-एएनएम व आशा कोरोना को लॉक करने में सबसे मजबूत कड़ी है

-ऐसी गर्भवती आशा व एएनएम की कहानी जो काम मे जुटी हैं

-आशा कार्यकर्ता लक्ष्मी को सात माह का गर्भ होने पर दो किमी पैदल चलकर कोरोना के लिए लोगों की स्क्रीनिंग कर रही हैं

महेश सोलंकी धार (नईदुनिया)।

कड़ी धूप है...गर्म हवाएं रास्ता रोकती हैं...लेकिन फर्ज का ऐसा जज्बा है कि पेट में पल रही सात माह की नन्ही जिंदगी के साथ ही आपकी जिंदगी भी बचाने के लिए घर से निकल पड़ी। पडूनीखुर्द की गर्भवती लक्ष्मी दो किमी पैदल चलकर कोरोना को हराने के लिए गांवों में जाकर लोगों की स्क्रीनिंग कर रही है। वह अपनी टीम के साथ गांव में जाती है।

बरमंडल की पडूनीखुर्द की लक्ष्मी पति संतोष सात साल से आशा कार्यकर्ता है। पति मजदूरी करते हैं। लक्ष्मी को तीन फलिए देखना होते है। करीब दो किमी की दूरी पर बसे हैं। टीम के साथ लगातार पैदल गांव में जाकर बाहर से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग कर रही हैं। लक्ष्मी का मानना है कि जिम्मेदारी है इसलिए काम में जुटे हैं। जब तक हिम्मत है जुटे रहेंगे। हालांकि गर्मी में निकलने में समस्या होती है, फिर भी सहन करते हुए दो किमी तक गांवों में जाकर लोगों की सेहत को जांचती हैं।

-टीम करती है मदद...कभी-कभी बीपी कम हो जाता है

लक्ष्मी मारू ने बताया कि टीम मदद करती है। रास्ते में या फिर काम के दौरान मेरा रक्तचाप कम हो जाता तो घोल बनकर पीना पड़ता है। टीम सेहत को लेकर पूछती है। दिक्कत होती है तो वे मदद करते हैं। पति सोचते हैं कि अचानक तबीयत बिगड़ेगी तो क्या करोगी। इसको लेकर उन्हें समझाना पड़ता है। मेरी ड्यूटी ही सबसे पहले है क्योंकि इससे हमारा घर चलता है।

-9 माह का गर्भ...फिर ड्यूटी कर रही

संदल की कंचन भवेल को भी 9 माह का गर्भ हैं। फिर भी वह ड्यूटी में जुटी है। हालांकि कुछ दिनों से ऐसी स्थिति में फील्ड में जाना संभव नहीं हो पा रहा है, लेकिन टीम के साथ समन्वय बनाकर काम कर रही है। केंद्र में टीकाकरण के साथ ही लोगों को कोरोना वायरस को लेकर समझाइश देती है। कंचन ने बताया कि गर्भवती महिलाओं को भी कोरोना से प्रभावित होने का खतरा रहता है, लेकिन ड्यूटी हमारी जिम्मेदारी है उसे निभा रहे हैं।

इधर, कोरोना से लड़ने के लिए जिले में 4 हजार से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मी मैदान में

विश्व स्वास्थ्य दिवस पर जिले में स्वास्थ्यकर्मियों ने बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने की शपथ ली। इस वक्त जिले में करीब डॉक्टरों की टीम के साथ 3 हजार से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मी कोरोना से लड़ने लिए के मैदान में जुटे हैं। इसमें डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, सीएचओ, एएनएम, आशा कार्यकर्ता सहित सभी स्वास्थ्यकर्मी शामिल हैं। गांव में स्क्रीनिंग की जिम्मेदारी डॉक्टरों ने एएनएम व आशा के साथ संभाली है।

-आंकड़ों में समझिए...कौन कौन जुटा है जंग में

-115 से ज्यादा डॉक्टरों की टीम

-1856 आशा कार्यकर्ता से ज्यादा

-70 शहरी आशा

-140 आशा सहयोगी

-569 एएनएम

-45 एमपीडब्ल्यू

-212 स्टाफ नर्स

-72 से ज्यादा लैब टैक्निशियन

-23 सीएचओ

07डीएचआर21- आशा कार्यकर्ता लक्ष्मी मारू

07डीएचआर22- आशा कार्यकर्ता लक्ष्मी गर्भवती होने के बावजदू फर्ज निभाती हुई क्षेत्रों में जाकर टीम के साथ स्क्रीनिंग कर रही है ताकि कोरोना से जंग जीत सके

07डीएचआर23- 9 माह का गर्भ होने पर भी संदला स्वास्थ्य केंद्र में कंचन भावेल फर्ज अदा कर ही है।

आपदा की घड़ी में राजनीतिक प्रेरित कार्रवाई की निंदा

धार। जिला कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष पंडित धीरज दीक्षित ने आरोप लगाया कि जिला कांग्रेस के वर्तमान अध्यक्ष व पूर्व विधायक बालमुकुंद सिंह गौतम पर प्रकरण दर्ज करना राजनीतिक द्वेषत के साथ की गई कार्रवाई है। वर्तमान में सभी राजनीति से ऊपर उठकर काम कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आव्हान पर सभी लॉक डाउन का पालन करते हुए अपने सामर्थ्य अनुसार सेवा में जुटे हुए हैं। तथा घंटी बजाओ व दीप जलाओ का कांग्रेस के लोग पालन कर रहे हैं। जिला कांग्रेस अध्यक्ष बालमुकुंद सिंह गौतम भी अपनी ओर से जरूरतमंद लोगों को मास्क, सैनिटाइजर व अन्य राहत प्रदान कर रहे थे। बदनावर में उनके सेवा कार्य के बदले में उन पर राजनीतिक द्वेष के साथ प्रकरण दर्ज किया गया है। पंडित दीक्षित ने उसकी निंदा की है। साथ ही पीएम व सीएम का पत्र लिख कर इस तरह की कार्रवाई बंद करने की मांग की है। उन्होंने गौतम व अन्य कांग्रेसजन के खिलाफ दर्ज प्रकरण तत्काल वापस लेने की मांग की है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना