मनावर (नईदुनिया न्यूज)। नगर में एक पखवाड़े पूर्व धार रोड स्थित मंडी गेट के आगे सड़क के मध्य लगे विद्युत पोल को एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी। इससे पोल सड़क की ओर झुक गया था। साथ ही झूलता नजर आ रहा था। इसको लेकर नईदुनिया ने 24 जून के अंक में 'ट्रक ने मारी थी टक्कर, पखवाड़े बाद भी झूल रहा पोल' शीर्षक से प्रमुखता से समाचार प्रकाशित किया था। खबर प्रकाशित होने के अगले दिन ही शनिवार सुबह से जिम्मेदारों ने सक्रियता दिखाई। विद्युत कंपनी ने हादसों का सबब बन रहे झूलते पोल को हटाकर नया पोल लगाया। ऐसे में अब हादसों पर ब्रेक लगेगा।

एक पखवाड़े पूर्व ट्रक की टक्कर लगने के बाद पोल झुक गया था। बिजली के मेन लाइन के तार टूट गए थे। इससे आधे क्षेत्र की विद्युत लाइन बंद हो गई थी। इस पर विद्युत कर्मियों ने रात्रि में ही विद्युत तार जोड़कर विद्युत प्रदाय शुरू कर दिया था, लेकिन झूलते पोल को दुरुस्त करने की जहमत नहीं उठाई गई थी। मानसून की सक्रियता के बाद तेज हवा व आंधी का दौर शुरू होगा। ऐसे में रहवासियों को डर था कि कहीं यह पोल बारिश या हवा-आंधी के दौरान कहीं गिर न जाए।

ट्रैक्टर की मदद से खड़ा किया पोल

विद्युत कंपनी ने नया पोल ट्रैक्टर की मदद से लगाया। पोल लगाने के लिए कंपनी द्वारा गड्ढा खुदवाया गया था। रिमझिम बारिश होने से काम नहीं हो पाया। इस पर शनिवार सुबह सात बजे के करीब धार रोड क्षेत्र की बिजली बंद कर नया पोल लगाने का कार्य शुरू किया। ट्रैक्टर की मदद से पोल को खड़ा किया गया। इसके बाद मजबूती के लिए पोल के आजू-बाजू सीमेंटीकरण किया गया। काम पूर्ण होने के बाद विद्युत सप्लाय सुचारू की गई।

रेडियम और लाइन लगानी चाहिए

नया पोल लगने के बाद से रहवासियों ने भी राहत की सांस ली है। रहवासी राजेश सोलंकी, दिलीप राठौड़, महेश सोलंकी, जुजर हुसैन, भरत सेन, लखन यादव ने बताया कि पोल झुकने के साथ ही हवा में झूलता हुआ नजर आता था। इसलिए नया पोल लगाना जरूरी था। विद्युत कंपनी ने पोल तो नया लगा दिया है, अब इस पर रेडियम और लाइट लगाना जरूरी है, ताकि दूर से ही वाहन चालक सतर्क हो जाए। रेडियम और लाइट नहीं होने से रात्रि के समय में यह पोल दूर से दिखाई नहीं देते हैं और वाहन चालक इससे टकरा जाते हैं।

बिना सुरक्षा उपकरण पोल पर चढ़कर काम किया

बिजलीकर्मी बिना सुरक्षा उपकरण के मेन लाइन के खंभे पर चढ़कर काम करते नजर आए। उनकी सुरक्षा को लेकर देखने वाला नहीं था। वर्षा के दिनों में अक्सर विद्युत कर्मियों को इस तरह बिना सुरक्षा उपकरण के काम करते देखा जाता है। वर्षा के समय दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। अधिकतर विद्युतकर्मी बेफिक्र होकर चप्पल, हेलमेट, किट-ग्लब्स के बिना ही बिजली के पोलों पर चढ़कर काम करते हैं। इससे कभी भी जनहानि हो सकती है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close