबंध में सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार दमोह शहर की नजूल सीट नंबर 55 प्लाट नंबर 142.26 रकबा 1925 वर्ग फुट, 142.27 एवं 142.28 रकवा 3850 वर्ग फुट कुल 5775 वर्ग फुट जमीन सिविल वार्ड पांच में मुख्य सड़क पर अजय लाल पुत्र विजय लाल एवं राजकमल डेविड लाल द्वारा राजेंद्र सिंह बग्गा पुत्र बहादुर सिंह बग्गा निवासी सिविल वार्ड आठ को विक्रय की थी। जिसमें स्टांप ड्यूटी का किसी प्रकार की राशि का हेरफेर किए जाने के कारण आर्थिक अपराध अनुसंधान ब्यूरो में की गई शिकायत के उपरांत जांच की गई थी। जिसमें जांच के उपरांत लाखों रुपये की राशि का अंतर स्टांप ड्यूटी के नाम पर बताया जा रहा है जिसके परिपेक्ष में आर्थिक अपराध अनुसंधान ब्यूरो द्वारा राजकमल डेविडलाल एवं अजय लाल के विरुद्ध मामला दर्ज किया गया है। इस संबंध में इनके द्वारा दमोह न्यायालय में जमानत याचिका भी प्रस्तुत की गई है वहीं इस संबंध में डा. अजय लाल का कहना है कि मेरी पारिवारिक जमीन का हम लोगों ने विक्रय किया है। उसमें क्रेता द्वारा स्टांप ड्यूटी कम जमा किए जाने के कारण यह मामला बनाया गया है जबकि इसमें हम लोगों का कहीं भी किसी भी प्रकार का कोई दोष नहीं है स्टांप ड्यूटी भरने की जिम्मेदारी क्रेता की होती है ना कि विक्रेता की।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close