शुभम राठौड़

धार (नईदुनिया )

शहर से 12 किलोमीटर दूर ग्राम तिवड़ी में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की लापरवाही सामने आई है। विभाग ने माध्यमिक विद्यालय के खेल मैदान में कुएं के आकार की तरह बड़ा गड्ढा खोद दिया जिससे हादसे का डर बना रहता है। शिक्षकों ने आपत्ति दर्ज करवाई तो भी गड्ढे भरने की ओर ध्यान नहीं गया। न ही इस स्थान पर कोई सुरक्षा जाली या बेरिकेड्स लगाए गए हैं। विद्यालय में कक्षा पहली से आठवीं तक के बच्चे अध्ययनरत हैं। बच्चों की जान जोखिम में है। वहीं वर्षा ऋतु में यह गड्ढा 80 प्रतिशत भर चुका है। तेज वर्षा होने पर यह गड्ढा पूरा भर जाएगा। इससे यहां कभी भी बड़ी दुर्घटना हो सकती है।

दरअसल इन दिनों ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल योजना के तहत टंकियों का निर्माण करवाया जा रहा है। इसमें लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ने ग्राम तिवड़ी में शासकीय माध्यमिक विद्यालय की जमीन पर ही गड्ढा खोद दिया जबकि नियमानुसार यह गड्ढा विद्यालय परिसर में नहीं खोदा जा सकता है। मई में शिक्षकों की गैर मौजूदगी में विभाग के कर्मचारियों ने गड्ढा खोद दिया। इसके बाद दो माह से भी अधिक समय गुजर चुका है पर अब तक गड्ढे को भरने का कार्य नहीं किया गया। यहां तक कि टंकी निर्माण का कार्य भी अब तक शुरू नहीं हो पाया है। सिर्फ बेस के तौर पर कुएं के आकार की तरह 20 फीट का बड़ा गड्ढा खोद दिया है। मैदान में गड्ढा खोदने की वजह से बच्चों को खेलने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं पूरे दिन शिक्षकों में भी हादसे का डर बना रहता है। अगर कोई भी बच्चा इस गड्ढे में गिर जाता है तो इसका जिम्मेदार कौन रहेगा यह अपने आप में एक प्रश्न बना हुआ है।

पंचायत ने किया संपर्क... इंजीनियर ने दिया अजीबोगरीब जवाब

शिक्षकों की गैरमौजूदगी में विद्यालय के खेल मैदान पर कुएं के आकार की तरह गड्ढा खोदने के बाद जब शिक्षकों ने देखा तो उन्होंने पंचायत में संपर्क किया। इसमें उन्हें बताया गया कि जल्द ही कार्य पूरा हो जाएगा बच्चों को परेशानी नहीं होगी। जून में बच्चों का स्कूल आना शुरू हो गया। इसके बाद जब दोबारा उनसे संपर्क किया गया तो उन्होंने इंजीनियर का हवाला दिया। पीएचई इंजीनियर से चर्चा की गई तो उन्होंने शिक्षकों को अजीबोगरीब जवाब दिया है। इंजीनियर का कहना है कि कार्य जल्दबाजी में नहीं होगा। शिक्षकों का कहना है कि अगर बच्चे गड्ढे में गिर जाते हैं तो उसका जवाबदार कौन रहेगा।

आंगनबाड़ी के बच्चों की जान का खतरे में

स्कूल भवन के पास में ही आंगनबाड़ी का संचालन किया जाता है। ऐसे में प्रतिदिन बच्चों का भी इसी मैदान से गुजरना होता है। तेज वर्षा में जब यह गड्ढा पूर्ण रूप से भर जाएगा तो मैदान में गड्ढे का पता नहीं चल पाएगा। ऐसे में हादसे की आशंका बनी रहेगी।

- स्कूल परिसर में टंकी निर्माण के लिए गड्ढा खोदे जाने की जानकारी नहीं है। अब जानकारी आने पर कर्मचारी से जानकारी लेकर वहां पर पहले तो सुरक्षा घेरा लगाया जाएगा। इसके बाद टंकी वहां क्यों बनाई जा रही है, इस बारे में भी जानकारी ली जाएगी। - ए. वर्मा , कार्यपालन यंत्री, पीएचई, धार

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close