नागदा (धार)। आचार्यश्री उमेशमुनिजी के प्रवर्तक जिनेंद्रमुनिजी के आज्ञानुवर्ती संयतमुनिजी आदि ठाणा-4 का पांच मासिक वर्षावास जप, तप व त्याग के साथ गतिमान है। संयतमुनिजी के सान्निाध्य में 21 व 22 नवंबर को स्वाध्यायी शिविर का आयोजन किया गया। इसमें 50 से अधिक स्वाध्यायियों ने विविध कक्षाओं में ज्ञानार्जन किया।

स्वाध्यायी संघ के संचालक भरत भंसाली व शिविर के संचालक वीरेंद्र मेहता ने सुचारू रूप से शिविर की कक्षा एवं अन्य गतिविधियों का संचालन करते हुए स्वाध्यायी बंधुओं को मार्गदर्शन दिया। पक्खी आराधना मंडल एवं अणुवत्स वर्षावास समिति द्वारा सभी स्वाध्यायियों का विविध मंडलों के माध्यम से आतिथ्य सत्कार किया गया। स्वाध्यायियों द्वारा अणुवत्स वर्षावास में जिन तपस्वियों द्वारा तप आराधना की जा रही है, उनकी अनुमोदनार्थ शनिवार रात में प्रतिक्रमण पश्चात एक शाम तपस्वियों के नाम कार्यक्रम आयोजित किया। शिविर संचालक मेहता ने सफल संचालन कर चौबीसी, स्तवन एवं गीतिका गाकर तपस्वियों के तप की अनुमोदना की। नागदा सकल श्रीसंघ से बड़ी संख्या में श्रावक-श्राविकाएं उपस्थित थे। स्वाध्यायियों द्वारा रात्रि संवर किया गया। रविवार सुबह शिविर प्रारंभ हुआ। समापन पश्चात पक्खी आराधना मंडल द्वारा तपस्वी अभिनंदन समारोह आयोजित किया गया। इसमें अतिथि के रूप में धर्मदास गण परिषद के अध्यक्ष शांतिलाल भंडारी, धर्मदास स्वाध्यायी संघ संचालक भरत भंसाली, अखिल भारतीय धर्मदास युवा संगठन के अध्यक्ष प्रवीण विन्यायका, अखिल भारतीय चंदना श्राविका संगठन के अध्यक्ष देवाजी कनविट, धर्मदास गण परिषद के उपाध्यक्ष राजकुमार पारख व चंदना श्राविका संगठन की पूर्व अध्यक्ष हर्षा रूनवाल उपस्थित थी। कार्यक्रम में पांच मासिक वर्षावास की गतिविधियों को प्रदर्शनी के माध्यम से प्रस्तुत किया गया। महिला मंडल द्वारा नवकार महामंत्र की प्रस्तुति से कार्यक्रम की शुरुआत की गई। बालक-बालिकाओं एवं महिला मंडल ने प्रस्तुति दी। पलाश जैन एवं पूजा मोदी ने मधुर स्तवन से सभा में भक्तिमय माहौल बना दिया। स्वागत भाषण चातुर्मास समिति के अध्यक्ष अभिषेक मोदी ने दिया। स्वागत, अभिनंदन कर आभार एवं वर्षावास में अपने द्वारा हुई गलती के लिए क्षमायाचना की। 41 तपस्वियों का बहुमान अतिथियों द्वारा अभिनंदन पत्र, शॉल व श्रीफल भेंट कर किया गया। अणु मित्र मंडल, बालक, बालिका एवं महिला मंडल ने सेवा दी। नागदा एवं आसपास के गांवों से आए समाजजन का आभार मानकर अभिनंदन किया गया। दानदाता व वर्षावास में सहयोगी का सम्मान किया गया। स्वामीवात्सल्य का लाभ पक्खी आराधना मंडल एवं अणुवत्स वर्षावास समिति द्वारा लिया गया। अणु मित्र मंडल के अध्यक्ष नितेश सुराना ने आभार माना। बड़ी संख्या में श्रावक-श्राविकाएं उपस्थित थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस