बसई (नईदुनिया न्यूज)। लगातार हो रही झमाझम बारिस से एक बार फिर माताटीला बांध के 20 गेट 12-12 फुट तक खोलने पड़ गए। इन गेटों से 3 लाख 20 हजार क्यूसेक पानी निकाला जा रहा है। जिससे बेतवा नदी का जलस्तर बढ़ गया है। नदी में उफान देखकर नदी किनारे बसे ग्रामीणों की चिंता बढ़ गई है। वहीं बांध में पानी आने से सैलानियों की संख्या में भी एकाएक इजाफा हो गया। बरधुवां स्थित राजाशाही समय के प्राचीन तालाब में भी झरने बह निकले। जिनकी सौंदर्य को देखने लोग पहुंचने लगे हैं। सौंदर्य से भरपूर प्राकृतिक झरनों के द्ृश्य को लोग अपने मोबाइलों में कैद करते नजर आए। इधर लगातार हो रही बारिस से किसानों को अब अपनी फसलें खराब होने की चिंता भी सताने लगी है। बसई क्षेत्र के बेतवा किनारे बसे गांवों के खेतों में पानी भरा होने से फसलें नष्ट होने की कगार पर आ गई हैं। किसान अपनी मेहनत को पानी मिलते देखने को विवश हैं। प्रसिद्ध भैरारेश्वर मंदिर में भी पानी पहुंच गया है।

सोन तलैया में आज जलबिहार करेंगे श्रीलक्ष्मणबाला सरकार

भांडेर (नईदुनिया न्यूज)। भाद्रपद कृष्णपक्ष एकादशी के अवसर पर आज सोन तलैया स्थित श्रीलक्ष्मणबाला सरकार का एकदिवसीय वार्षिक जलविहार उत्सव मनाया जाएगा। वर्तमान में सौंदर्यीकरण के तहत सोन तलैया क्षेत्र में निर्माणकार्य चल रहा है। इस निर्माण के चलते सोन तलैया कुंड के पानी का उपयोग किए जाने के चलते गुरुवार तक यह कुंड पूर्णतः खाली था और लोग चिंतित थे कि कैसे इस बार श्रीलक्ष्मणबाला सरकार का विमान सोन तलैया में विहार करेंगे। लेकिन शुक्रवार से बारिश का दौर शुरू हुआ जिसके बाद कुंड में पानी भर गया। इस कुंड की गहराई अनुमानित 30 से 35 फीट है। रविवार शाम तक 6 से 7 फीट पानी इस कुंड में इकट्ठा हो चुका था। बारिश के बाद श्रीलक्ष्मणबाला सरकार की इस कुंड में जल विहार परंपरा अब आसानी से निभाई जा सकेगी।

स्थानीय निवासियों की मानें तो उनके देखते-देखते केवल दो बार ही यह कुंड पूर्णतः खाली देखा गया। पहली बार लगभग डेढ़ दशक पूर्व तब जब इस मंदिर पर फट्टी वाले बाबा रहा करते थे। कुंड का उत्तर क्षेत्र का मुहाना सनकुआं से जुड़ा बताया जाता है। कुंड में प्राकृतिक मदद के बाद पानी आने से उत्सव की तैयारियों का निरीक्षण करने रविवार को विधायक प्रतिनिधि संतराम सिरोनिया सोन तलैया कुंड पहुंचे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close