-शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रतिमाह 1500 ओपीडी करने का आदेश जारी-

-शहर में ब्रह्मकुंडी व गंजीखाना केंद्र हैं, दोनों में ही डॉक्टर नहीं

धार। नईदुनिया प्रतिनिधि

राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन के तहत संचालित शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की ओपीडी प्रतिमाह 1500 करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने आदेश जारी किया है, लेकिन हमारे शहर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर ही नहीं हैं। मिशन संचालक (एनएचएम) छवि भारद्वाज द्वारा जारी आदेश में तीन माह लगातार ओपीडी 1500 नहीं होने पर चौथे माह से मेडिकल ऑॅफिसर का 10 प्रतिशत वेतन काटने के आदेश दिए गए हैं।

16 अगस्त को सीएमएचओ को एक सर्कुलर जारी किया गया है। इसके अनुसार सभी सरकारी डॉक्टरों को प्रतिमाह कम से कम 1500 ओपीडी करनी होंगी। यदि वो ऐसा नहीं करेंगे तो उनका वेतन काट लिया जाएगा। ब्रह्माकुंडी व गंजीखाना क्षेत्र में प्राथमिक शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं, लेकिन बताया जा रहा है कि सालों से इन केंद्रों पर डॉक्टर नहीं हैं। इससे इस आदेश का पालन कैसे होगा और कैसे लोगों को बेहतर इलाज मिल सकेगा।

समीक्षा में ओपीडी संख्या कम आई थी

इस संबंध में मिशन संचालक ने कुछ दिन पहले समीक्षा की थी। इसमें पाया गया कि अधिकांश शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों की मासिक ओपीडी बहुत ही कम है। लगातार कम ओपीडी के मामले देखने में आ रहे थे। जिसके चलते यह निर्णय लिया गया है। ताकि ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के मरीजों को समय पर सही इलाज मिल सके। सीएमएचओ एसके सरल ने इस संबंध में बताया कि हम आदेश का पालन करने का प्रयास करेंगे। एक केंद्र में डॉक्टर को पदस्थ कर दिया है।