सेवढ़ा (नईदुनिया न्यूज)। सेवढ़ा में तीन दिन तक डूबा रहा छोटा पुल गुरुवार को जल स्तर उतरने के बाद खुल गया। लोगों का अनुमान था कि पुल से पानी हटने के बाद आवागमन चालू हो जाएगा। लेकिन पानी उतरने के बाद पुल कई जगह क्षतिग्रस्त हो गया। जिससे लोगों की चिंता बढ़ गई। बता दें कि गत वर्ष आई बाढ़ के बाद सेवढ़ा का मुख्य पुल बह गया था। इसके बाद राजतंत्र के जमाने में बना छोटा पुल एक मात्र सहारा बचा था। उस वक्त इस छोटे पुल की ऊपरी सतह भी उखड़ गई थी। जिसके बाद मप्र सड़क विकास निगम की चंबल डिबीजन द्वारा बड़ी राशि खर्च कर छोटे पुल को दुरस्त करवाया गया। यह कार्य भी भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया है। पुल से पानी उतरने के बाद पुल की ऊपरी सतह गायब थी जो कि बीते वर्ष तैयार की गई थी। मौके पर पहुंचे एसडीएम अनुराग निंगवाल ने अधिकारियो को आवागमन दोबारा चालू कराने के लिए हर संभव प्रयास के निर्देश दिए। जिसके बाद देर शाम पुल पर डस्ट डलवाकर अस्थाई आवागमन चालू करवाने की तैयारी की गई। गत वर्ष की तुलना में पानी कम होने के कारण लगभग 60 घंटे बाद पुल का पानी उतर गया। गुरुवार को जैसे ही पुल खुला तो बीते वर्ष हुए काम की भी पोल खुल गई। पुल का एक बड़ा हिस्सा जिसको बीते वर्ष ही डलवाया गया था, वह उखड़ गया। इतना ही नहीं जो ब्हीलगार्ड लोगों की सुरक्षा के लिए पुल के दोनों ओर लगवाए गए थे, वह खुद तो निकले ही पुल की ऊपरी सतह को भी साथ ले गए। इस प्रकार पुल के दोनों ओर गड्डे बन गए। महज दो माह पहले लगवाई गई रैलिंग कहीं नजर नहीं आ रही। सौ से अधिक स्थानों पर पुल लगाई गई रैलिंग अब 5-10 स्थानों पर ही दिख रही है। तीन दिन से पुल पर पानी होने के कारण यातायात बंद था। जैसे ही लोगों को पुल खुलने की खबर मिली तो वह नदी पार करने के लिए निकल पड़े पर इसका बड़ा हिस्सा क्रेक होने के कारण पुलिस प्रशासन ने वाहनों की आवाजाही को रोक दिया। नतीजतन लगातार चौथे दिन भी पुल पर वाहन नहीं निकल सके। दोपहर 12 बजे सेवढ़ा एसडीएम अनुराग निंगवाल एवं सीएमओ नागेंद्र सिंह गुर्जर ने पुल का दौरा किया। लोगों ने अपनी समस्या अधिकारियों के समक्ष रखी। इसके बाद एसडीएम श्री निंगवाल ने नगर परिषद सीएमओ को तात्कालिक तोर पर आवाजाही प्रारंभ करवाने के लिए डस्ट के जरिए गड्डे भरने के निर्देश दिए तथा सड़क विकास निगम को नोटिस जारी करने की बात कही।

एसडीएम ने बताया कि पुल की ऊपरी सतह और ब्हीलगार्ड एवं रैलिंग पानी में बह गई। कुछ स्थानों पर गड्डे हो गए है। चूंकि पुल सड़क विकास निगम की जिम्मेदारी में है, ऐसे में पुल की मरम्मत का कार्य सड़क विकास निगम के माध्यम से करवाया जाएगा। निर्माण में समय लग सकता है, इसको देखते हुए फिलहाल नगर परिषद के माध्यम से टूटे हुए हिस्से पर डस्ट मुरम आदि डलवाई जा रही है। इससे वाहनों का निकलना प्रांरभ हो जाएगा। 15 सितम्बर के बाद जब पानी का बहाव कम होगा अथवा डेम से पानी छोड़ने की संभावना कम होगी तब स्थाई तौर पर पुल को दुरस्त करवाया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close