कांटाफोड़ (देवास) (नईदुनिया न्यूज)। पुलिस ने तीन साल पहले महिला की हत्या के मामले को सुलझा लिया है। महिला को उसकी सास और काका ससुर के अवैध संबंध की जानकारी हो गई थी। जिस पर सास और काका ससुर ने मिलकर लकड़ी से पीटकर उसकी हत्या कर दी थी। महिला ने हत्या से पहले अपने

माता-पिता को कहा था कि उसे सास और काका ससुर के अवैध संबंधों की जानकारी हो गई है। डर था कि ये दोनों मिलकर उसकी हत्या कर देंगे। चश्मदीद और मृतक के बयानों के आधार पर पुलिस दोनों आरोपितों तक पहुंच गई और हत्याकांड का पर्दाफाश किया। बुधवार को पुलिस ने सास और काका ससुर को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया।

कांटाफोड़ पुलिस ने बुधवार को हत्या का पर्दाफाश किया। जानकारी के अनुसार साल 2018 को बेड़गांव के युवक ने थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि किसी अज्ञात व्यक्ति ने उसकी पत्नी की हत्या कर दी थी। जिस पर प्रकरण दर्ज कर पुलिस जांच में जुटी थी। एसपी डाक्टर शिवदयालसिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण

कन्नाौद सूर्यकांत शर्मा व अनुविभागीय अधिकारी बागली राकेश व्यास के मार्गदर्शन में कांटाफोड़ थाना प्रभारी निरीक्षक लीला सोलंकी और उनकी टीम जांच में जुटी थी। जांच के दौरान चश्मदीद और महिला के

मृत्यु पूर्व बयान के आधार पर पुलिस आरोपितों तक पहुंच गई। हत्या के पीछे अवैध संबंधों की कहानी सामने आई। महिला को सास और काका ससुर के अवैध संबंधों की जानकारी हो गई थी। आठ अक्टूबर 2018 को भूत़ड़ी अमवास्या थी। इस कारण महिला का पति, ससुर और अन्य लोग नर्मदा में स्नान करने चले गए। घर पर महिला और उसकी सास थी। सास को जानकारी थी कि बहू अकेली खेत में घास काटने गई है। इस दौरान प्लानिंग कर बहू की लकड़ी से पीटकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने आरोपित काका ससुर और सास को गिरफ्तार किया। दोनों आरोपितों को कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

माता-पिता से कहा था-सास और काका ससुर मुझे मरवा देंगे

महिला ने सास और काका ससुर के अवैध को लेकर उसके माता-पिता को भी बता दिया था।

उसने यह भी बताया कि उसे डर है कि काका ससुर और सास उसे मरवा देंगे, क्योंकि उसे उनके अवैध संबंधों की जानकारी हो गई हैं।

कुछ दिनों पर महिला की हत्या हो गई थी। वहीं घटना में एक चश्मदीद भी सामने आया था। इसके बयान से भी पुलिस को गुत्थी को सुलझाने में मदद मिली।

मामले में दोनों आरोपित पहले से ही संदेह के घेरे में थे।

हत्या के पर्दाफाश में इनकी

रही अहम भूमिका

हत्याकांड का पर्दाफाश करने में निरीक्षक लीला सोलंकी, उप निरीक्षक कपिल नरवले, सहायक उपनिरीक्षक पीएस परमार, प्रधान आरक्षक रघुनाथसिंह राठौड़, आरक्षक अमित नाहर, सुधीर बावरे, राहुल सुरोसे, आशीष वर्मा, आरक्षक मोनिका उईके और सूरज चौहान की अहम

भूमिका रही।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local