धामनोद (नईदुनिया न्यूज)। शासकीय अस्पताल में ड्यूटी डाक्टर की मौजूदगी को लेकर कई बार शिकवे शिकायत हो चुके हैं, लेकिन हालात है कि सुधारने की बजाए बिगड़ते ही जा रहे हैं। दबी जुबान में स्वयं कुछ डाक्टर ड्यूटी की अव्यवस्था को लेकर पीड़ा बता चुके हैं। पिछले ढाई माह से अस्पताल में एक्सरे फिल्म नहीं है। ऐसे में कई तबके के लोग बाजारों में महंगे दामों पर एक्सरे कराने को मजबूर हैं। अस्पताल में अव्यवस्थाओं को लेकर जनप्रतिनिधियों ने भी नाराजगी जाहिर की है।

दुर्घटना में घायल विकास शर्मा अस्पताल पहुंचे, तो उन्हें कहा गया कि फिल्म नहीं होने से एक्सरे नहीं किया जा सकता। इस दौरान मौजूद जनप्रतिनिधि विष्णु पाटीदार ने नाराजगी जताई। पाटीदार ने कहा कि लंबे समय से अस्पताल में व्हीलचेयर, स्ट्रेचर की शिकायत लोगों द्वारा की जा रही है। मैंने स्वयं कई बार देखा कि मरीजों को स्वजन खुद ही उठाकर अस्पताल में ले जा रहे हैं। क्या ऐसे ही होते हैं खैराती अस्पताल। जहां प्रशासन-शासन व्यवस्थाओं के नाम पर गरीबों के साथ मजाक कर रहा है। सब जानते हैं कि फोरलेन के गणपति घाट में प्रतिदिन घटनाएं हो रही हैं। घायलों को नगर के स्वास्थ्य केंद्र लाया जाता है, लेकिन पिछले ढाई माह से एक्सरे फिल्म नहीं होने की शिकायत है। अस्पताल प्रशासन द्वारा त्वरित व्यवस्था की जानी चाहिए। रोगी कल्याण या अन्य मद के माध्यम से एक्सरे फिल्म बुलाई जानी चाहिए। जिले में बैठे अधिकारी भी अनदेखी कर रहे हैं। व्यवस्थाओं को देखकर ऐसा लग रहा है कि धामनोद का शासकीय अस्पताल लावारिस हो गया है।

पदों का दुरुपयोग

गौरतलब है कि नर्मदा जयंती पर नर्मदा परिक्रमावासी 34 ववर्षीय सारिका इंगोले निवासी नागपुर दुर्घटना की वजह से घायल हो गई थी। उस दौरान भी सारिका को बाजार में एक्सरे करवाना पड़ा था। उस वक्त सामाजिक संगठनों ने भी अस्पताल में अव्यवस्थाओं को लेकर नाराजगी जताई थी। बताया जा रहा है कि सफाई कर्मचारियों द्वारा चिट्ठी यानी एमएलसी बनाई जा रही है। यही नहीं कई वर्षों से गंभीर घायल व दुर्घटना में घायल लोगों को टांके लगाने का कार्य भी सफाई कर्मचारियों से कराया जा रहा है।

पेयजल व्यवस्था भी चरमराई

अस्पताल में एमएलसी के अलावा कोरोना संक्रमण के टीके लगाने वाले करीब 200 से अधिक लोग अस्पताल पहुंच रहे हैं, लेकिन अस्पताल में पेयजल व्यवस्था को लेकर पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। ऐसे लोगों को गर्मी में पानी के लिए परेशान होना पड़ता है। बताया जा रहा है कि अस्पताल प्रशासन कर्मचारियों के लिए चिल्ड वाटर की दो केन बुलाता है। इसी से ही सभी लोग पानी पी रहे हैं। यही आलम रहा तो भीषण गर्मी में मरीजों को परेशान होना लाजमी है। जबकि टीका लगाने के लिए गंभीर बीमारी व 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोग पहुंच रहे हैं।

जिलाधिकारी को बताया है

बीएमओ ब्रह्मराज कौशल ने बताया कि पिछले ढाई माह से अस्पताल में एक्सरे फिल्म नहीं है। जिलाधिकारी को अवगत कराया है। सोमवार व मंगलवार तक बुला ली जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags