दतिया (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जैन तीर्थ स्थल सोनागिर में हुई डकैती का पुलिस ने छह दिन बाद गुरुवार को खुलासा कर दिया। एसपी अमन सिंह राठौड सहित 10 पुलिस टीमों ने दिन रात एक कर दो आरोपितों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की। पकड़े गए बदमाशों के पास से एक लाख रुपये की नकदी और दो कट्टे बरामद किए हैं। अन्य आधा दर्जन बदमाशों के नाम और पते भी पुलिस ने जुटा लिए हैं। जिनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमें रवाना की गई हैं। वहीं पुलिस पूछताछ में घटना के मास्टरमाइंड सुनील कुशवाह निवासी सेवनी ने बताया कि जैन धर्मशाला में वह नौकरी करता था। जहां से निकाले जाने के कारण बदला लेने की नियत से उसने मंदिर में डकैती की योजना बनाई थी।

डकैती की बड़ी घटना का खुलासा करते हुए एसपी अमन सिंह राठौड़ ने बताया कि 10 सितंबर को सोनागिर स्थित चंद्रप्रभु भगवान मंदिर के गार्ड हरिमोहन यादव निवासी महेवा ने घायल अवस्था में जिला अस्पताल में रिपोर्ट कराई थी कि 9 सितंबर की रात्रि में सैनिक आनंद कुमार के साथ वह ड्यूटी कर रहा थे। तभी रात करीब डेढ़-दो बजे मंदिर के पीछे के गेट का ताला तोडकर 7-8 हथियारबंद बदमाश हाथ में कट्टा, सरिया, लाठी लेकर आए और उन दोनों की मारपीट कर बंधक बनाकर मंदिर के पीछे ले गए। इसके बाद बदमाशों ने मंदिर के अंदर जाकर मंदिर की दोनों कांच की दानपेटी तोड़कर उसमे रखी राशि लूट ली। इस दौरान बदमाश मंदिर में लगे सीसीटीव्ही कैमरे तोड़ गए साथ ही कैमरे की रिकार्डिंग वाला डीवीआर एवं दोनों गार्डों के मोबाईल भी छीन कर ले गए थे। इस घटना को लेकर सोनागिर थाने में डकैती का प्रकरण दर्ज किया गया। सूचना पर एडीजी चंबल जोन राजेश चावला ने भी एसपी राठौड के साथ घटना स्थल पर पहुंचकर मुआयना किया। बदमाशों पर 30-30 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया गया।

धर्मशाला में काम करने वाला ही निकला आरोपित

पकड़े गए आरोपित सुनील कुशवाह ने पुलिस को बताया कि बीसपंथी धर्मशाला में वह अपने पिता शीतल कुशवाह के साथ साफ सफाई का काम करता था। सुनील की शराब पीकर मंदिर आने की आदत से तंग आकर धर्मशाला वालों ने उसे काम से निकाल दिया था। इसके बाद पिछले 15-20 दिन पहले भी कुंदकुंद धर्मशाला में साफ-सफाई का काम सुनील फिर से करने लग गया था। लेकिन यहां भी शराब पीकर काम करने आने पर धर्मशाला मैनेजर ने उसे 7 सितंबर को काम से निकाल दिया था। इसी बात से नाराज होकर सुनील कुशवाह ने मन में जैन मंदिर को लूटकर बदला लेने की ठान ली।

