दतिया-भांडेर । नईदुनिया प्रतिनिधि।

ठगी का शिकार हुए भांडेर क्षेत्र के ग्राम कामद के आधा सैकड़ा से अधिक किसान परिवार अब आर्थिक तंगी को झेल रहे हैं। भरण पोषण के लिए उन्हें अपनी जमीनें तक बेचने की नौबत आ गई है। कारण किसी किसान के यहां बेटी की शादी है तो किसी को बैंक और अन्य लोगों का कर्ज चुकाना है। ऐसे में उनके पास अब कोई चारा नहीं बचा है। पुलिस 20 दिन बाद भी उन ठग व्यापारियों की तलाश नहीं कर पाई है जो गत 25 अप्रैल को इन किसानों की उपज के रुपये लेकर घर व गांव छोड़कर ही भाग निकले। कार्रवाई के नाम पर पुलिस एकमात्र ट्रैक्टर ही जप्त कर पाई।

ठगी का शिकार हुए किसान सुरेश पचौरी निवासी सड़वारा ने बताया कि उन्होंने कामद निवासी गल्ला व्यापारी मोहन धोबी और उसके पुत्र राजेश को 120 क्वि. गेंहूं 2025 रुपसे के भाव से उधार बेचा था। जिसका भुगतान एकमुश्त करने का व्यापारी ने वादा किया था। इन्हीं पैसों से वह अपनी बेटी की शादी करने वाले थे। लेकिन ऐनवक्त पर व्यापारी उपज के रुपये लेकर भाग निकला। सुरेश की बेटी की अगले माह 21 जून को शादी है। उसकी 2 लाख 35 हजार की रकम फंसी होने से वह बेवस हो गया है। बेटी की शादी के लिए मजबूरी में उसे अब अपनी जमीन बेचने की नौबत आ गई। यह कहानी इकलौते इस किसान की नहीं है। ऐसे कई किसान हैं। जिन्हें अब समझ नहीं आ रहा कि वह आगे कैसे गुजर बसर करेंगे। उनका पैसा मिलेगा भी या नहीं। इस मामले में जनप्रतिनिधि और प्रशासन भी चुप्पी साधे बैठा है। किसान एसपी, एसडीओपी को ज्ञापन भी दे चुके हैं। थाना उनाव में मोहन धोबी सहित उसके परिवार के चार लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करवाने के बाद पुलिस भी अब तक इस मामले में आरोपितों तक नहीं पहुंच सकी है। जिससे किसान चिंतित हैं।

घटना को बीते 20 दिन, फिर भी पुलिस के हाथ खाले

कामद निवासी गल्ला व्यापारी मोहन, कमलकिशोर उर्फ बंटी पुत्रगण रामसेवक धोबी तथा मोहन के दोनों पुत्र राजेश एवं संजू को मय परिवार के किसानों से धोखाधड़ी कर फरार हुए 20 दिन गुजर चुके हैं। 25-26 अप्रैल की रात्रि उक्त आरोपितों के फरार होने के बाद पीड़ित किसानों ने 28 अप्रैल को एसपी दतिया तथा एसडीओपी भांडेर को अलग-अलग ज्ञापन दिए थे। इसके बाद उनाव थाने पर पीड़ित किसानों की तरफ से फरियादी रवि दांगी ने उक्त चारों गल्ला व्यापारियों के विरुद्ध धोखाधड़ी के तहत 420 सहित विभिन्ना धाराओं में मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने आरोपितों के रिश्तेदारों के यहां दबिश भी दी। डबरा निवासी उसकी बहिन से भी पूछताछ हुई। लेकिन ठोस नतीजा हासिल नहीं हुआ। इस बीच उनाव पुलिस ने कमल किशोर की ससुराल से एक ट्रैक्टर जरुर जप्त किया। लेकिन इसके बाद से अब तक इस मामले में कोई खास प्रयास नहीं हुए।

किसानों पर टूटा मुसीबतों का पहाड़

गल्ला व्यापारियों की धोखाधड़ी का शिकार कामद निवासी किसान मनीराम प्रजापति ने अपनी पांच बीघा में से एक बीघा जमीन आर्थिक तंग के चलते बिकाऊ कर दी है। किसान ने बताया कि यूनियन बैंक दतिया का केसीसी के रूप में 80 हजार रुपये का ऋण है। उसने मोहन को डेढ़ लाख रुपये मूल्य की 74 क्वि. गेंहूं की उपज बेची थी। जिससे पैसे मिलने पर वह बैंक का कर्ज चुकाने वाला था। लेकिन ठगी हो जाने के बाद अब वह परेशानी में है। बैंक वाले केसीसी जमा करने का लगातार दबाव बना रहे हैं। अब ऐसे में उसके पास जमीन बेचने के अलावा कोई अन्य उपाय नहीं है।

वहीं बेटीबाई पत्नी स्व.घनश्याम प्रजापति निवासी कामद के पास 6 बीघा जमीन है। इन्होंने पीएनबी बैंक शाखा उनाव से 75 हजार रुपये की केसीसी बनवा रखी है। इन्होंने क्षेत्र के अन्य किसानों की तरह अपनी उपज आरोपित गल्ला व्यापारियों को बेची थी। इस मामले में उनका कहना है कि इस बार नगद पर भी कुछ जमीन जोती थी। लेकिन अब आगे की चिंता है कि क्या किया जाए। बैंक वाले केसीसी जमा करने का दबाव बना रहे हैं और अब घर में भी पैसा नहीं है। इनके अलावा राकेश दांगी, राजकुमार दांगी सहित और भी किसान उनके साथ हुई धोखाधड़ी के चलते केसीसी पटाने में असमर्थ हो रहे हैं।

किसान बोले विधायक ने भी नहीं ली सुध

भांडेर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम कामद और इसके आसपास के अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में ठगी का मामला हो जाने के बावजूद पीड़ित किसानों के बीच विधायक का न पहुंचना किसानों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है। इस मामले में किसानों का कहना है कि आधा महीना गुजर गया। लेकिन न तो विधायक और ना ही उनके प्रतिनिधि ने हम पीड़ित किसानों की कोई सुध ली है। प्रशासन की ओर से भी कोई सुनवाई नहीं हुई है।

इनका कहना है-

आरोपितों की तलाश जारी है। हमने तीन से चार टीमें बनाकर आरोपितों के छिपने के संभावित ठिकानों पर दबिश भी दी है। लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी। लेकिन जल्दी ही आरोपितों को गिरफ्तार कर उन पर वैधानिक कार्रवाई कर किसानों की राशि वापिस कराने का प्रयास किया जाएगा। -कर्णिक श्रीवास्तव,

एसडीओपी भांडेर।

-----

हमारे क्षेत्र के अन्नादाताओं के साथ धोखाधड़ी मामले में हमारी नजर पुलिस कार्रवाई पर है। हमने एसपी से भी कहा है कि इस लाखों की धोखाधड़ी मामले की जांच केवल उनाव थाने तक न रखते हुए अन्य टीमों का गठन कर उनके सहयोग से फरार वांछित आरोपितों की शीघ्र गिरफ्तारी की जाए। - संतराम सिरोनिया

विधायक प्रतिनिधि भांडेर।

---

पुलिस ने हमारे सहयोग से आरोपितों का एक ट्रैक्टर जरुर जप्त किया है। लेकिन इसके बाद पुलिस की कार्रवाई शिथिल हो गई। अब हम जल्दी ही आगे की रणनीति बनाने वाले हैं ताकि हमारी मेहनत की कमाई मिल सके। - रवि दांगी कामद, ठगी का शिकार हुआ किसान।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local