मनावर। नईदुनिया में समाचार प्रकाशित होने के बाद शिक्षा विभाग ने सक्रियता दिखाते हुए मंगलवार सुबह सेमल्दा रोड पर एक पिकअप वाहन को रुकवाया। इसमें सवार बच्चे मजदूरी करने जा रहे थे, जिन्हें उतारकर घर भिजवाया गया। साथ ही स्कूल जाने की समझाइश दी गई। वहीं वाहन चालक को चेतावनी दी गई। इस दौरान चाइल्ड हेल्प लाइन के सदस्य व 100 डायल भी पहुंच गई थी।

नईदुनिया ने 28 जून के अंक में 'स्कूलों से मुंह मोड़ा, मजदूरी से नाता जोड़ा' शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था। इसी के बाद जिला परियोजना समन्वयक व जिला शिक्षा केंद्र धार के निर्देश पर बीआरसी अजय मुवेल ने कार्रवाई करते हुए मजदूरों से भरे पिकअप वाहन को रुकवाया। इसमें सवार मजदूरी करने जा रहे बच्चों को उतारा। बच्चों को समझाइश दी गई कि अभी तुम्हारी उम्र मजदूरी करने की नहीं है, तुम्हें स्कूल जाना चाहिए। इसके बाद सभी बच्चों को घर भेजा गया। बीआरसी मुवेल ने वाहन चालक को चेतावनी दी कि यदि फिर से पिकअप वाहन में बच्चों को मजदूरी के लिए ले जाओगे, तो एफआइआर दर्ज की जाएगी। साथ ही बाल श्रम अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बच्चों के पालकों को भी सख्त हिदायत दी कि यदि मजदूरी के लिए बच्चों को फिर से भेजा तो उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। मुवेल ने बताया कि स्कूलों में अध्ययनरत बच्चों का सर्वे कर उन्हें नियमित स्कूल जाने के लिए प्रेरित किया जाएगा। पालकों को भी समझाइश दी है कि वे बच्चों को किसी भी प्रकार की मजदूरी के लिए नहीं भेजे। स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को कई प्रकार की सुविधाएं दी जा रही हैं, इसका लाभ बच्चों को लेना चाहिए। कार्रवाई में चाइल्ड हेल्प लाइन के सदस्य व डायल 100 पहुंच गई थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close