धार (नईदुनिया प्रतिनिधि)। नगर के सीतापाट और दिलावरा तालाब का शत -प्रतिशत पानी पीने के लिए आरक्षित होना बहुत जरूरी है। शहर में इस वर्ष औसत 34 इंच बारिश जरूर हुई है। लेकिन लगातार तेज बारिश नहीं होने के कारण कई जलस्रोत खाली पड़े हुए थे। सितंबर के अंतिम सप्ताह और अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में हुई बारिश के कारण तालाबों में पानी की आवक हो पाई है। ऐसे में पेयजल के लिए पानी को सुरक्षित रखना बहुत जरूरी हो गया है जिससे कि आने वाले समय में पानी का संकट का सामना नहीं करना पड़े। वहीं पेयजल चोरी रोकने के लिए भी विशेष रूप से नगर पालिका को कदम उठाने पड़ेंगे।

गौरतलब है कि धार शहर की पेयजल आपूर्ति मुख्य रूप से दिलावरा और सीतापाट तालाब पर निर्भर है। इन दोनों तालाबों में पानी की कमी महसूस की जा रही थी लेकिन अंतिम दिनों में हुई बारिश के कारण तालाब में पर्याप्त पानी आ गया है। जिला जल उपभोक्ता समिति की बैठक जल्द ही होने वाली है। बैठक की प्रस्तावित तिथि 30 अक्टूबर है। इस बैठक में महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा होगी। सिंचाई के लिए पानी देने से लेकर अन्य मामलों पर विशेष रूप से निर्णय लिए जाएंगे। ऐसे में नगर पालिका शहर के दोनों महत्वपूर्ण तालाबों को यदि जल संसाधन विभाग के माध्यम से शत- प्रतिशत पानी के लिए आरक्षित करवाया जाता है तो राहत रहेगी। हालांकि यह तालाब जल संसाधन विभाग के हैं। ऐसे में कुछ पानी सिंचाई के लिए आरक्षित करना होगा। हर वर्ष की तरह की व्यवस्था का पालन किया जाता है तो निश्चित रूप से शहर के लोगों को पानी का संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा। वहीं गर्मी के दिनों में चक्काजाम या अन्य परेशानी की स्थिति भी नहीं बनेगी। इस लिहाज से जरूरी है कि तालाबों का पानी शत -प्रतिशत रूप से पीने के लिए आरक्षित किया जाए। वहीं यह देखने में आया है कि रबी फसलों के सीजन में सिंचाई के लिए पानी की चोरी भी होती है। ऐसे में पानी की चोरी के कारण एक बहुत बड़ी समस्या पैदा हो जाती है। इस बार भूजल स्तर में गिरावट का दौर बना सकता है। इसलिए पानी को बचाने की पहल करना होगी और तालाब के पानी को सुरक्षित रखना होगा। इस बारे में नगर पालिका के प्रभारी अधिकारी विजय कुमार शर्मा का कहना है कि हम बैठक के पूर्व ही अपना प्रस्ताव बनाकर भेज देंगे। हम चाहते हैं कि दोनों ही तालाबों का पानी हर वर्ष की तरह पेयजल के लिए आरक्षित कर दिया जाए। सिंचाई के लिए कम से कम पानी दिया जाए। साथी पानी की चोरी रोकने के लिए प्रशासन से जो मदद की अपेक्षा है उसके लिए भी हम प्रशासन से मदद के लिए पत्र लिखने जा रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local