दतिया-भांडेर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कुआं पूजन कार्यक्रम में जा रहे बाइक सवार सड़क हादसे का शिकार हो गए। इस हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई। जबकि एक गंभीर रुप से घायल है। घायल नीरेंद्र के मुताबिक बाइक पर सवार होकर सभी लोग बड़ेरा सोपान में उसकी बहन के घर जा रहे थे तभी एक तेज रफ्तार कार ने उनकी कार में टक्कर मार दी। जिसमें यह दर्दनाक हादसा हुआ।

तहसील मुख्यालय भांडेर से 6 किमी दूर भांडेर लहार रोड पर तिगराकला के पास कार-बाइक भिड़ंत घटना की जानकारी वहां से गुजर रहे राहगीर ने हंड्रेड डायल पर दी। जिसके बाद मौके पर पहुंचे डायल हंड्रेड के कर्मचारियों ने मौजूद लोगों के सहयोग से 108 एम्बुलेंस की मदद लेकर दो घायलों को पहले भांडेर अस्पताल पहुंचाया। लेकिन वहां एक घायल ने दम तोड़ दिया। इसके बाद दूसरे घायल को उपचार के लिए इसी एम्बुलेंस से जिला अस्पताल और फिर यहां से उनके स्वजन ग्वालियर ले गए। जिसकी हालत अभी खतरे से बाहर बताई जा रही है। हादसा इतना भीषण था कि अपाचे बाइक सवार चार युवकों में से दो ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। वहीं कार भी बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई। लेकिन सभी कार सवार मौके से भागने में सफल हो गए। इस हादसे में प्रभात राजपूत पुत्र भगवान सिंह राजपूत 22 निवासी मियांपुर बजेरा थाना चिरगांव झांसी, चंद्रशेखर राजपूत पुत्र कमल सिंह राजपूत 25 निवासी पुलगाना थाना मोठ झांसी, दिलीप राजपूत पुत्र सगुन राजपूत 27 निवासी रंगुवा झांसी की मौत हो गई। जबकि नीरेंद्र राजपूत पुत्र भानु प्रताप राजपूत उम्र 22 वर्ष निवासी छपार थाना मोठ झांसी गंभीर रुप से घायल हो गया।

कुंआ पूजन कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे थे चारों युवकः सड़क हादसे के बाद जीवन और मौत के बीच संघर्ष कर रहे घायल नीरेंद्र राजपूत अपने तीन अन्य साथियों के साथ अपाचे बाइक पर सवार था और बड़ेरासोपन में बहनोई नरेंद्र राजपूत के यहां कुंआ पूजन कार्यक्रम में सम्मिलित होने जा रहा था। दरअसल नीरेंद्र के बहिन बहनाई सपना और नरेंद्र के यहां बेटे का जन्म हुआ था। इसी उपलक्ष में गांव में कुंआ पूजन कार्यक्रम था। जिसमें यह सभी युवक बाइक से शामिल होने जा रहे थे। रात्रि सवा दस बजे उनकी बाइक भांडेर के रास्ते जब तिगरा और चंदरौल के बीच पहुंची, तभी पंडोखर तरफ से आ रही कार से उनकी भिड़ंत हो गई। मौके पर पहुंची एफआरवी चालक कपिल द्विवेदी ने बताया कि हादसा इतना भीषण था और घायल और मृतक कार के साथ कई फुट दूर तक घिसटते हुए चले गए। घटना की जानकारी मिलने पर नरेंद्र राजपूत के यहां उत्सव की खुशियां मातम में बदल गईं।

बागपुरा नहीं जाते तो शायद टल जाती मौत की घड़ीः इन चारों युवकों के अलावा एक बाइक और इनके साथ थी। जब यह लोग बागपुरा मोड़ के पास पहुंचे तो नीरेंद्र और इनके तीनों साथी बागपुरा निवासी अंकित राजपूत से मिलने चले गए। वहीं दूसरी बाइक पर सवार लोग बड़ेरा सोपान निकल गए। इसके बाद हादसे के प्रभावित चारों लोग अंकित से मुलाकात कर जब बड़ेरासोपान के लिए निकले तो मुख्य मार्ग पर तिगराकला और चंदरौल के बीच हादसे का शिकार हो गए। इस हादसे को लेकर उनके स्वजन का कहना था कि अगर यह लोग बागपुरा नहीं जाते तो शायद हादसे की घड़ी टल सकती थी। इस हादसे में जान गंवाने वाला दिलीप राजपूत ही शादीशुदा और परिवार में इकलौता था। जिसकी दो साल पहले शादी हुई थी और सात माह की बेटी है। वहीं दो अन्य मृतक प्रभात तथा चंद्रशेखर तथा घायल नीरेंद्र अविवाहित बताए जाते हैं। घायल नीरेंद्र का उपचार ग्वालियर में चल रहा है। पुलिस ने इस संबंध में कार चालके के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close