सोनकच्छ (नईदुनिया न्यूज)।

ग्राम बावई के तीन छात्रों ने प्रैक्टिकल के दौरान क्षार, अम्ल एवं एसिड पी लिया। इससे छात्रों को तकलीफ बढ़ गई और इनमें से एक को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। मामले में अभिभावकों ने शिक्षक एवं प्राचार्य पर लापरवाही का आरोप लगाया है। कार्रवाई की मांग करते हुए सोनकच्छ थाने में आवेदन भी दिया।

जानकारी के अनुसार रूपसिंह राजपूत निवासी ग्राम बावई एवं लाखनसिंह सेंधव निवासी ग्राम जगदीशपुर ने थाना प्रभारी के नाम आवेदन दिया है। इसमें बताया कि हमारे बच्चे शासकीय हाईस्कूल बावई में कक्षा 10वीं में पढ़ते हैं।

नौ जनवरी को विज्ञान विषय के शिक्षक ओमप्रकाश शर्मा प्रैक्टिकल करना बता रहे थे। उन्होंने क्षार, अम्ल एवं एसिड के बारे में जानकारी दी। शिक्षक ने हमारे पुत्रों के अतिरिक्त छात्र सचिन को रासायनिक पदार्थ दिया और कहा कि नमक जैसा स्वाद आएगा टेस्ट कर लो। इसके बाद हर्षित, सचिन एवं वीरेंद्र ने इसे टेस्ट कर लिया, जिससे सीने में जलन एवं उल्टी होने लगी। छुट्टी होने पर तीनों छात्र घर आ गए। जब अभिभावकों ने इस बारे में शिक्षक से पूछा तो उन्होंने कहा कि चूना मुंह में रख लिया था। अभिभावकों की नाराजगी के बाद प्राचार्य एवं शिक्षक ने इलाज खर्च देने की बात कही, लेकिन बाद में सिर्फ चार-पांच हजार रुपये ही देने की बात करने लगे। छात्र हर्षित को ज्यादा तकलीफ होने पर इंदौर ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने करीब 70 हजार रुपये से अधिक इलाज का खर्च बताया।

मामले में प्राचार्य संगीता जैन का कहना है कि छात्रों ने प्रैक्टिकल के दौरान रासायनिक पदार्थ को उत्सुकता में इसे मुंह में ले लिया तथा एक छात्र ने इसे पी लिया। शिक्षक ने इन्हें डांट भी लगाई तथा डॉक्टर को दिखाने को कहा। परिवार के लोगों द्वारा रुपयों की मांग को लेकर अनावश्यक दबाव बनाया जा रहा है। शिक्षक एवं मुझ पर लगाए गए आरोप निराधार है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस