राजगढ़। रविवार को धन की देवी मां लक्ष्मी के आगमन के लिए हर किसी ने अपने अंदाज में तैयारियां की थी। लोगों ने घर आंगन और दुकानें एवं व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को सजाने में कोई कौर कसर नहीं छोड़ी। वहीं पर्व पर छोटे बच्चों ने आतिशबाजी कर खुशियां बांटी तो श्रेष्ठ मुहूर्त में व्यावसायिक प्रतिष्ठानों और घरों में धन की देवी लक्ष्मीजी का पूजन-अर्चन किया।

नगर परिषद में अध्यक्ष भंवरसिंह बारोड़ व सीएमओ एसएस पंवार ने पूजन किया। अधिकांश स्थानों पर शाम छह बजे बाद शुभ मुहूर्त में मां लक्ष्मीजी का पूजन कर लोगों ने परिवार मं सुख-समृद्धि और शांति की कामना की। शाम होते ही विद्युत सजावट से शहर की गलियां और बाजार जगमगा उठे थे। हालांकि शनिवार-रविवार रात्रि जारी बारिश सुबह 11 बजे तक जारी रही। बारिश थमते ही बाजार गुलजार नजर आए। दोपहर 12 बजे बाद ग्रामीण अंचलों से ग्रामीणों ने आमद दर्ज कराई और पूजन सामाग्री, साज-सज्जवट की वस्तुएं खरीदी।

27आरजेएच 12ः- राजगढ़ में छोटे बच्चों फूलझड़ी जलाकर खुशियां मनाते हुए।

नोट - समाचार के साथ चातुर्मास समिति का लोगो भी लगाना है

108 पुष्पों से पद्मावती पूजन हुआ

- सूरिमंत्र आराधना की पूर्णाहूति पर धार्मिक आयोजन आज, महामांगलिक कल

राजगढ़। नवरत्न आराधना भवन में चातुर्मासिक आराधना के लिए विराजित आचार्यश्री मृदुरत्न सागरसूरिश्वरजी ने सात दिवसीय उत्तराध्याय सूत्र का वाचन किया। रविवार को अंतिम दिन था। इस अवसर पर प्रातः 10 बजे 108 पुष्पों से पद्मावती पूजन हआ।

आचार्य ने धर्मसभा को संबोधित करते हुए बताया कि भगवान महावीर स्वामी ने सतत् 48 घंटे तक देशना देते हुए दीपावली की मध्यरात्रि को पावापूरी नगरी में उनका निर्वाण हुआ। 2600 पूर्व दी गई देशना आज भी उत्तराध्याय सूत्र के रूप मे हमारे बीच है।

स्मरणीय है कि आचार्यश्री की 25 दिवसीय सूरिमंत्र की आराधाना की पूर्णाहूति के अवसर पर 28 को प्रात? अनेक धार्मिक आयोजन होंगे। 29 को प्रात? 4 बजे गौतमस्वामी का केवलज्ञान कल्याणक का देववंदन और 20 मालाओं का जाप होगा। प्रात? 6बजे चबूतरा चैक पर आचार्यश्री नवस्मरण एवं गौतमस्वामी का रास श्रवण कराएंगे। साढ़े 10 बजे आचार्यश्री के मुखारबिंद से नूतन वर्ष की महामांगलिक होगी। महामांगलिक के लाभार्थी महावीर गौतम ग्रुप है।

27 आरजेएच 14ः- चातुर्मास समिति का लोगो।

27 आरजेएच 15ः-आचार्यश्री मृदुरत्नसागरजी।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket