-सामाजिक व व्यापारिक संगठनों ने दिया बंद को समर्थन

-सपाक्स के साथ जवाहर चौक में एकत्र होंगे लोग, रैली निकालकर जाएंगे कलेक्टोरेट, राष्ट्रपति के नाम देंगे ज्ञापन

-सपाक्स ने कहा-शांतिपूर्ण होगा बंद, सभी ने स्वेच्छा से किया समर्थन

देवास। नईदुनिया प्रतिनिधि

करीब 68 सालों से चली आ रही आरक्षण नीति व एससीएसटी एक्ट संशोधन विधेयक के विरोध में गुरुवार को भारत बंद का आह्वान किया गया है। सपाक्स की सभी इकाइयों समेत कई सामाजिक व व्यापारिक संगठनों ने बंद का समर्थन किया है। गुरुवार को शहर के व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। अनाज मंडी में भी नीलामी नहीं होगी। अधिकांश निजी स्कूल भी बंद रहेंगे। आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुचारु रहेगी। दूध, सब्जी, मेडिकल स्टोर्स, अस्पताल बंद से मुक्त रहेंगे। सपाक्स सहित अन्य संगठन जवाहर चौक से रैली निकाल दोपहर एक बजे कलेक्टर को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपेंगे। बुधवार को सपाक्स समाज ने रैली निकाली और शहर का भ्रमण कर व्यापारियों से अपने-अपने प्रतिष्ठान बंद रखने का आह्वान किया।

मीडिया प्रभारी आशीष निगम ने बताया कि 6 सितंबर को प्रात? 10 बजे से जवाहर चौक से एक विशाल रैली निकालकर दोपहर 1 बजे राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा जाएगा। इसके चलते बुधवार को निवेदन यात्रा निकाली गई। यात्रा में शामिल सदस्यों ने शहर के मार्गों में व्यापारियों से हाथ जोड़कर निवेदन किया कि बंद का समर्थन करें। हम किसी तरह की हुड़दंग या विवाद नहीं चाहते। शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इधर बंद को लेकर सोशल मीडिया पर भी पोस्ट्स शेयर की जा रही है जिसमें लिखा है कि दलित संगठनों और सांसदों के दबाव में केंद्र सरकार ने एससी-एसटी एक्ट में बिना जांच, एफआईआर और गिर्रतारी का प्रावधान दोबारा जोड़ने का फैसला कर लिया है। गत 20 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने इन प्रावधानों पर रोक लगा दी थी। सुप्रीम कोर्ट का फैसला निष्प्रभावी करने के लिए कैबिनेट ने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (एट्रोसिटी एक्ट) अत्याचारों की रोकथाम संशोधन विधेयक 2018 को मंजूरी दे दी है। सपाक्स की मांग है कि मुख्य रुप से आर्थिक आधार पर आरक्षण दिया जाए, पद्दोन्नति में आरक्षण समाप्त हो और एट्रोसिटी एक्ट के दुरुपयोग का आरोप लगाकर सुप्रीम कोर्ट ने 20 मार्च को इसके कई प्रावधानों पर जो शर्तें जोड़ी थी। उसे उच्च न्यायालय के आदेश का पालन कर यथावत लागू की जाए। इसमें कहा गया था कि शिकायत मिलते ही डीएसपी स्तर के अधिकारी द्वारा जांच प्रक्रिया हो, सरकारी कर्मियों एवं आम जनता की गिर्रतारी के लिए सक्षम अथॉरिटी की मंजूरी जरुरी एवं एससी-एसटी एक्ट के आरोपितों को भी जमानत का अधिकार प्राप्त हो। इन सभी मांगों के समर्थन में बंद रखा जा रहा है। निवेदन यात्रा में जिसमें मुख्य रुप से जिलाध्यक्ष सुभाष पंड्या, संयोजक प्रयास गौतम, सर्व ब्राह्मण समाज के पं. संजय शुक्ला, गंगासिंह सोलंकी, हटेसिंह बैस, महेंद्रसिंह पवार, अशोक सोमानी, समाधान गौतम, जितेंद्र त्रिवेदी, ईश्वरसिंह राजपूत, अरुण शर्मा, राजेंद्र पवार, धर्मेन्द्र तिवारी, संतोषसिंह ठाकुर, हेमंत गोयल, सुरेन्द्रसिंह चावड़ा, पं. पवन चौधरी आदि उपस्थित थे।

