बदनावर (नईदुनिया न्यूज)। तहसील में यूरिया खाद की कमी ने किसानों को संकट में डाल दिया है। खासकर समिति के सदस्य नहीं होने व डिफाल्टर किसान जो नकद भुगतान पर खाद खरीदने के लिए एकमात्र बिक्री केंद्र मार्केटिंग सोसायटी बदनावर पर निर्भर हैं, किंतु वहां भी इतना खाद सप्लाइ किया जाता है कि इससे पांच गुना अधिक किसान कतार में खड़े रहते हैं। सभी समितियों पर नकद भुगतान पर खाद बिक्री के आदेश प्रदान करने की मांग की जा रही है। इधर, विभाग द्वारा समितियों के पास खाद उपलब्धता बताई जा रही है।

क्षेत्र में बोवनी लगभग अब पूर्ण हो चुकी है और किसान को अब फसलों में डालने के लिए यूरिया खाद की सख्त आवश्यकता महसूस की जा रही है। समितियों के पास खाद की उपलब्धता बरकरार है, जहां परमिट के आधार पर किसानों को खाद दिया जा रहा है, किंतु डिफाल्टर किसान खाद के लिए इधर-उधर भटकने को मजबूर हैं। सूत्रों की माने तो फेडरेशन द्वारा पहले समितियों को खाद दिया जाता है, उसके बाद शेष रहने पर नकद बिक्री केंद्र पर पहुंचाया जाता है। ऐसे में नकदी केंद्र पर खाद मांग की तुलना में काफी कम मात्रा में मिलता है। कर्ज माफी के कारण बैंकों से डिफाल्टर किसानों की संख्या इस मर्तबा अधिक है। इसी वजह से नकदी केंद्र पर किसान बड़ी संख्या में खाद के लिए परेशान होते रहते हैं। मंगलवार को बदनावर की मार्केटिंग सोसायटी केंद्र पर 450 बोरी यूरिया खाद आया था। बुधवार को 135 किसानों को नकद में खाद वितरित किया गया।

सात समितियों में खाद किया सप्लाइ

मंगलवार व बुधवार को बदनावर समिति समेत ग्राम काछीबड़ौदा, कोद, कड़ौद, धारसीखेड़ा व बखतगढ़ एवं बिड़वाल समिति को 18-18 टन, मार्केटिंग सोसायटी को 20 टन, कानवन को 36 ट्रन यूरिया भेजा गया। मप्र राज्य सहकारी विपणन संघ मर्यादित धार के भंडारण केंद्र बदनावर के गोदाम प्रभारी मोतीराम मंडेला ने बताया कि गोदाम में फिलहाल 46 टन यूरिया स्टाक में है। गुरुवाार को और भी यूरिया आ सकता है।

रुक-रुककर होती है खाद की सप्लाइ

मार्केटिंग सोसायटी बदनावर के खाद वितरण प्रभारी महेश गुप्ता ने बताया कि यहां रुक-रुककर खाद की सप्लाइ प्राप्त होती है। जैसे ही खाद मिलता है, तुरंत ही किसानों को दो बीघा में एक बोरी के मान से वितरित कर दिया जाता है। किसान नेता शिवरामसिंह रघुवंशी ने बताया कि रतलाम व मंदसौर कलेक्टर ने सोसायटी पर डिफाल्टर किसानों को भी नकद में खाद बिक्री करने के आदेश दिए हैं। इस प्रकार धार जिले में भी इस प्रकार से आदेश देना चाहिए।

बारिश में भी खाद लेने पहुंचे किसान

- अब तक चार सौ किसानों को मिला नकद भुगतान पर खाद, बुधवार शाम तक एक हजार बोरी बची स्टाक में

राजगढ़ (नईदुनिया न्यूज)। मप्र राज्य सहकारी विपणन संघ मर्यादित के भंडारण केंद्र पर पिछले तीन दिन से नकद भुगतान पर खाद विक्रय किया जा रहा है। बुधवार को दिनभर रिमझिम बारिश के बावजूद किसान खाद लेने पहुंचे। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि वर्तमान में अन्नादाताओं के लिए खाद कितना कीमती होगा।

स्मरणीय है कि विधायक प्रताप ग्रेवाल के प्रयास से नकद भुगतान पर खाद विक्रय केंद्र प्रारंभ हुआ है। इसके बाद से ही प्रतिदिन केंद्र पर किसानों का जमावड़ा लग रहा है। बुधवार सुबह मौसम में ठंडक होने के साथ ही बारिश का दौर भी जारी रहा। इसके बावजूद किसान खाद लेने के लिए केंद्र पर अड़े रहे। शाम साढ़े चार बजे तक 100 से अधिक किसानों को खाद वितरित किया जा चुका था। इसके बाद भी कई किसान खाद लेने के लिए केंद्र के बाहर अपनी बारी का इंतजार करते नजर आए।

अब तक चार सौ को मिला खाद

नकद विक्रय केंद्र प्रारंभ होने के बाद खाद की मांग लगातार बढ़ रही है। इसका अंदाजा केंद्र के बाहर प्रतिदिन लग रही अन्नादाताओं की भीड़ से लगाया जा सकता है। इसके मद्देनजर सोमवार को एक हजार 20 बोरी खाद का आवंटन हुआ है। तीन दिन में अब तक केंद्र से करीब चार सौ किसानों को नकद भुगतान पर खाद विक्रय किया जा चुका है। हालांकि कम मात्रा में खाद मिलने के कारण किसानों की समस्या बरकरार है। मप्र राज्य सहकारी विपणन संघ मर्यादित केंद्र राजगढ़ के प्रभारी नवीन ठाकुर ने बताया कि तीन दिन से लगातार किसानों को खाद उपलब्ध कराया जा रहा है। वर्तमान में केंद्र पर करीब एक हजार बोरी खाद उपलब्ध है, जो दो से तीन दिन में वितरित हो जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local