ग्रामीणों ने बहेरा माल में पकड़ा अवैध परिवहन करते वाहन

खनिज अधिकारी को छह घंटे तक ग्रामीण लगाते रहे फोन, नहीं पहुंचे अधिकारी

खनिज अधिकारी पर ग्रामीणों ने लगाया साठगांठ का आरोप

फोटो-11-डिंडौरी। रेत से लोड डंपर जिसे ग्रामीणों ने रोका।

12-13-डिंडौरी। डंपरों के दौड़ने से बदहाल हुई सड़क।

डिंडौरी। नईदुनिया प्रतिनिधि

नर्मदा नदी से इन दिनों धड़ल्ले के साथ बेखौफ रेत का अवैध उत्खनन चल रहा है। खनिज विभाग की लापरवाही यह है कि विभाग द्वारा कहीं कार्रवाई तो की नहीं जा रही और जहां से सूचना मिल रही है। वहां खनिज विभाग के जिम्मेदार पहुंच नहीं रहे हैं। शुक्रवार की सुबह चार बजे से बहेरा माल के ग्रामीण अवैध रेत का परिवहन कर रहे डंपरों को खड़ा कराकर लगातार जिला खनिज अधिकारी के पास फोन कर रहे थे, लेकिन ग्रामीणों का आरोप है कि छह घंटे लगातार फोन लगाने के बाद भी अधिकारी नहीं आए और आने का झूठा आश्वासन देते रहे। मौका पाकर एक वाहन चालक वाहन लेकर भाग भी गया।

गांव-गांव बेची जा रही अवैध रेत

ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि गांव-गांव में रात को अवैध रेत पहुंचाई जा रही है। ग्रामीणों ने बहेरा माल में जब वाहन खड़ा कराया तो वाहन चालक द्वारा यह भी कहा गया कि उसकी सेटिंग विभाग के अधिकारी तक है, कोई नहीं आएगा। ग्रामीणों ने बताया कि हुआ भी यही। खनिज अधिकारी लगातार सूचना देने के बाद भी नहीं आए। बताया गया कि रात में गीधा, मड़ियारास, लिखनी सहित अन्य स्थानों से नर्मदा नदी से रेत का उत्खनन कर गांव-गांव में बेची जा रही है। वाहन चालकों के पास न तो उत्खनन का कोई दस्तावेज और न ही परिवहन की रायल्टी।

लंबे समय से चल रहा खेल

ग्रामीणों ने बताया कि अवैध उत्खनन के साथ गांव-गांव में परिवहन का खेल लंबे समय से चल रहा है, लेकिन विभागीय जिम्मेदार इस ओर कोई पहल न कर पल्ला झाड़ रहे हैं। ग्रामीणों की सूचना के बाद भी खनिज अधिकारी का कार्रवाई के लिए न जाना कई सवाल खड़े कर रहा है। यद्यपि जब उनसे नईदुनिया ने चर्चा की तो उन्होंने कर्मचारियों की कमी बताकर पल्ला झाड़ने का प्रयास किया। ग्रामीणों की मानें तो एक डंपर रेत जरुरतमंदों को मनमाने तौर पर 14 से 16 हजार रुपए में बेची जा रही है।

बदहाल हो गई गांव की सड़क

अवैध उत्खनन कर रेत के परिवहन कार्य में लगे डंपरों के दौड़ने से सिमरिया तिराहा से मोहदा मार्ग बदहाल हो गया है। लोगों ने बताया कि इस मार्ग का निर्माण हाल ही में कराया गया है। नई सड़क कई जगह से उखड़ गई है। गिट्टियां फैलने के साथ गड़्‌ढे भी हो गए हैं। बदहाल हो गए इस मार्ग से राहगीरों, वाहन चालकों के साथ स्कूली छात्र-छात्राओं को भी आने जाने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बताया गया कि इस मार्ग के किनारे लगभग दो दर्जन से अधिक गांव स्थित हैं। प्रतिदिन सैकड़ों लोग इसी मार्ग से डिंडौरी और समनापुर आते जाते हैं।

इनका कहना है

ग्रामीण जो आरोप लगा रहे हैं, वह गलत है। फोन सुबह से जरुर आ रहा था, लेकिन मेरे पास स्टाफ भी नहीं है और पुलिस भी साथ नहीं देती।

सुनील उईके

जिला खनिज अधिकारी डिंडौरी।

Posted By: Nai Dunia News Network