पुलिस-प्रशासन रहेगा मुस्तैद

बंद को लेकर पुलिस-प्रशासन भी सतर्क हैं। बुधवार को कोतवाली थाने में एसडीएम जीवन रजक, सीएसपी शकुंतला रुहल व टीआई एमएस परमार ने सपाक्स के पदाधिकारियों की बैठक लेकर उनसे बंद के बारे में पूरी जानकारी ली। किस रुट से यात्रा जाएगी। कितने लोग रहेंगे आदि जानकारी एकत्र की गई। एसडीएम रजक ने बताया कि बैठक में सपाक्स के पदाधिकारियों ने बताया कि वे शांतिपूर्ण बंद करेंगे। किसी से जबरिया बंद नहीं करवाएंगे। जवाहर चौक से यात्रा शुरु होकर दोपहर 1 बजे कलेक्टोरेट आएगी। पूरे मार्ग से पुलिस बल तैनात रहेगा। कार्यपालिक मजिस्ट्रेट्स भी रहेंगे। बंद करवाने वालों को निर्देश दिए हैं कि किसी तरह का हुड़गंद अथवा उपद्रव नहीं होना चाहिए। ऐसे नारे या ऐसी बातें न कही जाए जिससे दूसरे वर्ग में वैमनस्यता फैले। ऐसा होने पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। आवश्यक वस्तुएं जैसे दूध, सब्जी, दवाइयां, अस्पताल आदि बंद से मुक्त रखी जाएंगी।

सभी समाज करेंगे समर्थन

सपाक्स के जिलाध्यक्ष सुभाष पंड्या ने बताया कि बंद को सभी का समर्थन मिला है। सर्व समाज, करणी सेना, ब्राह्मण महासंघ, क्षत्रिय राजपूत समाज, कायस्थ समाज साथ देंगे। व्यापारियों के भी सभी संघ भी समर्थन कर रहे हैं। कई स्कूल संचालकों ने स्वेच्छा से बंद का समर्थन किया है। पंड्या ने बताया कि दोपहर 1 बजे तक प्रतिष्ठान बंद रखे जाएंगे। इसके बाद दुकानें खोली जा सकती है। आदित्य दुबे ने बताया कि ब्राह्मण समाज ने बंद का समर्थन करने का फैसला किया है। हम जवाहर चौक पहुंचकर रैली में शामिल होंगे। साथ ही अपने-अपने प्रतिष्ठान बंद रखेंगे।

रात तक आते रहे स्कूल बंद के मैसेज

स्कूलों को बंद रखने को लेकर दिनभर असमंजस की स्थिति बनी रही। बुधवार को स्कूल संचालक एक-दूसरे को फोन कर जानकारी लेते रहे। इसके बाद शहर के अधिकांश निजी स्कूलों ने गुरुवार को बंद रखने का निर्णय लिया। कुछ स्कूलों ने रात आठ बजे बंद रखने का निर्णय लिया। इसके चलते देर रात तक अभिभावकों के मोबाइल पर बंद संबंधित मैसेज आते रहे। शहर के सेंट्रल इंडिया एकेडमी, सेंट मैरी कॉन्वेंट, विंध्याचल, सरदाना इंटरनेशनल, गीतांजलि, केंब्रिज, पद्मजा, एस्कॉर्ट, बीसीजी कॉलेज, विद्याकुंज समेत अन्य निजी स्कूल बंद रहेंगे।

05 देवास 01- 6 सितंबर को होने वाले बंद के संबंध में बुधवार को निकाली गई निवेदन यात्रा।

05 देवास-03-कोतवाली में अफसरों ने ली संगठन के पदाधिकारियों की बैठक।

Posted By: