सेंवढ़ा। वर्ष 2011 में आयोजित संविदा शाला शिक्षक वर्ग-3 की परीक्षा पास कर चुके सैकड़ों बीपीएड धारी अब तक नियुक्ति की आस में भटक रहे हैं। इनके द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र भेजकर उन्हें नियमानुसार नियुक्ति दिलाने की मांग की गई।

आवेदन पत्र में बताया गया कि बीपीएड धारी आवेदकों ने वर्ष 2011 में व्यापमं द्वारा आयोजित संविदा शाला शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण की थी। चूंकि उनके पास शारीरिक शिक्षा संबंधी डिप्लोमा है और भर्ती आयोजित करने के दौरान शासन ने प्रदेश में शारीरिक शिक्षा लागू करने के लिए प्रत्येक शाला में एक-एक शिक्षक शारीरिक शिक्षा का नुयक्त करने का आश्वासन दिया था। ऐसे में उनका दावा भर्ती में शामिल होने का बनता है। बावजूद इसके शासन द्वारा अब उनके दस्तावेजों का सत्यापन नहीं कराया और न ही व्यापमं शिक्षक की रिक्तियां जारी की गईं। जिससे दो वर्ष बीत जाने के बाद भी वह भर्ती के लिए परेशान हैं। आवेदन में उम्र एवं व्यापमं पात्रता परीक्षा की समयावधि का जिक्र किया गया जो कि वर्ष 2014 में समाप्त हो जाएगी। अवधि समाप्त होते ही वह हमेशा के लिए बेरोजगार रह जाएंगे। वहीं 9 जून 2013 में तत्कालीन स्कूल शिक्षा मंत्री अर्चना चिटनिस द्वारा की गई घोषणा का भी जिक्र किया गया, जिसमें 594 रिक्तियां जारी करने की बात की गई थी, पर अब तक इस ओर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local