देवास(नईदुनिया प्रतिनिधि)। बुधवार दोपहर 1.15 बजे सूचना मिली, टीम गठित की गई, 45 मिनट बाद दोपहर 2.30 बजे टीम वर के घर पहुंची। बरात जाने में 2.30 घंटे का वक्त था, लेकिन दस्तावेजों में वर 19 साल सात माह का निकल गया। मौके से ही टीम ने वधू के स्वजनों को सूचना देकर बताया कि वर की उम्र विवाह योग्य नहीं हैं। बरात नहीं आएगी। टीम की समझाइश और कानूनी जानकारी देने के बाद वर के स्वजनों ने विवाह करने से इंकार किया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सीडीपीओ प्रियंका जायसवाल, सुपरवाइजर आशा सेन, विशेष पुलिस इकाई से संतोष पांडे, प्रधान आरक्षक राकेश डामोर, आरक्षक दिनेश पटेल, चाइल्ड लाइन से मुकेश मालवीय व मोनिका पटेल की टीम शहर के दिग्गीराजा नगर में पहुंची। सूचना के बाद टीम दोपहर करीब 2.30 बजे वर के घर पहुंची थी। भोजन कार्यक्रम के साथ ही बरात जाने को लेकर तैयारियां चल रही थी। मंगल गीत जाए जा रहे थे।

टीम को देखकर स्वजन व मेहमान सकते में आ गए। टीम ने वर के दस्तावेजों को देखा। दस्तावेजों में उसकी उम्र 19 साल सात माह निकली, जबकि पुरुष के लिए विवाह योग्य उम्र 21 साल है। सीडीपीओ प्रियंका जायसवाल ने बताया कि हमने वर के साथ ही उसके पिता को भी समझाइश दी। उन्हें बाल विवाह के कानून व प्रविधानों के बारे में बताया। स्वजनों ने भी स्वीकार किया कि वे विवाह नही करेंगे। मौके पर पंचनामा भी बनाया गया।

-6 बजे बरात जाने वाली थी, वधू के स्वजनों को फोन किया

बुधवार शाम छह बजे बरात शहर के दिग्गीराजा नगर से बिंजाना जाने वाली थी। इससे पहले टीम ने बालविवाह रुकवाया दिया। एक टीम बिंजाना भी भेजी गई थी। जहां वधू के दस्तावेज भी जांचे गए। जिसमें वह तो बालिग निकली। दिग्गीराजा नगर से टीम ने वधू के परिवार वालों से भी संपर्क वर के नाबालिग होने की जानकारी दी।

महिला एवं बाल विकास विभाग बाल विवाह को लेकर कार्रवाई कर रहा है। इसके लिए टीम भी है। सूचना के आधार पर सीडीपीओ व चाइल्ड लाइन के साथ पुलिस की टीम बाल विवाह रुकवाने का कार्य कर रही है। बाल विवाह अपराध हैं। बालिग होने पर ही वर-वधू का विवाह करें।

-रेलम बघेल, जिला परियोजना अधिकारी, देवास

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close