धार-धामनोद। फर्जी आईपीएस मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। फर्जी श्यामसुंदर रौब झाड़ने के लिए आईपीएस बनकर घूम रहा था। वह सालों से लोगों को ठगने का काम कर रहा था। मामले में बड़ा खुलासा यह हुआ है कि उसने अपनी वर्दी का दम दिखाकर गुजरात में एक सब इंस्पेक्टर को अपने प्रेम के जाल में फंसा लिया।

उससे वह शादी करने की तैयारी में था। बताया जा रहा है कि श्यामसुंदर ने उससे करीब 3 लाख रुपए भी लिए हैं। श्यामसुंदर एक संपन्न् परिवार से है। रौब झाड़ने का उसे शौक था। दो साल से उसने वर्दी और नकली आईपीएस बनने के साथ ही लोगों को ठगने काम शुरु कर दिया।

इन दो सालों में उसने हजारों को लोगों को ठगी का शिकार बनाया। बता दें कि पुलिस और क्राइम ब्रांच ने धामनोद के ढाबे से नकली आईपीएस श्यामसुंदर पिता सत्यनारायण शर्मा निवासी ब्यावर जिला अजमेरा राजस्थान को पकड़ा था।



नकली आईपीएस अधिकारी बनकर क्षेत्र में लंबे समय से ठगी करने वाले राजस्थान के श्यामसुंदर (36) पिता सत्यनारायण शर्मा को पुलिस सोमवार को न्यायालय में पेश करेगी। थाना प्रभारी दिलीपसिंह चौधरी ने बताया कि श्यामसुंदर को शनिवार क्राइम ब्रांच धार पूछताछ के लिए ले जाया गया था।

रविवार को वापस लाया गया है। सोमवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा। पुलिस अन्य मामले की पूछताछ के लिए न्यायालय से पुलिस रिमांड मांगेगी। आरोपित के पास से बड़ी संख्या में राशि बरामद हुई है। आरोपित द्वारा अन्य किन स्थानों पर वारदात या ठगी की गई है, उसका खुलासा भी होगा।

Posted By: Hemant Upadhyay