धार (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना काल के बीच लंबे इंतजार के बाद जिले में शुक्रवार से त्रैमासिक परीक्षा का दौर शुरू हुआ है। इसमें कक्षा नौवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थी मास्क पहनकर उत्साह के साथ आफलाइन परीक्षा देने पहुंच रहे हैं। कोरोना काल में वार्षिक परीक्षा नहीं हो पाई थी, किंतु अब कोरोना का कहर कमजोर हुआ है। इससे परीक्षा का आयोजन शुरू हो गया है। कोरोना काल के चलते विद्यालयों में कोविड गाइडलाइन व अन्य नियमों का पालन करवाया जा रहा है। वहीं शासकीय भोज कन्या विद्यालय में शनिवार को शिक्षकों ने परीक्षा से संबंधित प्रश्नपत्र विद्यार्थियों को वितरित किए गए। निर्धारित समय पर परीक्षा प्रारंभ हुई। प्रथम पाली में कक्षा 9वीं का हिंदी व 11वीं का ब्यूटी और हेल्थ का पेपर हुआ। इसके बाद द्वितीय पाली में भी कक्षा 10वीं का हिंदी व 12वीं का ब्यूटी और कला का पेपर हुआ। वहीं वर्तमान में कोरोना के चलते छात्रावास खुले नहीं है। इसके लिए शासन की ओर से बेहतर सुविधा प्रदान की है। जो विद्यार्थी स्कूल तक नहीं पहुंच पाए तो वे अपने गांव के विद्यालय में जाकर परीक्षा दे रहे हैं।

गौरतलब है कि परीक्षा का संचालन दो पालियों में किया जा रहा है। प्रथम पाली सुबह 10.30 से दोपहर 1 बजे तक कक्षा नौवीं और 11वीं की परीक्षाएं संचालित की जा रही है। सुबह की पाली में कक्षा 9वीं में हिंदी का पेपर और कक्षा 11वीं का ब्यूटी और हेल्थ विषय का हुआ। इस विषय के कक्षा 11वीं में कुल 71 विद्यार्थियों में से 68 विद्यार्थी उपस्थित रहे। कक्षा 9वीं हिंदी विषय में 348 में से 335 विद्यार्थी उपस्थित रहे। वहीं दोपहर की पाली में 1.30 से 4 बजे तक कक्षा 10 वीं और बारहवीं की परीक्षाएं संचालित की जा रही है। इसी प्रकार दोपहर पाली में कक्षा 10वीं में कुल 261 में से 247 विद्यार्थी उपस्थित रहे। कक्षा 12वीं कामर्स में ब्यूटी और कला विषय के कुल 18 परीक्षार्थी में से 16 परीक्षार्थी उपस्थित रहे, जबकि 12वीं में कुल 267 विद्यार्थी हैं। जो सोमवार को परिक्षा में शामिल होंगे। परीक्षाएं विधिवत रूप से संचालित की जा रही है। सभी विद्यार्थी गणवेश में उपस्थित हुए।

इस संबंध में शासकीय भोज कन्या उधातर माध्यमिक विद्यालय की प्राचार्या अलखनंदा शर्मा व परीक्षा प्रभारी हिमांशु नाडकर ने बताया कि शुक्रवार से अर्धवार्षिक परीक्षा शुरु हुई। यह दो बेचों के आधार पर संचालित हो रही है। उन्होंने कहा कि बच्चों की उपस्थिति 95 प्रतिशत रही है। साथ ही परीक्षा की तैयारी भी विद्यार्थियों को करवा दी थी। इसकी वजह यह है कि हमारे विद्यालय के कक्षाध्यापकों ने अपने-अपने कक्षा के विद्यार्थियों का ह्वाट्सएप ग्रुप बनाकर उन्हें प्रतिदिन आनलाइन पढ़ाई करवाई। साथ ही बच्चों को समय पर जानकारी भी उपलब्ध करवा देते थे। वहीं कुछ विद्यार्थी छात्रावास में रहकर पढ़ाई करते थे, लेकिन वर्तमान में बंद हैं। इससे कुछ विद्यार्थी विद्यालय नहीं पहुंच पाए तो वे अपने गांव के विद्यालय में जाकर परीक्षा दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि शुक्रवार को भी 9वीं व 11वीं के तीन बच्चों ने परिक्षा में उपस्थित हुए हैं। इन बच्चों की हमने उपस्थिति भी दर्ज कर ली है।

कोविड नियम का पालन करते हुए विद्यार्थी पर्चा हल कर रहे

शासकीय भोज कन्या स्कूल में शुक्रवार से त्रैमासिक परीक्षा का दौर शुरू हुआ जो 30 सितंबर तक सतत चलेगा। इस दौरान भोज कन्या स्कूल में करीब 14 कक्ष हैं। इन कक्षों में प्रवेश के पहले सभी छात्राओं को मास्क पहनना आवश्यक कर दिया है। इसलिए सभी मास्क पहनकर ही विद्यालयों में आ रही हैं। वहीं प्रवेश के पहले सैनिटाइज करवाया जा रहा है और सभी छात्राएं गणवेश में पहुंच रही हैं। फिर शारीरिक दूरी का पालन करवाने के लिए हर एक कक्ष में 25-25 विद्यार्थियों को एक बेंच पर एक छात्रा को बैठाया जा रहा है और पर्चा हल कर रहे हैं जबकि कोरोना काल के पहले एक बेंच पर दो विद्यार्थियों को बैठाया जा रहा था। कोरोना काल के कारण पूरी व्यवस्था में परिवर्तन हुआ है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local