मांडू (नईदुनिया न्यूज)। मांडू के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल और सुसाइड प्वाइंट के नाम से ख्यात काकड़ा खोह के किनारों पर कुछ जगह लगी रेलिंग को सुधारने का काम शुरू कर दिया गया है। यहां प्रशासन अन्य सुरक्षा इंतजाम करने की बात कह रहा है। पर्यटन सत्र शुरू होने के बाद सैलानियों का आना-जाना यहां शुरू हो गया है। फिलहाल सुरक्षा को लेकर यहां चिंताजनक हालात हैं। बरसों से सुसाइड और हत्या की घटनाएं सामने आती रहती हैं। खतरनाक खोह के किनारे उत्साहित पर्यटकों को पहुंचने से रोकने वाला कोई नहीं है।

गौरतलब है कि मांडू के खूबसूरत और खतरनाक पर्यटन स्थल काकड़ा खोह की खाई में 13 जून को जबलपुर निवासी अतुल मिश्रा की हत्या कर शव फेंक दिया था। उसके बाद नईदुनिया ने 14 जून को 'काकड़ा खोह में मिला अज्ञात व्यक्ति का शव' शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर वहां सुरक्षा इंतजामों की कमी को लेकर समाचार प्रकाशित किया था। इसके बाद प्रशासन हरकत में आया। कलेक्टर डा. पंकज जैन ने अधिकारियों के साथ काकड़ खोह का दौरा कर पर्यटकों की सुरक्षा के साथ सुरक्षा के सभी इंतजामों को सुनिश्चित करने के पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों को निर्देशित किया था। नईदुनिया ने फालोअप कर 15 जून को 'कलेक्टर ने काकड़ा खोह में सुरक्षा प्रबंधों का लिया जायजा, दिए निर्देश' शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था। इसके बाद यहां सुरक्षा को लेकर व्यवस्था ठीक करने की बात सामने आ रही है। फिलहाल यहां टूटी-फूटी रेलिंग को वेल्डिंग कर जोड़ा जा रहा है, ताकि हादसा न हो सके।

इस विषय में तहसीलदार सुरेश नागर ने नईदुनिया को बताया कि कलेक्टर डा. पंकज जैन ने काकड़ा खोह में पर्यटकों के लिए सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध और अन्य निर्देश दिए थे। उसके बाद यह काम शुरू हुआ है। आगे भी सुरक्षा को लेकर अन्य इंतजाम किए जाएंगे। फिलहाल यहां जनपद पंचायत नालछा द्वारा सुरक्षा इंतजाम किए जा रहे हैं।

खतरों से खेलते हैं सैलानी, वर्षों से यही हालत

- चारों तरफ खतरनाक खोह है, जहां पूरे क्षेत्र में रेलिंग तक नहीं लगी है।

- इतना प्रसिद्ध पर्यटन स्थल होने के बाद भी यहां सुरक्षाकर्मी की तैनाती नहीं है, जो सैलानियों को पहाड़ी के मुहाने पर जाने से रोक सके।

- पर्यटकों सतर्क करने के लिए सूचना बोर्ड तक नहीं लगाए गए हैं।

- पूरे क्षेत्र में एक भी सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा है, जिससे अपराधियों के हौसले बुलंद हैं।

- पूरे क्षेत्र में बारिश के दौरान चिकनाई होने से फिसलन होती है और कई सैलानी इसका शिकार भी हुए हैं, पर इस ओर ध्यान नहीं।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम हो तो लग सकता है घटनाओं पर विराम

- खाई के चारों तरफ मजबूत रेलिंग लगाई जाए।

- रेलिंग के साथ यहां लगभग दो से तीन फीट की दीवार भी बनाई जाए, ताकि पर्यटक सुरक्षित रहें।

- दिन और रात के समय विशेष तौर पर शनिवार और रविवार को यहां सुरक्षाकर्मी तैनात किए जाए, ताकि अपराधियों में भय रहे और रेलिंग फांदकर जाने वाले सैलानियों को रोका जा सके।

- काकड़ा खोह को चारों ओर तथा धार-मांडू मार्ग पर महत्वपूर्ण स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाया जाए।

- संबंधित थाना क्षेत्र के पुलिस लगातार गश्त करें, ताकि अपराधियों में भय बना रहे।

- यहां खोह किनारे सार्वजनिक स्थान पर मदिरा और अन्य नशीले पदार्थों का सेवन रोका जाए, ताकि अपराधों में कमी आ सके।

कहीं जान न ले लें रील और सेल्फी लेने का शौक

काकड़ा खोह में गिरते झरने और गहरी खाइयों का प्राकृतिक सौंदर्य देख उत्साहित पर्यटक आपा खो बैठते हैं। यहां आमतौर पर देखा गया है कि युवा तो ठीक परिवार के साथ आए लोग छोटे बच्चों को लेकर खतरनाक खोह के किनारे पहुंचकर सेल्फी लेते नजर आते हैं। इन दिनों इंटरनेट मीडिया पर रील जमकर वायरल होती है। 15 से 25 सेकंड की रील बनाकर भी लोग इंटरनेट मीडिया पर डाल रहे हैं। सैलानियों का यह शौक कहीं उनकी जान न ले लें। ऐसे नजारे यहां देखना आम बात है। इस चक्कर में पहले कई दुर्घटनाएं भी हो चुकी हैं। मांडू के ऐतिहासिक महलों से भी सेल्फी लेने के चक्कर में बड़े हादसे हो चुके हैं। नवीन पैटर्न सत्र में इस ओर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close