दतिया (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दिनारा रोड पर क्लीनिक चलाने वाले झोलाछाप डाक्टर के गलत इंजेक्शन लगा दिए जाने से एक किशोरी की मौत हो गई। मृतक किशोरी के स्वजन ने आरोपित झोलाछाप डाक्टर व उसके कंपाउंडर के विरुद्ध पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। घटना के बाद पुलिस ने किशोरी के शव का पीएम कराया और स्वजन के सुपुर्द कर दिया। जानकारी के अनुसार हमीरपुर उप्र के ग्राम मकरौआ निवासी 16 वर्षीय किशोरी मुस्कान साहू दतिया में दिनारा रोड निवासी अपने नाना जयकिशन साहू के यहां आई हुई थी।

गत मंगलवार मुस्कान की तबीयत अचानक खराब हुई और उसके पेट में दर्द होने लगा। इस पर उसके नाना ने पास में ही क्लीनिक संचालक के कंपाउंडर सुमित वंशकार को उपचार के लिए बुला लिया। उपचार के दौरान कंपाउंडर ने एक इंजेक्शन लगाया। जिसके बाद मुस्कान की हालत बिगड़ने लगी। इस बात की खबर क्लीनिक के डाक्टर को दी गई। डाक्टर ने भी वहां पहुंचकर किशोरी को दूसरा इंजेक्शन लगा दिया। झोलाछाप डाक्टर का उपचार किशोरी की जान पर आफत बन गया और गंभीर हालत में स्वजन उसे जिला अस्पताल लेकर दौड़े।

किशोरी के स्वजन के मुताबिक हालत ज्यादा बिगड़ने पर वह मुस्कान को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। जहां उपचार के दौरान किशोरी की मौत हो गई। इस बात की खबर लगते ही उपचार करने वाला झोलाछाप डाक्टर इंजेक्शन उठाकर भाग निकला। मौके पर पहुंची कोतवाली पुलिस ने मर्ग कायम कर किशोरी के शव का पीएम कराया। पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है। झोलाछाप डाक्टरों के कारण किसी मरीज की जान जाने का यह कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी यहां ऐसे हादसे हुए, लेकिन सिर्फ खानापूर्ति कर स्वास्थ्य विभाग चुप बैठ गया। एक लंबे समय से दिनारा रोड पर झोलाछाप डाक्टरों का बाजार सजा हुआ है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग ने कभी भी यहां जांच पड़ताल करने की कोशिश तक नहीं की। सिर्फ ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंचकर स्वास्थ्य विभाग की टीमें इक्का-दुक्का दुकानों पर कार्रवाई कर औपचारिकता पूरी करती रहती हैं। जबकि शहरी क्षेत्र में स्वास्थ्य महकमे के वरिष्ठ अधिकारियों के होते हुए भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close