धार (हमारे प्रतिनिधि)। जिले के आदिवासी बहुल निसरपुर, कुक्षी, बाग, टांडा के साथ-साथ बदनावर में ग्रामीण सत्ता के लिए शनिवार को लोगों ने लंबी कतारों में लगकर मतपत्र पर ठप्पा लगाया। करीब सात साल बाद हुए इस चुनाव को लेकर मतदाताओं में उत्साह था। वहीं मतपत्र से चुनाव करवाए जाने के कारण इसमें वक्त भी अधिक लगा। यही वजह थी कि सुबह 7 से दोपहर 3 बजे तक के 8 घंटे भी मतदान में कम पड़ गए। इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि बाग विकासखंड में 55 मतदान केंद्रों पर ही मतदान 3 बजे तक समाप्त हुआ था। जबकि 134 मतदान केंद्रों पर मतदान की प्रक्रिया 3 बजे बाद भी चल रही थी। इसी प्रकार कुक्षी विकासखंड में 57 मतदान केंद्रों पर मतदान संपन्ना हो चुका था लेकिन 3 बजे बाद 65 मतदान केंद्रों पर लंबी कतार लगी हुई थी। जहां शाम 7ः30 बजे तक मतदान की प्रक्रिया चलती रही। निसरपुर में भी 57 स्थानों पर मतदान संपन्ना हो चुका था। दोपहर 3 बजे बाद 67 मतदान केंद्रों पर मतदान की प्रक्रिया चलती रही। यानी लगभग हर विकासखंड में 3 बजे बाद 50% से भी अधिक मतदान केंद्र पर मतदान चलता रहा। डही में दोपहर में 90 केंद्रों पर मतदान हो चुका था। वहीं तीन बजे बाद 51 केंद्रों पर प्रकिया जारी थी।

ऐसे में यह बात समझ में आई कि मतदान के लिए समय अधिक लगेगा। क्योंकि मतपत्र से इस प्रक्रिया को पूरा करने में और लोगों को मतदान के बारे में समझने में समय लग रहा है। इधर मतगणना की प्रक्रिया कुछ स्थानों पर शुरू हो गई थी लेकिन शाम तक उसको लेकर व्यवस्था बनाई गई। गौरतलब है कि जिला पंचायत के 18 वार्डों के लिए पहले चरण में मतदान की प्रक्रिया शनिवार को पूरी की गई। इसमें निसरपुर, कुक्षी, बाग, डही और बदनावर शामिल हैं। इन पांच विकासखंडों में महत्वपूर्ण रूप से जिला पंचायत के 10 व 86 जनपद पंचायत सदस्यों के भाग्य का फैसला हुआ है। साथ ही 252 ग्राम पंचायतों में ग्राम सरकार के लिए लोगों ने मतदान किया है। इसके लिए इन पांच विकासखंडों में 886 मतदान केंद्र बनाए गए थे। जहां पर शनिवार को सुबह 7 बजे मतदान शुरू हुआ। कुछ स्थानों पर भीषण गर्मी में लोगों ने खड़े होकर मतदान किया। कई स्थानों पर मौसम की मेहरबानी भी रही। आसमान पर बादल छाए रहे और ऐसे खुशनुमा मौसम में उत्साह के साथ मतदान किया।

आठ घंटे क्यों कम पड़ गए

बता दें कि इस चुनाव प्रक्रिया के लिए 8 घंटे का वक्त रखा गया था। करीब सात साल बाद हुए इस चुनाव में एक परिवर्तन किया गया। इसके पहले केवल पंच पद के लिए ही मतपत्र का उपयोग किया गया था जबकि जिला पंचायत, जनपद सदस्य और सरपंच के लिए ईवीएम का उपयोग किया गया था। ऐसे में ईवीएम से तत्काल प्रभाव से व्यवस्थाएं बनाना आसान था। चुनाव भी आसानी से हो गए। इस बार मत पत्र के माध्यम से चारों पद के लिए चुनाव हुए। इसीलिए मतदाता को मतदान केंद्र पर औसत रूप से करीब आधे घंटे देना पड़े। इतना ही नहीं कुछ मतदान केंद्रों पर तो एक घंटे का समय मतदाताओं को अपने मताधिकार का उपयोग करने के लिए लगा। अधिक समय लगने की वजह है कि लोग प्रक्रिया को समझने में कठिनाई महसूस कर रहे थे। प्रक्रिया समझने के बाद पहले दो मत पत्र दिए गए। उसके बाद दो मत पत्र दिए गए। इस तरह से चारों मतपत्र पर मोहर लगाना और सही तरीके से मोहर लगाने की व्यवस्था पर एक बड़ी चुनौती रही।

पांच ब्लाक में सुबह सात से दोपहर तीन बजे तक का मतदान

ब्लाक पुरुष मतदाता महिला मतदाता कुल प्रतिशत

बाग 27784 27052 54836 59.19

बदनावर 55749 59534 115283 73.91

निसरपुर 23200 24225 47425 69.80

कुक्षी 22617 23285 45902 70.92

डही 24917 5493 50410 63.16

कुल 154267 159589 313856 68.07

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close