कुक्षी (नईदुनिया न्यूज)। न्यायाधीश गौरव प्रज्ञानंद की अदालत में चले हत्या के मामले में दोषी कालू उर्फ मुकेश जामसिंह निवासी जामला को उम्रकैद की सजा सुनाई गई। तीन वर्ष पहले कालू ने अपनी पत्नी से बातचीत की शंका में एक व्यक्ति की दराती व छुरी मारकर हत्या कर दी थी। कालू के साथ ही उसकी पत्नी रिंकू पर अपराध के साक्ष्‌य छुपाने का आरोप लगा था। साक्ष्‌य के अभाव में पत्नी को बरी कर दिया गया।

घटना दिनांक 14 अप्रैल 2019 को रात्रि 11 बजे के करीब कालू डावर निवासी जामला थाना बाग ने ग्राम झेगदा में सोहन के खेत के पास संदीप उर्फ संजय माड़िया की दराती व छुरी मारकर हत्या कर दी थी। कालू को शंका थी कि संदीप और उसकी पत्नी रिंकू उससे छिपकर एक-दूसरे से बातचीत करते थे। इसी कारण कालू ने यह कदम उठाया। घटना की रात संदीप के परिवार में पूजा-पाठ का कार्यक्रम था। इसमें संदीप खाना खाने गया था। रात में घर के सभी लोग सो गए थे। कार्यक्रम में कालू और उसकी पत्नी रिंकू भी आए थे। सुबह गांव के विमल ने कुएं के पास संदीप की लाश देखी। सूचना पश्चात पुलिस मौके पर पहुंची व जांच शुरू की। प्रकरण में विवेचना के दौरान पुलिस को यह तथ्य सामने आया कि रात में कालू ने संदीप की हत्या करने के बाद कुएं में दराती और छुरी डाल दी थी। खून से सने हाथ-पैर अपने एक रिश्तेदार के यहां जाकर धोए थे। खून वाले कपड़े भी छुपाकर रख दिए थे, जो बाद में पुलिस ने बरामद किए थे। प्रकरण में संपूर्ण कथनों के आधार पर कालू को दोषी पाते हुए उम्रकैद की सजा तथा 25 हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया गया। अतिरिक्त लोक अभियोजक आरके गुप्ता ने प्रकरण में पैरवी की। उन्होंने बताया कि कालू की पत्नी रिंकू को साक्ष्‌य के अभाव में बरी किया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close