इस तरह बनाई डकैती डालने की योजना

लूटपाट के लिए सुनील ने अपने साथी लल्ला परिहार से बात की। 8 सितंबर को आरोपित सुनील कुशवाह एवं लल्ला परिहार निवासीगण सेवनी ने चंद्रप्रभु मंदिर में रखी दानपेटी लूटने की योजना बनाई। जैन पर्व के कारण मंदिर में काफी धनराशि दानपेटी में एकत्रित थी। सुनील कुशवाह मंदिर में साफ सफाई करने का काम कर चुका था। इसलिए उसे मंदिर के सभी रास्ते मालूम थे। घटना के पहले उक्त आरोपितों ने पहाड़ की तरफ की रास्तों को भी देखा। मंदिर में डकैती डालने के लिए सुनील और लल्ला परिहार ने अपने साथी रवि परिहार निवासी घूघसी, भूरा कुशवाह पुत्र भिड्डा कुशवाह निवासी दतिया, भूरा उर्फ सगुन केवट निवासी कुलैथ, सुनील कुशवाह निवासी खिरिया को 8 सितंबर को सोनागिर बुलाया एवं पहाड़ी के पीछे बडौनी रोड पर बैठकर योजना बनाई। 9-10 सितंबर को सभी महेवा की पुलिया पर मिले। जहां भूरा केवट अपने साथ दो लड़के और लेकर आया था। सभी लोग रात्रि में करीब 10 बजे एक-एक करके 5 लोग सेवनी तरफ से एवं 3 लोग बडौनी तरफ से पहाड़ी की झाडियों में जाकर छुप गए। बदमाशों के पास 4 कट्टे, 1 अधिया, सरिया, लाठी, रस्सा, बोरी आदि थे। रात्रि करीब 1 बजे पहाड़ी पर चढ़कर मंदिर के पीछे की बाउंड्री की रेलिंग पर रस्सा डालकर बदमाश मंदिर में प्रवेश कर गए। रवि के पास सरिया था। जिससे मंदिर के पीछे का ताला तोड़ा और सभी एक साथ मंदिर के अंदर मुंह बांधकर घुसे और वहां सो रहे दोनों गार्डों को बंधक बनाकर मारपीट कर मंदिर के पीछे ले गए। रवि परिहार दोनों गार्डों के पास कट्टा अडाकर खड़ा रहा। फिर सभी ने मंदिर के अंदर जाकर पहले सीसीटीव्ही कैमरे तोडे? एवं मंदिर में लगा डीवीआर भी तोड़कर निकाल लिया। उसके बाद मंदिर में रखी कांच की दानपेटियों को तोड़कर उसमें रखी धनराशि बोरे में भरकर ले गए। दोनों गार्डों के मोबाईल भी छीनकर मंदिर के पीछे बाउंड्री फांदकर वापस उसी रास्ते से नीचे उतरकर बडौनी तरफ भाग निकले। गुप्तेश्वर मंदिर के पास पहाडियों के पीछे बदमाशों ने लूट की रकम में से सुनील को साठ हजार रुपये एवं लल्ला परिहार को पैंतालीस हजार रुपये देकर बाकी राशि लेकर बदमाश चले गए। आरोपित लल्ला परिहार एवं सुनील कुशवाह ने बताया कि मंदिर की डीवीआर पत्थर से कुचलकर रामसागर तालाब में फैंक दी थी। जबकि दोनों गार्डो के मोबाईल तोड़कर मंदिर के पीछे पहाड की झाडियों में फेंक दिए थे।

बदमाशों तक पहुंचने के लिए करनी पड़ी मशक्कत

एसपी राठौड ने बताया कि आरोपित लल्ला उर्फ पंजाब परिहार पुत्र जगदीश परिहार निवासी सेवनी थाना सोनागिर को गिरफ्तार कर उसके पास से एक 315 बोर का कट्टा, एक मोबाईल की चिप, एक लाल सफेद चौखाने का रक्त रंजित कपडा व 45 हजार रुपये बरामद हुए हैं। जबकि पकड़े गए दूसरे आरोपित सुनील पुत्र शीतल कुशवाह निवासी सेवनी के पास से एक 12 बोर की देसी अधिया 55 हजार रुपये नकद बरामद हुए हैं। एसपी राठौड़ ने बताया कि छानबीन के दौरान पुलिस ने जिले के 109 बदमाशों को भी चैक किया। घटना वाले दिन उनकी मूवमेंट की जानकारी ली गई। इसके साथ ही एसपी राठौड ने आसपास के 8 जिलों के पुलिस अधीक्षकों से बातचीत कर उन क्षेत्रों की जेल से रिहा हुए लोगों की जानकारी भी जुटाई। करीब सौ सीसीटीवी फुटेज चैक किए गए। साथ ही मोबाइल सीडीआर का विश्लेषण किया गया। इसके बाद शक की सुई मंदिर में काम करने वाले स्थानीय लोगों की ओर घूमी। पुलिस ने मुखबिर तंत्र सक्रिय किया तो पता चला कि बदमाश लल्ला परिहार हाल में ही बडौनी क्षेत्र में देखा गया था। जिसकी गिरफ्तार के साथ ही सारा राज सामने आ गया। रामसागर तालाब में तोड़ के डाली डीवीआर को निकालने के लिए भी गोताखोर और एसटीआरएफ की टीम को लगाया गया है। गार्डों के मोबाइल की सिम बरामद कर ली गई है। अन्य 6 बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए टीम रवाना की गई है। आरोपित पकड़े जाने पर जैन समाज ने गृहमंत्री डा.नरोत्तम मिश्रा को सम्मानित किया है। वहीं जैन समाज के लोगों ने दतिया में एसपी राठौड व एएसपी कमल मौर्य सहित पुलिस टीम को सम्मानित किया।

धरपकड़ में रही इनकी भूमिका

पुलिस दतिया श्रीमान अमन सिंह राठौर द्वारा गठित एसआईटी टीम में शामिल अति. पुलिस अधीक्षक कमल मौर्य के नेतृत्व में दीपक नायक एसडीओपी बङोनी, कर्णिक श्रीवास्तव एसडीओपी भांडेर, वैभव गुप्ता थाना प्रभारी डीपार, अजय अम्बे थाना प्रभारी चिरुला, विजय लोधी थाना प्रभारी, यादवेन्द्र सिंह गुर्जर थाना प्रभारी उनाव, रिपुदमन सिंह राजावत थाना प्रभारी पंडोखर, रचना माहौर थाना प्रभारी सिनावल, आकाश संसिया थाना प्रभारी सरसई, नीरज थाना प्रभारी जिगना, उपनिरीक्षक शैलेंद्र सिंह गुर्जर थाना प्रभारी बड़ौनी सायवर सेल प्रभारी एएसआई संजीव सिंह की इस कार्रवाई में भूमिका रही।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close