- शाश्वत नवपद ओलीजी आराधना में मुनिश्री रजतचंद्रविजयजी ने कहा

राजगढ़ (नईदुनिया न्यूज)। हम ज्ञानियों और गुणीजनों को नमन करते हैं, उनका सम्मान करते है, तभी हमारे जीवन में ज्ञान प्रवेश करता है। यदि जीवन में ज्ञान ही नहीं है, तो दया के भाव का प्रवेश नहीं हो पाएगा। भोजन के साथ पाचन जरूरी है, ज्ञान के साथ चिंतन जरूरी है और धन के साथ वितरण जरूरी है। जीवन में सद् साहित्य अतिआवश्यक है। सम्यकज्ञान रूपी दीपक यदि हमारे जीवन में प्रज्ज्वलित होगा, तभी यह जीव भटकने से बच पाएगा। मनुष्य को हर समय याद रखना चाहिए कि मोक्ष का मुख्य द्वार ही ज्ञान है।

उक्त वचन आचार्यश्री ऋषभचंद्र सूरीश्वरजी के शिष्यरत्न मुनिराजश्री रजतचंद्रविजयजी ने शाश्वत नवपद ओलीजी आराधना के दौरान कहे। उन्होंने कहा कि ज्ञान के अभाव में ही संसार के सारे झगड़े फसाद होते हैं। मुंह के रास्ते से जाने वाला जहर एक व्यक्ति की मौत का कारण बनता है, पर कानों से जाने वाला जहर पूरे परिवार को बर्बाद कर देता है।

ज्ञान की आराधना से ज्ञानवर्णीय कर्मों का होता है क्षय

मुनिश्री ने कहा नवकार के 68 अक्षरों का सार बहुत ही कीमती है। नवकार के प्रति श्रद्धा होगी, तभी सिद्धचक्र नवपद ओलीजी आराधना करना सार्थक सिद्ध होगा। सिद्धचक्र के नवपद शाश्वत है। संसार के चक्र को तोड़ने की इसमें अपार शक्ति है। आज के इस पद की आराधना ओम नमो नाणस्य मंत्र की साधना के साथ की जाती है। ज्ञानावर्णीय कर्म के उदय से व्यक्ति के जीवन में ज्ञान प्रवेश नहीं कर पाता है। ज्ञानी व ज्ञान की आशातना करने से ही ज्ञानावर्णीय कर्म उदय में आते हैं और ज्ञान की आराधना करने से ज्ञानावर्णीय कर्मों का क्षय हो जाता है। सम्यकज्ञान ही मोक्ष का मुख्य द्वार है।

सातवें दिन आराधकों ने की सम्यकज्ञान पद की आराधना

सातवें दिन मुनिश्री ने श्रीपाल और मयणासुंदरी रास के दोनों चरित्रों पर विस्तृत प्रकाश डाला और व्याख्या की। आराधकों ने नवपद आराधना ओलीजी के सातवें दिन सम्यकज्ञान पद की आराधना की। इस पद का विशेष महत्व माना गया है। दोपहर में ज्ञान पद की आराधना करते हुए 45 आगम के महापूजन का आयोजन मंदिर परिसर में रखा गया। इसमें 45 ज्ञान के आगमों की पूरी भाव के साथ पूजा-अर्चना की गई। महापूजन की मुख्य पीठिका पर मनीषा संजय मुणत बोरी, रानी प्रफुलकुमार जैन थांदला एवं मोना दिनेश नाहर राणापुर ने लाभ लिया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस