धार। नईदुनिया प्रतिनिधि। Madhya Pradesh News मध्य प्रदेश के धार जिले में अमानवीय घटना सामने आई है। सालों से परिवार में शादी नहीं हो रही थी। कोई आता-जाता नहीं था तो भतीजों ने कुष्ठ रोगी काका की चार माह पहले मौत होने पर शव गांव के बाहर तालाब में फेंक दिया था। साथ में उनके कपड़े, गादी सहित अन्य सामान भी फेंका था। परिवार का मानना था कि वैसे भी परिवार में कोई आता नहीं है, इसलिए अंतिम संस्कार में भी कोई नहीं आएगा। मामले का पर्दाफाश तब हुआ, जब पुलिस को तालाब की पाल के किनारे कंकाल मिला।

धार जिले की बाग थाना पुलिस के अनुसार 12 फरवरी को ग्राम घोड़ा के पास डेढ़ किमी दूर तालाब के पास नरकंकाल मिला था। पास ही पत्थर से बंधी रस्सी मिली थी। नरकंकाल के साथ ही स्वेटर, कपड़े, गादी सहित अन्य सामग्री मिली थी।

पुलिस ने जांच शुरू की तो शिनाख्त गांव घोड़ा के कुष्ठ रोगी वालसिंह (70) पुत्र नाहरसिंह के रूप में हुई। पुलिस के अनुसार परिवार वालों ने पूछताछ में बताया कि वालसिंह को करीब 10 साल से कुष्ठ की बीमारी थी। चार माह पहले वालसिंह की सामान्य मौत होने पर परिजन ने उसे तालाब में छोड़ दिया था। चार माह बाद जब तालाब का पानी कम हुआ तो 12 फरवरी को शव कंकाल के रूप में सामने आया।

हर एंगल से होगी जांच

कंकाल मिलने पर बाग पुलिस और एफएसएल अधिकारी पिंकी मेहरड़े भी अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचीं। पुलिस ने कंकाल को पीएम के लिए इंदौर भिजवाया है। डीएनए सहित अन्य जांच भी होगी। मेहरड़े ने बताया कि प्रथमदृष्टया घटना संदिग्ध प्रतीत हुई थी। सही स्थिति जांच के बाद पता चल पाएगी। पुलिस मामले की हर एंगल से जांच कर रही है।

Posted By: Hemant Upadhyay

fantasy cricket
fantasy cricket