दतिया । नईदुनिया प्रतिनिधि।

शनिवार को दतिया में भक्तों का मेला उमड़ पड़ा। पीतांबरा पीठ से लेकर कृषि उपज मंडी तक के मार्ग पर सिर्फ महिला पुरुषों की भीड़ ही नजर आ रही थी। सुबह से लेकर दोपहर तक इस मार्ग पर पैदल तक चल पाना मुश्किल हो रहा था। स्थानीय लोग बमुश्किल अपने दो पहिया वाहन लेकर यहां से निकल सके। इस भीड़ की वजह शनिवार को पीतांबरा पीठ पर आने वाले श्रद्धालुओं के साथ ही स्टेडियम में चल रही पार्थिव शिवलिंग निर्माण के दौरान आयोजित हनुमत कथा में बागेश्वरधाम महाराज पं.धीरेंद्रकृष्ण शास्त्री का दिव्य दरबार रहा। जिसमें शामिल होने देश के कोने-कोने से श्रद्धालु दतिया पहुंचे थे। दिव्य दरबार के दौरान स्टेडियम के तीनों पंडालों के साथ आसपास भी जमकर श्रद्धालुओं की भीड़ रही। जिसे संभालने के लिए पुलिस को खासी मशक्कत करनी पड़ी।

पार्थिव शिवलिंग निर्माण कार्यक्रम में सुबह गृहमंत्री डा.नरोत्तम मिश्रा ने स्टेडियम में पार्थिव शिवलिंग निर्माण कर पूजा अर्चना की। गृहमंत्री डा.मिश्रा इस दौरान बागेश्वरधाम सरकार के संत धीरेंद्रकृष्ण शास्त्री के दिव्य दरबार में भी सम्मिलित हुए एवं हनुमत कथा का श्रवण किया। गृहमंत्री ने आयोजित आरती में भाग लिया। दिव्य दरबार में पं.धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने भक्तजनों की समस्याओं का निराकरण किया। इस धार्मिक आयोजन के दौरान भंडारा भी प्रतिदिन हो रहा है। जिसमें भी हजारों की संख्या में श्रद्धालु प्रसादी ग्रहण करने पहुंचते हैं। वहीं दोपहर 2 बजे के बाद पार्थिव शिवलिंग के विसर्जन की प्रक्रिया शुरू होती है। जिसमें ट्रैक्टर ट्रालियों में रखकर शिवलिंग पहुंज नदी में विसर्जन के लिए रवाना किए जाते हैं।

स्थानीय स्टेडियम ग्राउंड में आयोजित पार्थिव शिवलिंग निर्माण में तीसरे दिन शनिवार को दोपहर 12 बजे से 2 बजे तक बागेश्वरधाम महाराज का दिव्य दरबार लगाया गया। जिसमें बागेश्वरधाम महाराज पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने दतिया शहरवासियों के अलावा देश के कोने-कोने से आए भक्तों की समस्याओं का समाधान किया और सुझाव बताएं। इस दौरान पूरा स्टेडियम ग्राउंड सहित मंडी प्रांगण और सड़क पर जनसैलाब ही देखने को मिला रहा था। दिव्य दरबार के दौरान श्रद्धालुओं को पंडाल में संभालना काफी मुश्किल हो रहा था। मंच से बार-बार व्यवस्था को लेकर समझाइश दी जा रही थी। पं.धीरेंद्रकृष्ण शास्त्री ने बारी-बारी से श्रद्धालुओं को बुलाया और उनकी समस्या का निवारण बताया। उन्होंन पर्चे पर लिखकर संबंधित को उसकी समस्या का निराकरण दिया।

मां पीतांबरा के भजनों पर झूमे श्रद्धालु

शाम 4 बजे से शुरू हुई हनुमत कथा में पं.धीरेंद्रकृष्ण शास्त्री ने मां पीतांबरा और मां धूमावती का स्मरण कर दतिया की पावन धरा पर विराजमान इस पीठ को विशेष बताया। उन्होंने कहाकि जब भी देश पर आपदा आई मां पीतांबरा पीठ की आध्यात्मिक शक्तियों ने देश का मान बचाया। कथा के दौरान मां पीतांबरा का भजन सुनाकर उन्होंने श्रद्धालुओं को झूमने पर मजबूर कर दिया। उन्होंने व्यासपीठ से आव्हान किया कि सनातन धर्म को बचाने के लिए अपना कर्तव्य निभाएं। उन्होंने कहाकि वह दतिया के हजारों श्रद्धालुओं के लिए कथा करने के लिए ही दतिया आएं हैं।

पीतांबरा पीठ के नए गेट पर लगा रहा जमावड़ा

6 अगस्त को शनिवार होने के कारण पीतांबरा पीठ पर बाहरी श्रद्धालुओं का जमावड़ा रहा। श्रद्धालुओं की सुविधा को देखते हुए पीतांबरा पीठ का नवनिर्मित गेट भी खोल दिया गया। जहां काफी भीड़भाड़ दिखाई दी। पीतांबरा पीठ पर दर्शन करने आए श्रद्धालु स्टेडियम में बागेश्वरधाम महाराज के दिव्य दरबार में भी शामिल होने पहुंचे। जिसके कारण भीड़ बढ़ गई। स्टेडियम में भी श्रद्धालु की संख्या अनुमान से अधिक हो जाने पर व्यापक प्रबंध करने पड़े। पुलिस को भी श्रद्धालुओं को संभालने के लिए अतिरिक्त बल लगाना पड़ा।

आज होगा भभूति वितरण

पार्थिव शिवलिंग निर्माण के दौरान आज 7 अगस्त को आयोजन में सन्यासी बाबा की भभूति का वितरण किया जाएगा। इसकी तैयारी पहले से ही शुरू हो गई थी। जिसमें आयोजन समिति के कार्यकर्ताओं ने पुडिया तैयार करा ली हैं। कल 8 अगस्त को आयोजन का विश्राम होगा। धार्मिक आयोजन के दौरान हर रोज शाम 7.30 बजे सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हो रहे हैं। जिसमें बाहर से आने वाले कलाकार भजनों की प्रस्तुति देते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close