धार (नईदुनिया प्रतिनिधि)। मौसम में बदलाव के कारण वायरल फीवर के मरीज बढ़े हैं, वायरल फीवर, कोरोना के लक्षण काफी मिलते-जुलते हैं। वायरल फीवर में सर्दी, जुकाम, गले में खराश के साथ शरीर के तापमान में वृद्धि होने पर नजरअंदाज नहीं करें, कोरोना में जुबान में स्वाद नहीं आना, नाक से खुशबू नहीं आना, गले में खराश रहना, सांस लेने में तकलीफ के लक्षण हैं। अगर इसमें से कोई भी लक्षण आपको हैं तो तुरंत अपने डाक्टर से संपर्क करें।

उक्त बात नईदुनिया हेलो डाक्टर कार्यक्रम के तहत नईदुनिया कार्यालय धार पहुंचे जिला महामारी नियंत्रण अधिकारी डा. संजय भंडारी ने पाठकों से कही। पाठकों ने फोन पर समस्या बताई तो उन्हें उचित समाधान बताया। एक घंटे के कार्यक्रम में कई लोगों ने फोन पर चर्चा की। डा. भंडारी ने बताया कि कोरोना की पहली, दूसरी व तीसरी लहर में जिले में 16 हजार 743 पाजिटिव केस निकले हैं। वहीं 317 लोगों की मौत हो चुकी है। वर्तमान में हमारा जिला कोरोना मुक्त है। हमें अब नियमों का पालन कर सावधानी से धार जिले को हमेशा कोरोना मुक्त रखना है।

वायरल फीवर के लक्षण

-नाक बहना

-खांसी चलना

-थकान महसूस होना

-चक्कर आना

-कमजोरी लगना

-बदन दर्द

-गले में दर्द

-बुखार आना

-सिर में दर्द होना

कोरोना के लक्षण...

-घबराहट

-गले में खरास, जुकाम

-स्वाद और गंध चले जाना

-सांस लेने में परेशानी

-लगातार तेज बुखार बना रहना

यह रखें सावधानी....

-टीकाकरण प्राथमिकता से करवाएं

-30 से 45 मिनट प्रतिदिन व्यायाम करें

-प्रोटीनयुक्त भोजन का सेवन करें

-फलों का सेवन करें

-भीड़ वाली जगह पर काटन के मास्क का प्रयोग

-बच्चों की डाइट का विशेष ध्यान रखें

पाठकों के सवालों के जवाब

सवाल- बुखार आ रहा...गले में दर्द है। इसे वायरल फीवर समझें या कोई खास जांच करवाना होगी।- दिव्यांश तिवारी, मांडू

जवाब- बुखार व गले में दर्द होना, इसमें जांच कराने की आवश्यकता नहीं है। वर्तमान में वर्षा का समय चल रहा है। इस कारण े गले में खराश होना स्वभाविक है। यह सामान्य लक्षण वाला वायरल है। चिंता की बात नहीं है पर एक बार अपने डाक्टर से परामर्श अवश्य लें।

सवाल- पांच से छह दिन पहले वायरल हुआ था...सीआरपी नामक जांच में 14.6 प्रतिशत आया, क्या यह कोरोना के लक्षण हैं। -योगेंद्र गुप्ता, कुक्षी

जवाब- हर प्रकार के वायरल में सीआरपी का लेवल बढ़ जाता है। यह जरूरी नहीं है कि सीआरपी बढ़ा है तो कोरोना है। कोरोना की पुष्टि के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट करवाया जाता है। आप प्रतिदिन प्राणायाम करें। आपका इम्यूनिटी पावर बढ़ा रहेगा तो कोरोना से लड़ने में राहत होगी।

सवाल- वर्तमान में जो लापरवाही हो रही है, ऐसे दौर में कोरोना से हम परिवार को कैसे बचाएं। - राहुल पाटीदार, खलघाट

-जवाब :परिवार का टीकाकरण हो चुका है। आप परिवार की सुरक्षा के लिए जब भी घर से निकलें तो नाश्ता करके निकलें, खाली पेट नहीं निकलें। खाने में फलों, सब्जियों का सेवन करें। साथ ही हाथों को समय-समय पर धोएं।

सवाल-मेरी दो बच्ची स्कूल जाती हैं...उनको कोरोना से बचाने के लिए क्या करें। - चेतना राठौर, अमझेरा

जवाब-बच्चों का इम्यूनिटी पावर अच्छा रहता है। फिर भी जब बच्ची स्कूल जाती हैं तो नाश्ते में जो लंच बाक्स में पौष्टिक आहार देना चाहिए। बच्चों की डाइट में विशेष प्रोटीन का ध्यान रखें। साथ ही बच्चों को समय-समय पर हाथ धुलवाएं और भीड़भाड़ वाली जगह से उन्हें दूर रखें।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close