डिंडौरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम व बचाव के संबंध में समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में कलेक्टर रत्नाकर झा ने कहा कि कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर मरीजों को तत्काल स्वास्थ्य केंद्र या फीवर क्लीनिक में भेजा जाए, जिससे उनका समय पर इलाज हो सके। उन्होंने होम क्वारंटाइन मरीजों पर भी कडी निगरानी रखने के निर्देश दिए। होम क्वारंटाइन व्यक्तियों को उनके स्वास्थ्य के बारे में प्रतिदिन जनपद स्तर से तीन बार और जिला स्तर से दो बार जानकारी लेना होगा।

डोर-टू-डोर किया जा रहा संपर्क

कलेक्टर ने बताया कि स्वास्थ्य केंद्रों में आक्सीजन सिलिंडर, दवाइयां और किट पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं। किसी भी व्यक्ति का स्वास्थ्य खराब होने पर वह तत्काल स्वास्थ्य केंद्रों में आकर इलाज कराएं। कलेक्टर ने कहा कि कोरोना की रोकथाम के लिए ग्राम पंचायत स्तर पर डोर-टू-डोर संपर्क किया जा रहा है। संपर्क के दौरान सर्दी, खांसी व बुखार से पीडित व्यक्ति जांच में सहयोग करें, जिससे ऐसे व्यक्तियों का इलाज किया जा सके। कलेक्टर ने इस दौरान कोविड केयर सेंटर की गतिविधियों की भी समीक्षा की। उन्होंने सेंटर में आक्सीजन व दवाईयों की उपलब्धता, साफ-सफाई, सुरक्षा के प्रबंध, भोजन का प्रबंध, बिजली की व्यवस्था और चिकित्सकों के दल को तैनात रहने के निर्देश दिए। कोविड केयर सेंटर में हैंडबॉश, मास्क व सैनिटाइजर भी रखने को कहा गया।

बिना मास्क घूम रहे लोगों को लगाएं जुर्माना

कलेक्टर ने बिना मास्क पहने भ्‌रमण कर रहे व्यक्तियों पर कार्यवाही करते हुए उन पर दंड अभरिोपित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि लोगों को समझाइश दें कि घर में रहें, सुरक्षित रहें, बिना किसी वजह के घर से बाहर न निकलें। कलेक्टर ने कहा कि जिले में को-वैक्सीन टीकाकरण का कार्य प्रारंभ है। जिन व्यक्ति्‌यों को को-वैक्सीन का प्रथम टीका लग चुका है, ऐसे व्यक्त्‌ाि को-वैक्सीन का दूसरा टीकाकरण अनिवार्य रूप से लगवाएं। उन्होंने कहा कि सभी व्यक्ति शासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करें। हमेशा मास्क, सैनिटाइजर और शारीरिक दूरी का पालन करें। कलेक्टर ने कहा कि इस दौरान सामाजिक संस्थान और समाज सेवकों की सहभागिता सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने जिले के स्व-सहायता समूह को मास्क का वितरण करने के निर्देश दिए।

प्रचार प्रसार करने के निर्देशः कलेक्टर ने विभागीय अधिकारियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए फ्लैक्स, पंपलेट, पोस्टर और दीवार लेखन के माध्यम से ग्रामीण व नगरीय क्षेत्रों में प्रचार-प्रसार करने को कहा। कलेक्टर ने ग्राम पंचायतों में मनरेगा के नवीन कार्य प्रारंभ करने के निर्देश दिए। जिससे लोगों को गांव में ही रोजगार मिलता रहे। उन्होंने ग्राम पंचायतों में जिला प्रशासन के दिशा-निर्देशों के तहत काम कराने के निर्देश दिए। मजदूरों को काम करते समय में मास्क का उपयोग, शारीरिक दूरी व नियमित अंतराल में हाथों को सैनिटाइजर करवाने को कहा। उन्होंने नियमित रूप से मजदूरी का भुगतान करने के भी निर्देश दिए। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ अरूण कुमार विश्वकर्मा, अपर कलेक्टर मिनिषा भगवती पांडेय, एसडीएम डिंडौरी महेश मण्डलोई, एसडीएम शहपुरा अंजु अरूण विश्वकर्मा, सहायक कलेक्टर सृष्टि जयंत देशमुख, मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. रमेश मरावी, जिला समन्वयक सर्व शिक्षा अभियान राघवेन्द्र मिश्रा, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला व बाल विकास विभाग मंजूलता सिंह, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग डॉ. संतोष शुक्ला सहित विभागीय अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags