धरमपुरी। नईदुनिया न्यूज। कोरोना काल के स्थगित बिलों की राशि समायोजित कर दिसंबर 2021 के बिजली बिल में जोड़कर दे दी गई है। इससे नगर में हड़कंप मचा हुआ है। बिजली के भारी भरकम बिल देखकर उपभोक्ताओं के होश उड़े हुए हैं। गरीब व मजदूर उपभोक्ता बढ़े हुए बिजली बिलों को लेकर परेशान हैं। जिसकी सुनवाई भी विद्युत वितरण कंपनी का कोई अधिकारी करने को तैयार नहीं है। इसे लेकर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी द्वारा गुरुवार को कार्यालय के बाहर धरना देकर ज्ञापन सौंपा गया।

ब्लॉक कांग्रेस कमेटी व नगर परिषद अध्यक्ष शब्बीर पहलवान के नेतृत्व में विद्युत वितरण कंपनी के स्थानीय कार्यालय परिसर में धरना दिया गया। इसमें कांग्रेस नेताओं के साथ नगर के बिजली उपभोक्ता शामिल हुए। गौरतलब है कि कोरोना काल में स्थगित किए गए बिजली के बिलों को पुनः समायोजित कर दिसंबर के बिजली बिल में जोड़ दिया गया है। इसके चलते गरीब, मजदूर व मध्यमवर्गीय परिवारों को दो हजार से लेकर 77 हजार तक के बिल थमा दिए गए हैं। इतनी भारी राशि के बिल भरने में लोग सक्षम नहीं है। इसे लेकर लोग विद्युत वितरण कंपनी कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं। बिजली बिलों में सुधार को लेकर ब्लॉक कांग्रेस द्वारा धरना प्रदर्शन किया गया। शब्बीर पहलवान ने कहा कि प्रदेश सरकार जहां उद्योगपतियों से बकाया अरबों रुपये के बिजली बिल वसूल नहीं कर पा रही हैं, तो दूसरी ओर गरीब व मजदूरों को भारी भरकम बिल थमा दिए गए हैं। धरना प्रदर्शन पश्चात मप्र विद्युत वितरण कंपनी के सहायक यंत्री अजय चौकड़े को ज्ञापन सौंपा गया। धरना प्रदर्शन में पार्षद हाजी बाबू खान, नौशाद बादशाह, विधायक प्रतिनिधि सुदामा सेन, कांग्रेस नेता अकील जमींदार, सल्लू नेता, शाहबाज खान, अजीज मौलाना आदि उपस्थित थे। इस दौरान नगर के पीड़ित उपभोक्ता व महिलाएं मौजूद थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local