बदनावर (नईदुनिया न्यूज)। ब्लाक में त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव के प्रथम चरण में मतदान निर्विघ्न संपन्ना हुआ। बढ़त प्राप्त करने वाले प्रत्याशियों को अब निर्वाचित होने का प्रमाण पत्र प्रदान करना ही बाकी रह गया है। ग्राम सरकार के गठन में जुटे सभी जनप्रतिनिधि एवं दूसरी विधानसभाओं के नेताओं ने अब नगरीय निकाय चुनाव में प्रचार-प्रसार के लिए रुख कर लिया है। बदनावर नगर परिषद में छह जुलाई को मतदान होना है। ऐसे में दोनों प्रमुख दल के बड़े नेता 26 जून से ही बदनावर शहर में कमान संभाल चुके हैं। थोड़ी उठापटक के बाद भाजपा और कांग्रेस के पार्षद प्रत्याशी घोषित होकर प्रचार अभियान में जुट गए हैं।

भाजपा ने टिकट वितरण के बाद उभरे असंतोष को कम करने के लिए लंबी-चौड़ी कवायदें की हैं और उसमें काफी हद तक वे सफल भी हुए हैं। इसके लिए वार्ड क्रमांक आठ का टिकट भी ऐनवक्त पर बदलकर भाजपा के जिला उपाध्यक्ष को दे दिया गया। जबकि कांग्रेस वार्ड क्रमांक चार और 13 में अपना अधिकृत उम्मीदवार तक उतार नहीं पाई है। फिर भी नगर परिषद में उनका प्रमुख चेहरा निवृतमान परिषद अध्यक्ष है। वार्ड क्रमांक 11 से उनका मुकाबला निवृतमान उपाध्यक्ष से हैं। पांच साल तक जिस अध्यक्ष-उपाध्यक्ष की जोड़ी ने कंधे से कंधे मिलाकर कार्य किए थे, आज वही बदली हुई परिस्थितियों में एक-दूसरे के विरुद्ध ताल ठोक रहे हैं। इस मुकाबले पर नगर सहित पूरी विधानसभा की नजरें जमी हुई हैं। इसी तरह भाजपा के जिला उपाध्यक्ष व नप के पूर्व उपाध्यक्ष तथा आठ विधानसभा चुनाव का संचालन कर चुके भाजपा जिला उपाध्यक्ष की पत्नी भी वार्ड क्रमांक 10 से मैदान में हैं। भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष व दो बार पार्षद रहे नेता वार्ड क्रमांक 12 से स्वयं मैदान में उतरे हैं, तो भाजपा पिछड़ा मोर्चा के प्रदेश सहमीडिया प्रभारी ने वार्ड क्रमांक एक से अपनी बहन तथा भाजपा के पूर्व जिला महामंत्री व दबंग हिंदूवादी नेता ने वार्ड पांच से अपनी पत्नी को उम्मीदवार बनाया है।

मैदान में उतरे प्रत्याशी

अप्रत्यक्ष प्रणाली से अध्यक्ष का चुनाव होने के कारण प्रत्येक वार्ड में चुनावी घमासान होने की पूरी संभावना है। खासकर अन्य पिछड़ा वर्ग की महिलाएं जिस वार्ड से उम्मीदवार हैं, उनकी पैनी निगाहें जमी हुई हैं। पहले केवल अध्यक्ष का प्रचार जोर-शोर से होता था, लेकिन इस चुनाव में हर वार्ड में लाउड स्पीकर की ध्वनियां सुनाई देगी। हर वार्ड में कार्यालय खोले जा रहे हैं और सभी प्रत्याशी चुनावी घोषणा पत्र जारी कर रहे हैं। इंटरनेट मीडिया का सहारा लिया जा रहा है तथा घर-घर दस्तक देने का काम भी प्रत्याशी जोर-शोर से कर रहे हैं। हालांकि राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा पार्षद पद के प्रत्याशियों के लिए खर्च सीमा तय करने से बड़े-बड़े होर्डिंग, बैनर व पोस्टर कम दिखाई दे रहे हैं। कुल मिलाकर प्रत्याशी प्रचार-प्रसार में खर्च फूंक-फूंककर कर रहे हैं। घर-घर दस्तक देकर मतदाताओं को अपने पक्ष में मनाने में ज्यादा पसीना बहा रहे हैं।

मंत्रीद्वय दत्तीगांव और चौधरी ने कार्यकर्ताओं से की मुलाकात

मांडू। नगर परिषद चुनाव की तिथि नजदीक आते ही बड़े नेता मांडू पहुंचने लगे हैं। सोमवार को यहां पहुंचे उद्योग मंत्री राजवर्धनसिंह दत्तीगांव ने कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। इसके बाद शाम को प्रदेश के स्वास्थ्य एवं धार जिले के प्रभारी मंत्री प्रभुराम चौधरी भी यहां आए। उन्होंने कार्यकर्ताओं से चुनावी चर्चा की।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close