धामनोद। नईदुनिया न्यूज

नगर के मुख्य बस स्टैंड पर नवीन निर्माण के विरोध में कु छ पार्षदों ने धरना आंदोलन मंगलवार से शुरु कि या। पार्षद सतीश चौधरी का कहना है कि बस स्टैंड स्थित कॉम्प्लेक्स के ऊपर हो रहा निर्माण नियमों को ताक में रखकर कि या जा रहा है। इसी के विरोध में हमने अनिश्चित धरना आंदोलन शुरु कि या है। हालांकि यह मामला पहले से ही न्यायालय में विचाराधीन है।

दरअसल, बस स्टैंड स्थित कॉम्प्लेक्स में ऊपर बन रही दुकानों को लेकर गत 10 महीने से पार्षद चौधरी निर्माण को गलत बता रहे हैं। उनका मानना है कि ऊपरी छत के निर्माण से कॉम्प्लेक्स के गिरने की स्थिति निर्मित हो सकती है। कई बार यह निर्माण बीच-बीच में रोका गया, कि ंतु स्वीकृति, जांच रिपोर्ट, इत्यादि दस्तावेजों के होने से यह कार्य लगभग पूर्ण हो चुका है। इस बीच सतीश चौधरी ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। यह मामला न्यायालय में विचाराधीन है।

इधर, नगर परिषद अधिकारी बलराम बुरे ने बताया कि बैठक में अध्यक्ष दिनेश शर्मा एवं 12 पार्षदों ने काम बंद करने की सहमति दी थी। उनके निर्देश पर मैंने काम बंद करा दिया था, कि ंतु मामले में विधि विशेषज्ञों से भी राय ली गई। राय ने कहा कि अभी काम रोका जाना उचित नहीं है। फिर से परिषद के 10 पार्षदों ने ऐसा लिख कर दिया है। उन्हें न्यायालय के कि सी मामले की जानकारी नहीं थी। निर्माण की पूर्व स्वीकृति भी है।

फोटो-

21डीएचएन09 मुख्य बस स्टैंड स्थित कॉम्प्लेक्स के ऊपर हो रहे निर्माण के विरोध में पार्षद धरने पर बैठे।

---------

'गाजर घास से एलर्जी, एक्जीमा व अस्थमा का खतरा, करें नष्ट'

- कृषि विज्ञान कें द्र के विद्यार्थियों ने मनाया जागरूकता सप्ताह

बोधवाड़ा। नईदुनिया न्यूज

कृषि विज्ञान कें द्र अंतर्गत 16 अगस्त से गाजर घास जागरुकता सप्ताह चलाया जा रहा है। ग्राम सुल्तानपुर के माध्यमिक स्कू ल में कृषि विज्ञान कें द्र के रावे के छात्रों ने पहुंचकर गाजर घास जागरुकता सप्ताह अंतर्गत स्कू ल के विद्यार्थियों को गाजर घास से होने वाले दुष्प्रभाव के बारे में बताया।

विद्यार्थी आशुतोष त्यागी ने गाजर घास का पौधा उखाड़कर बच्चों को पहचान करवाई। साथ ही बताया कि एक पौधा 25 हजार तक बीज उत्पन्न कर सकता है। जो बहुत हल्के एवं पंख युक्त होते हैं। यह प्रकाश एवं तापक्रम के प्रति उदासीन होने के कारण पूरे वर्षभर उगता एवं फलता-फू लता रहता है। विद्यार्थी सूरजलाल पटेल ने बताया कि गाजर घास से मनुष्य में त्वचा संबंधी रोग एक्जीमा, एलर्जी, बुखार, दमा आदि बीमारियां हो जाती हैं।अत्यधिक प्रभाव होने पर मनुष्य की मृत्यु तक हो सकती है। पशुओं के लिए यह खरपतवार अत्यधिक विषाक्त होती है। मोहित जायसवाल ने बच्चों को गाजर घास नियंत्रण के बारे में उपाय बताए। कृषि विज्ञान कें द्र के रावे के करीब 25 विद्यार्थी एवं स्कू ल के प्रधानाध्यापक, महेश जोशी, सोलंकी सर, कालू सर सहित स्टाफ मौजूद था।

------

अखंड रामायण पाठ का समापन

के सूर। नृसिंह मंदिर में सावन की शुरुआत पर अखंड रामायण पाठ का आयोजन रखा गया था। एक माह से भी अधिक समय से चल रही अखंड रामायण पाठ का हवन-पूजन के साथ समापन हुआ। 22 अगस्त को कन्या भोज का कार्यक्रम रखा गया है। मंदिर में पिछले करीब 20 वर्षों से लगातार अखंड रामायण पाठ का आयोजन होते आ रहा है।

----