देवास (नईदुनिया प्रतिनिधि)। देवास गौरव दिवस महोत्सव के दूसरे दिन मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान चुनरी यात्रा में शामिल हुए। उन्होंने कुशाभाऊ ठाकरे स्टेडियम में आयोजित सभा में कहा कि मां चामुंडा की कृपा हम पर बरसती रही। कोई भी शहर का विकास तब तक संभव नहीं हो सकता है, जब तक वहां की जनता खड़ी न हो जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि देवास वालों देवास आगे बढ़ रहा है। इस मंच से कह रहा हूं कि आने वाले दस वर्षों में देवास दुनिया के प्रमुख शहरों की सूची में शामिल हो जाएगा।

चौहान ने कहा कि मप्र का सबसे बड़ा फ्लाईओवर कहीं बन रहा है तो आपके देवास में बन रहा है। औद्योगिक क्षेत्र का विकास, मिनी सुपरकारिडोर सहित कई विकास कार्य हो रहे हैं। माता टेकरी का विकास और सुंदरीकरण हो रहा है। गरीबों के मकान बनाए जा रहे हैं। स्टेडियम बनाया गया है।

उन्‍होंंने कहा कि मैं कह सकता हूं कि मप्र में देवास शहर जैसा विकास बहुत कम शहरों में हुआ है। ये विकास रुकेगा नहीं। ये विकास का पहिया चलता रहेगा। इंटरनेशनल एयरपोर्ट देवास में आ चुका है। देवास दस साल में देश का अद्बुत शहर होगा। इसको आगे बढ़ाने में सरकार कोई कसर नहीं छोड़ेगी। मैया से चाहता हूं...हे मां हमारे देश पर, प्रदेश पर कृपा बरसाते रहना। मंच पर चुनरी की पूजा के बाद यात्रा शुरू हुई।

दो घंटे में यात्रा माता टेकरी पर पहुंची। जहां मां चामुंडा व मां तुलजा भवानी को चुनरी अर्पित की गई है। विधायक गायत्री राजे पवार ने स्वागत भाषण दिया। इस दौरान जिले की प्रभारी मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया, विधायक गायत्री राजे पवार, सांसद महेंद्र सोलंकी, भाजपा जिला अध्यक्ष राजीव खंडेलवाल, विधायक, कलेक्टर चंद्रमौली शुक्ला, नगर निगम आयुक्त विशालसिंह चौहान सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने मंच से 350 करोड़ रुपये से अधिक लागत के विकास कार्यो का लोकार्पण और भूमिपूजन एवं शिलान्यास किया।

'माफिया व लोगों की जमीन दबाने वाले मप्र की धरती छोड़ दें"

मुख्यमंत्री ने कहा कि मां ने खुशी आशीर्वाद भी दिया है। मां ने ये भी सिखाया है कि अगर कहीं गड़बड़ हो तो अन्याय के खिलाफ लड़ना चाहिए। अगर दुष्टों ने सज्जन शक्ति को सताया तोे मां कोप ऐसा बरसा कि असुर समाप्त कर दिए गए। हमारी सरकार सज्जन के लिए फूल से ज्यादा कोमल हैं। दुष्टों के लिए वज्र से ज्यादा कठोर है। मप्र में जो मां बहन, बेटी की बेइज्जती करेगा, उसे छोड़ा नहीं जाएगा। मासूम के साथ कहीं दुराचार की घटना हुई तो फांसी के फंदे पर लटका दिया जाएगा। हम किसी कीमत पर नहीं छोड़ेंगे। माफिया व लोगों की जमीन दबाने वाले मप्र की धरती छोड़ दें। मप्र में कहीं गड़बड़ी की तो किसी भी कीमत पर नहीं छोड़ेंगे। माफिया से जमीन छुड़ाई, उस जमीन पर गरीबों के लिए कालोनी बनाने का काम होगा। सुशासन का राज रहेगा। गड़बड़ करने वालों को नहीं छोड़ेेंगे।

देवास के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने तय किया है कि सरकारी अधिकारी गांव व जनता के पास जाकर समस्या का समाधान करेंगे। मैं नेतृत्व को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि देवास के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ूंगा। देवास की जनता कोई न कोई काम को लेकर संकल्प ले। आपके सहयोग से देवास हिंदुस्तान का ऐसा अद्बुत शहर बनेगा, जहां भक्ति भी रहेगी, शक्ति भी रहेगा और विकास भी होगा। कोई न कोई एक काम करे। दूसरे की सेवा करें। मुख्यमंत्री ने संकल्प दिलाया कि देवास के विकास के लिए अपने कर्तव्य की पूर्ति के लिए कोई न कोई जनसेवा करें।

अद्भुत स्वागत देखकर मुख्यमंत्री चलने लगे पैदल...

कुशाभाऊ ठाकरे स्टेडियम से चुनरी यात्रा शुरू हुई। इसमें करीब 50 हजार से ज्यादा महिलाएं शामिल हुईं। धूप में चुनरी की छौव में महिलाएं नृत्य करती यात्रा में शामिल हुईं। कई बुजुर्ग महिला भी उत्साह से सिर पर कलश लेकर यात्रा में शामिल हुईं। कुछ दूरी तक मुख्यमंत्री चौहान कार में खड़े होकर यात्रा में शामिल हुए। अद्भुत स्वागत और लोगों का स्नेह देखकर वे कार से उतरे और करीब एक किमी से ज्यादा समय कर बरसे फूलों के बीच चुनरी यात्रा में स्वयं पैदल चले।

प्रमुख बिंदु

बरसते पुष्प के बीच हाथ जोड़कर करते रहे अभिनंदन...स्वागत में सड़क पर बिछ गए पुष्प

-एक जैसी साड़ी में 50 हजार से ज्यादा महिलाएं शामिल हुई

-दो किमी से ज्यादा लंबी चुनरी यात्रा निकाली

-स्वयं मुख्यमंत्री एक किमी तक यात्रा में लोगों के साथ पैदल चले

-200 से ज्यादा मंचों से मुख्यमंत्री पर बरसे पुष्प, हुआ स्वागत

-चुनरी यात्रा में हाथी भी शामिल रहे

-दो घंटे से ज्यादा वक्त यात्रा में लगा

-सड़के किनारे संस्थाओं ने मंच लगाए थे, डिवाइर पर भी खड़े होकर मुख्यमंत्री का स्वागत किया

-कई महिलाओं ने मुख्यमंत्री की आरती उतारी

-कई स्थानों पर उत्साह देखकर मुख्यमंत्री ने रुके और स्वागत करवाया

-यात्रा में शामिल महिलाएं 11 सौ मीटर लंबी चुनरी लेकर निकली

माता टेकरी पर मां को चुनरी अर्पित की गई। शहर की ट्रैफिक व्यवस्था में दो से तीन घंटे का बदलाव किया गया ।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close