-हजारों लोग आए, साध्वी ऋतंभरा नहीं आईं, धर्मसभा में मुख्य वक्ता संघ के विभाग प्रचारक रघुवंशी ने कहा

धार। मोतीबाग चौक में रविवार को धर्मसभा में साध्वी ऋतंभरादेवी को सुनने हजारों की तादाद में लोग एकत्र हुए। दोपहर तीन बजे तक मंच से घोषणा होती रही कि दीदी मां किसी भी समय आ सकती हैं लेकिन बाद में यह तय हो गया कि वे नहीं आएंगी। इससे लोग निराश हुए। हालांकि कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए साध्वी ऋतंभरा ने जनता को संबोधित किया। इसके बाद संघ के विभाग प्रचारक विक्रमसिंह रघुवंशी ने मंच संभाला। उन्होंने कहा कि संगठित हिंदू समाज जो चाहेगा, वही वसंत पंचमी पर होगा। वहीं उन्होंने 12 फरवरी के संदर्भ में भी चेतावनी दे डाली।

साध्वी ऋतंभरादेवी को सुनने के लिए इतना अधिक उत्साह था कि शहर और आसपास क्षेत्रों से अलसुबह ही लोग मोतीबाग चौक पहुंचने लगे थे। दोपहर 1 बजे तक पंडाल पूरा भर चुका था। इसके बाद लगातार मंच से घोषणा होती रही कि किसी भी समय साध्वीजी आयोजन स्थल पर पहुंच सकती हैं। दोपहर 3 बजे मंच से घोषणा की गई कि मौसम की खराबी के चलते वे दिल्ली से विमान में सवार नहीं हो पाई थीं। इसके बाद विक्रमसिंह रघुवंशी ने कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ऋतंभरादेवी का भाषण जनता को सुनाया। आयोजन स्थल पर प्रशासन की ओर से पुख्ता इंतजाम किए गए थे। पुलिस बल के अलावा 34वीं बटालियन का बल भी यहां मौजूद था।

हम सबके लक्ष्य निश्चित रूप से पूरे होंगे

ऋतंभराजी ने कहा- आंतरिक दृष्टि से हम सब भारत के नागरिक हैं। हमारे लिए राष्ट्रहित ही सर्वोपरि है। मैं आपके बीच में उपस्थित नहीं हो पाई क्योंकि सुबह मौसम खराब था। दो-चार मिनट की देरी हो गई और हमें हवाई जहाज में नहीं लिया गया और मैं यहां आने से वंचित हो गई। मैं आप सबको और भोज उत्सव समिति को शुभकामनाएं देती हूं। हम सबके लक्ष्य निश्चित पूरे होंगे। मैं आपके बीच उपस्थित हूं, जब याद करोगे, मैं आपके साथ ही हूं, आप ऐसा मानिएगा। अपनी विवशता के लिए किसी को दोष नहीं दे सकती।

'षड्यंत्रकारी हैं वे, जिन्हें लोग मामा बोलते हैं'

कार्यक्रम की अध्यक्षता जगदीशचंद्र शर्मा, विमल गोधा व पंचघाटी के शहीद लक्ष्मणजी के पिता तालम बाबा ने की। भोजशाला आंदोलन की भूमिका गोपाल शर्मा ने प्रस्तुत की। वहीं विक्रमसिंह रघुवंशी ने कहा- मुझे ऐसा लगता है दीदी मां किसी षड्यंत्र के चलते नहीं आईं। मुझे ऐसा नहीं लगता कि इतना बड़ा व्यक्ति ऐसी चूक कर दे। इंदौर से लेकर भोपाल तक बहुत षड्यंत्रकारी हैं जिनको लोग मामा बोलते हैं। हमारे साथ कोई धोखा हुआ है। हम लोग जरूर दीदी मां को यहां लेकर आने वाले हैं।

2000 बाउंसर तैयार

उन्होंने 12 फरवरी के संदर्भ में कहा कि जो लोग यहां रहेंगे वो तो साक्षी रहेंगे। जो लोग यहां नहीं आएंगे घर बैठकर टीवी पर देख लेना यहां क्या होगा। हमारे लिए डंडा खाना अनिवार्य है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि भोजशाला में पूजा रुकती है, तो क्या होगा, मैं आज इस मंच से नहीं बताने वाला। हमारी पूजा एक मिनट के लिए भी रुकेगी तो तुम 500 बाउंसर बुला लेना। हमारे पास भी इस बार 2000 बाउंसर तैयार हो गए हैं।

समाज वोट देने वाला है

उन्होंने नेताओं को चेतावनी देते हुए कहा कि हमें सत्ता की जरूरत नहीं है। हमारी लाठी में दम होगा तो खुद ही सरकार बदल लेंगे। तुमको वोट ये शासन-प्रशासन नहीं देने वाला है। हिंदू समाज वोट देने वाला है। जो आपको वोट देकर ऊपर ले जा सकता है वही आपको नीचे भी गिरा सकता है। हमारे नए कलेक्टर यहां आए नहीं हैं उनको वहां तक सुनाना पड़ेगा। संचालन हेमंत दौराया ने किया। आभार दीपक गौड़ ने माना।

ये भाजपा नेता पहुंचे सभा में

आयोजन स्थल पर मनावर विधायक रंजना बघेल, सांसद सावित्री ठाकुर और सरदारपुर विधायक वेलसिंह भूरिया, भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. राज बर्फा भी उपस्थित थे। धार विधायक नीना वर्मा नहीं आई। भाजपा के अन्य पदाधिकारी भी उपस्थित रहे।

वर्जन

-शासन द्वारा षड्यंत्र किया गया है। साध्वी ऋतंभराजी नहीं आएं, यह संभव ही नहीं है। समाज अब आगामी दिन में दिशा तय करेगा।

गोपाल शर्मा, धर्मजागरण विभाग प्रमुख

Posted By: