*चालक के सिर में भी लगी चोट, दोनों का जिला अस्पताल में उपचार जारी

* झारखंड के बोकारो से करीब 25 टन लोहे की शीट लेकर इंदौर आ रहे थे दोनों

Dewas News: देवास। एबी रोड पर चिड़ावद और टोंककलां के बीच पुल पर बुधवार तड़के 4 से 5 बजे के बीच एक ट्रक अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकरा गया। लोहे की शीट से भरे ट्रक के टकराते ही शीटें केबिन से जा टकराईं। इसके चलते केबिन टूट गया और चालक-हेल्पर केबिन में ही फंस गए। इधर टक्कर के बाद ट्रक में भीषण आग लग गई। जलते ट्रक के बीच आधे घंटे में पुलिस और लोगों ने चालक को निकाल लिया।

हेल्पर को निकालने के लिए 6 घंटे मशक्कत की गई। इसके बाद उससे निकालकर अस्पताल भेजा गया। पूरे रेस्क्यू के बाद दोनों ही घायलों ने पुलिस के काम को सराहा और कहा कि पुलिस और लोगों की सक्रियता और प्रयासों से ही उनकी जान बच पाई।

झारखंड के बोकारो से करीब 25 टन लोहे की शीट लेकर इंदौर के लिए चालक रंजीत ठाकुर निवासी हजारीबाग झारखंड और हेल्पर पप्पू पासवान निकले थे। जिले की सीमा में एबी रोड पर चिड़ावद के पास तड़के गोवंशी को बचाने के प्रयास में ट्रक डिवाइडर से टकरा गया। झटका लगते ही पीछे रखे शीट आगे केबिन से टकराए और केबिन टूट गया। इसके चलते दोनों ही उसमें फंस गए। चालक के सिर में काफी चोट आई।

दूसरी तरफ बैठा हेल्पर भी केबिन में फंस गया। घटना के बाद कुछ ही देर में ट्रक धू-धू कर जलने लगा। ट्रक के पिछले हिस्से में लगी आग केबिन तक पहुंचने ही वाली थी कि घटना के महज 10 मिनट में गश्त कर रही पुलिस मौके पर पहुंच गई और तुरंत ही दोनों का रेस्क्यू शुरू हो गया। इस दौरान पास के गांव से भी बड़ी संख्या में लोग आ गए और आग को बुझाने के लिए अपने स्तर पर प्रयास करते रहे। टोंककला चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक शुभम परिहार बल के साथ मौके पर पहुंचे। इसके कुछ समय बाद टोंकखुर्द टीआइ उमरावसिंह भी टीम के साथ मौके पर पहुंच गए। बाद में होमगार्ड एसडीआरएफ की टीम भी रेस्क्यू में शामिल हुई।

छह घंटे चला बचाव अभियान, गैस कटर से काटा केबिन

करीब 6 घंटे की मशक्कत के बाद क्रेन और गैस कटर की मदद से ट्रक का केबिन काटा गया। इसके बाद हेल्पर को बाहर निकालकर मौके पर ही 108 एम्बुलेंस में प्राथमिक उपचार दिया गया। एम्बुलेंस से उसे आगे के उपचार के लिए जिला अस्पताल भेजा गया। हेल्पर का बायां पैर बुरी तरह टूट गया और गंभीर घाव हुए हैं। चालक के सिर में चोट है। उसका उपचार भी जिला अस्पताल में किया गया।

एसपी के निर्देशन में चला अभियान

घटना की सूचना कुछ ही देर में एसपी डा. शिवदयाल को मिली। इसके बाद वे लगातार टीआइ को रेस्क्यू के संबंध में निर्देश देते रहे। पूरे अभियान के दौरान यह ध्यान रखा गया कि फंसे हुए हेल्पर को किसी तरह की अन्य चोट न आए। शुरुआती दौर में लोगों ने आग पर काबू करने की कोशिश की। बाद में दमकल की गाड़ियां भी मौके पर पहुंच गई और आग को बुझा दिया। इसके बाद हेल्पर को निकाला जा सका।

ग्रामीणों ने दिखाया जज्बा

घटना के बाद ट्रक में लगी आग को बुझाने के लिए दमकल को सूचना देने के बाद पुलिस और ग्रामीणों ने काम नहीं रोका। मौके पर जो भी संसाधन मौजूद थे, उनकी मदद से आग को बढ़ने से रोकने का प्रयास ग्रामीण करते रहे। लोगों ने यह सुनिश्चित किया कि दमकल के आने तक आग ट्रक के केबिन को चपेट में न ले। आग को काबू करने का प्रयास कृषि संसाधनों से भी किया। पुलिस, होमगार्ड, एसडीआरएफ की टीम ने भी रेस्क्यू में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

इन्होंने किया त्वरित काम

पूरे आपरेशन में दो लोगों की जान बचाने के लिए टीआइ उमराव सिंह और एसआइ शुभम परिहार ने सूझबूझ का परिचय दिया। दोनों अधिकारियों ने सामंजस्य बनाकर त्वरित निर्णय लिए और लगातार एसपी के निर्देशन में आपरेशन का नेतृत्व किया। दोनों ही घटना के कुछ समय बाद से पूरे समय तक मौके पर डटे रहे। एसआइ परिहार ने ट्रक के केबिन तक पहुंचकर फंसे हुए हेल्पर को पीठ पर बैठाकर हिम्मत दी

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

Mp
Mp
  • Font Size
  • Close