डिंडौरी। नईदुनिया प्रतिनिधि

कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में गुरुवार को विभागीय योजनाओं व निर्माण कार्यों की समीक्षा बैठक हुई। इस दौरान कलेक्टर बी कार्तिकेयन ने कहा कि जय किसान फसल ऋ ण माफी योजना के अंतर्गत प्रथम चरण में छूटे हुए किसानो के पिंक-1 फार्म 31 जुलाई तक जनपद पंचायत में भरकर प्रस्तुत करना होगा। जिससे प्रस्तुत पिंक फार्म के आधार पर कार्यवाही करते हुए किसानों के फसल ऋ ण माफ करने की कार्रवाई की जा सके। सहायक संचालक कृषि ने बताया कि जय किसान फसल ऋण माफी योजना के अंतर्गत 31 मार्च 2018 की स्थिति में फसल ऋ ण बकाया होने पर किसान जय किसान फसल ऋ ण माफी योजनांतर्गत पात्रता रखता है, यदि उसके द्वारा फार्म नहीं भरे गए हैं तो उसे पिंक फार्र्म-1 भरकर प्रस्तुत करना होगा।

गोशाला निर्माण के लिए समय निर्धारित

कलेक्टर ने जिले के तालाबों व जलाशयों की समीक्षा की। मत्स्य अधिकारी ने बताया कि जिले में 719 ग्रामीण तालाब हैं, जिसमें 272 तालाबों के लिए पट्टा वितरण का कार्य किया गया है। कलेक्टर ने कहा कि मत्स्य पालन से ग्रामीण लोगो को रोजगार उपलब्ध होता है। जिले के तालाबों में मत्स्य पालन करने से रोजगार बढेगा। उन्होंने मत्स्य अधिकारी को निर्देश दिए कि जिले के सभी तालाबों व जलाशयों के लिए पट्टा वितरण की कार्यवाही करें। कलेक्टर ने जिले में निर्माण किए जा रहे गौशालाओं की समीक्षा की। कार्यपालन यंत्री आरईएस ने बताया कि गौशालाओं का निर्माण फरवरी माह तक पूर्ण करा लिया जाएगा। इसके लिए सभी जनपदों के सहायक यंत्रियों के लिए समय-सीमा निर्धारित कर दी गई है। गोशाला के समीप चारागाह का भी निर्माण किया जा रहा है, जिससे गोशाला के पशुओं को हमेशा चारा उपलब्ध हो सके। सहायक यंत्री ने बताया कि ग्राम घानामार, कारोपानी, मोहतरा, मुकुटपुर, किसलपुरी, केंजेहरा और डोकरघाट में गोशालाओं का निर्माण किया जा रहा है। 30 जनवरी तक तीन, 15 फरवरी तक एक, 20 फरवरी तक दो और 28 फरवरी तक एक गौशाला का निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया जाएगा।

जल संरक्षण के कार्यों की हुई समीक्षा

कलेक्टर ने इसके बाद मनरेगा के अंतर्गत जल संरक्षण के लिए किए जा रहे निर्माण कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि सभी सहायक यंत्री और उपयंत्रियों को जलसंरक्षण के कार्यों को निर्धारित समय-सीमा में पूरा करना होगा। सहायक यंत्री व उपयंत्रियों ने बताया कि मनरेगा के कार्यों में कपिल धारा कूप निर्माण, तालाब निर्माण, टैंक निर्माण का कार्य तीन माह में पूरा कर लिया जाएगा। स्टॉप डेम निर्माण तालाबों का जीर्णोद्घार, चेकडेम निर्माण का कार्य दो महीने में पूरा कर लिया जाएगा। गेवियन स्ट्रक्चर, बोल्डर चैक डेम, नाला विस्तारीकरण, कंटूर ट्रंच, गली प्लग का कार्य एक माह में पूरा कर लिया जाएगा। खेत तालाब निर्माण 45 दिवस, मेढ़ बंधान 25 दिवस तथा रिचार्ज पिट का निर्माण 15 दिवस में पूर्ण कर लिया जाएगा। कलेक्टर ने कहा कि सभी सहायक यंत्री व उपयंत्रियों को सभी निर्माण कार्यों को निर्धारित समय-सीमा में पूरा करें। कार्यों में लापरवाही बरतने पर सहायक यंत्री व उपयंत्रियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ एमएल वर्मा समेत विभागीय अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan