धार (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन डा. एमएल मालवीय की चिकित्सक बेटी का निधन हो गया। बुधवार रात को अचानक बेटी को तेज बुखार आने के कुछ घंटे बाद गुरुवार सुबह उसकी मौत हो गई। फिलहाल मौत का कारण स्पष्ट नहीं हुआ है। इधर चिकित्सक बेटी का इंदौर मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार किया गया। इसमें बड़ी संख्या में चिकित्सक शामिल हुए। अचानक चिकित्सक की मौत चिंता का विषय बन गया है।

जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डाक्टर एमएल मालवीय की बेटी महक मालवीय की एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी होने के बाद इंटर्नशिप चल रही थी। डाक्टर महक को बुधवार रात्रि 10 बजे तेज बुखार आने के कारण धार के निजी अस्पताल लाया गया। डाक्टरों की टीम की निगरानी में उपचार किया गया। बुखार कम होने का नाम नहीं ले रहा था। ऐसे में टीम द्वारा महक को इंदौर के निजी अस्पताल में रेफर किया गया जहां उपचार के दौरान गुरुवार सुबह नौ बजे मौत हो गई।

अस्पताल में शोक की लहर

सिविल सर्जन की बेटी की मौत के बाद जिला अस्पताल में शोक की लहर छा गई है। गुरुवार को पूरे दिन अस्पताल के कर्मचारियों के बीच चर्चाएं चल रही थीं। इधर इस मामले में सबसे बड़ा प्रश्न खड़ा हो रहा है किन परिस्थितियों में सिविल सर्जन की बेटी की मौत हुई है। यह पूरे दिन चर्चा का विषय बना रहा।

सिविल सर्जन का रो-रोकर बुरा हाल

बेटी की मौत के बाद सिविल सर्जन डा. एमएल मालवीय का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। उन्हें विश्वास नहीं हो रहा है कि उनकी बेटी आज उनके बीच नहीं है। डाक्टर मालवीय की दो बेटियां हैं। इसमें महक छोटी बेटी है। बड़ी बेटी इंजीनियर है। एक छोटे से परिवार से अचानक एक सदस्य कम होने का विश्वास किसी को नहीं हो रहा है। वही ंमां व बहन का भी बुरा हाल हो गया है। जो बेटी पिता के कंधे से कंधा मिलाकर लोगों की सेवा करना चाहती थी, आज वह बेटी इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह गई जिसका स्वजनों को विश्वास नहीं हो रहा।

थथथथ

इर्ीॅािीि घीाचैनज थ

ऽऽऽऽ

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close