धामनोद (नईदुनिया न्यूज)। धरमपुरी ब्लाक की ग्राम पंचायत बगवानिया में कई पात्र हितग्राही ऐसे हैं, जिन्हें अब तक प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ नहीं मिला है। ऐसे में आगामी वर्षा इनके लिए मुसीबत का सबब बन सकती है। वर्षा के शुरुआती दिनों में ही गरीब लोगों को इसका खामियाजा भुगतना भी पड़ रहा है। गुरुवार को ग्राम पंचायत बगवानिया के मजरा ग्राम तालाबपुरा में तेज हवाओं के साथ हुई वर्षा से एक गरीब की झोपड़ी ढह गई। झोपड़ी में रखी राशन सहित अन्य सामग्री तहस-नहस हो गई। ग्रामीणों ने पात्र हितग्राहियों को आवास योजना का लाभ देने की मांग की है।

दरअसल, बगवानिया आदिवासी बहुल गांव होने के साथ-साथ पहाड़ी इलाके से घिरा हुआ है। यहां के गरीब परिवार आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं। यहां के करीब 15 पात्र हितग्राही अब तक प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभ से वंचित हैं। इसका मुख्य कारण सामने आ रहा है कि पंचायत के अधिकारियों सहित जनपद पंचायत के आला अधिकारियों ने जिम्मेदारी ठीक तरह से नहीं निभाई है।

तंबू में गुजारी रात, सूची में नाम आने के बाद भी लाभ नहीं

बगवानिया के मजरा तालाबपुरा में गुरुवार को तेज हवा-आंधी के साथ हुई वर्षा में झबरसिंह भानु सिंगारे की झोपड़ी ढह गई। झबरसिंह ने बताया कि झोपड़ी गिरने के बाद पूरी रात तंबू में गुजारनी पड़ी। सालों से शासन की योजनाओं का लाभ पंचायत द्वारा नहीं दिया गया है। झबरसिंह ने बताया कि मैंने पीएम आवास योजना के लिए पंचायत में दो से तीन बार आवेदन दिया है। जो भी कागज मांगे, वह जमा किए गए थे। पीएम आवास बनाने के लिए जारी सूची में मेरा नाम आने के बावजूद पंचायत के जिम्मेदारों ने लाभ नहीं दिया। साथ ही सरकार द्वारा चलाई जाने वाली शौचालय निर्माण योजना सहित अन्य जनकल्याणी योजनाओं का लाभ भी नहीं दिया गया है। तालाबपुरा के निवासी आदिवासी सामाजिक कार्यकर्ता अनिल सिंगारे, श्रीराम मकवाने, करणसिंह, गंगाराम, कमल, विजय, विनोद, चंदन, अजय, महेश आदि ग्रामीणों ने सरकार से झबरसिंह सिंगारे को पीएम आवास योजना का लाभ देने की अपील की है।

नल कनेक्शन भी नहीं मिले

युवाओं ने बताया कि हमारे गांव में पूरी गर्मी गुजर गई है. लेकिन अभी तक नल-जल योजना का लाभ नहीं दिया गया है। केवल कुछ ही जगह पर पाइप डाले गए हैं। अन्य जगह खोदाई कर छोड़ दी गई है। जो पाइप डाले गए हैं, उनमें भी पानी अब तक नहीं आ पाया है। समस्या को लेकर कई बार शिकायत करने के बावजूद ध्यान नहीं दिया गया।

सूची में नाम देखेंगे

पंचायत सचिव अशोक सेन ने बताया कि झोपड़ी ढही है तो पटवारी द्वारा पंचनामा तैयार कर आपदा प्रबंधन अधिकारी को दिया जाता है। पीएम आवास योजना की सूची में देखा जाएगा कि इनका नाम है या नहीं। नल-जल योजना का काम तालाबपुरा में अभी चल रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close