डिंडौरी। खाने में सड़ा चावल देते थे और एक महिला को मुकद्दम बनाया था, वह हम लोगों को शराब पीकर पिटवाती थी। काम तो कराया जाता था पर एक दिन भी मजदूरी नहीं दी। यह कहना था उन मजदूरों का, जिन्हें मजदूरी कराने के नाम पर दलाल महाराष्ट्र के सोलापुर ले गए थे।

बंधक बनाए गए 21 ग्रामीणों को पुलिस की स्पेशल टीम ने मुक्त कराया। रविवार शाम पुलिस की स्पेशल टीम ग्रामीणों को लेकर कोतवाली पहुंची। पत्रकारवार्ता में एएसपी सुनीता रावत ने बताया कि बंधक ग्रामीणों में से एक ने जनपद अध्यक्ष बजाग रूदेश परस्ते को मोबाइल पर सूचना दी थी। जनपद अध्यक्ष की शिकायत पर स्पेशल टीम भेजकर ग्रामीणों को मुक्त कराया गया है।

मुक्त कराए गए ग्रामीणों ने बताया कि 29 दिसंबर को डिंडौरी निवासी रानू उर्फ रिंकू भाईजान उन्हें मजदूरी कराने के लिए सोलापुर ले गया था। उनसे गन्न्ा कटाई का काम कराया जा रहा था। रोज 400 रुपए मजदूरी देने की बात हुई थी, लेकिन मजदूरी एक भी दिन की नहीं दी गई। खाना भी ठीक से नहीं देते थे। विजय के मोबाइल पर जनपद बजाग अध्यक्ष रूदेश परस्ते का नंबर था। उन्हें फोन पर आपबीती बताई गई। इसके बाद जनपद अध्यक्ष ने एसपी से 9 जनवरी को लिखित शिकायत की।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस