डिंडौरी गोरखपुर (नईदुनिया न्यूज)। विकासखंड करंजिया अंतर्गत कस्बा गोरखपुर में बुधवार और गुरुवार की दरमियानी रात से प्री मानसून के बादल जमकर बरस रहें हैं। बरसात के बाद जहां मौसम सुहाना हो गया, वहीं फिलहाल उमस वाली गर्मी से लोगों को राहत मिली है। कृषि कार्य से जुडे लोग फसलों की बोवनी व खेतों की जुताई, साफ सफाई आदि की तैयारी में जुट गए हैं। बताया गया कि बुधवार को सुबह से कस्बा में मौसम साफ था। धूप में तीखापन के साथ उमस वाली गर्मी ने शाम तक परेशान किया। रात को भी अन्य दिनों की अपेक्षा अधिक गर्मी महसूस हो रहीं थीं, लेकिन रात लगभग एक बजे के आसपास मौसम अचानक बदल गया और आसमान पर घने काले बादल छाने के साथ झमाझम बारिश शुरू हो गई। बुधवार की रात से शुरू हुई बारिश गुरूवार की सुबह होने के बाद आठ बजे तक जारी रही। दिन के तापमान में अपेक्षाकृत अधिक गिरावट दर्ज की गई। जबकि बारिश से लोगों को उमस और तपिश से राहत मिली। एक समय बारिश की रफ्तार देख लग रहा था कि आज दिन भर इसी तरह की बारिश होगी। दोपहर बाद बारिश का क्रम थम गया, लेकिन काले बादलों ने आसमान पर डेरा जमाए रखा है। बीच बीच में बूंदाबांदी होती रही।

कृषि कार्य की शुरुआत

गौरतलब है कि इस बार कृषि कार्य से जुडे लोगों को मानसून के पूर्व खेतों को फसलों की बोवनी के लिए तैयार करने का मौका नहीं मिला। जब खेतों की मरम्मत के साथ जुताई साफ सफाई और देशी खाद डालने का समय था तब निरंतर बारिश का क्रम बना था। इस कारण खेती से संबंधित प्रारंभिक कार्य प्रभावित हो गया हैं और अब वो समय भी निकल गया। अब तो जैसे भी खेतों में फसलों के बीज बोना है। इसी चक्कर में किसान लगें हुए हैं। किसानों ने बताया कि जैसे मौसम खुलता हैं सबसे पहले मक्का, उडद, कोदो, कुटकी आदि बीज की बोवनी करना है। किसान श्याम सुन्दर तेकाम ने बताया कि धान, सोयाबीन सहित अन्य फसलों की बोवनी के लिए खेतों को तैयार करना है। गोबर खाद खेतों में फैलाना है, लेकिन बारिश के चलते कृषि से संबंधित सारे काम बंद पड़े हैं। जमीन में इतनी नमी आ गई हैं कि हल चलाना मुश्किल हो रहा हैं, जबकि वो प्रतिदिन कृषि कार्य करने की मंशा से खेतों की ओर कृषि उपकरण रखकर जाते हैं लेकिन मौसम का मिजाज देख वे काम नहीं कर पा रहे हैं। बरसात के पूर्व घर की मरम्मत छप्पर आदि में सुधार कार्य नहीं कर पाए, जबकि प्रतिवर्ष यह कार्य भी माह में ही पूर्ण कर लिया जाता था। इस बार एक दो दिन के अंतराल में होती रही बारिश के चलते घरों की देखभाल करने का मौका नहीं मिला। किसान दीपक तेकाम ने बताया कि धान, मक्का की बोवनी के लिए बीज बाहर निकाल कर रखा हैं, लेकिन बारिश के चलतें बोवनी के लिए मौका नहीं मिल रहा। बताया गया कि मानसून के सक्रिय होने का समय नजदीक आ गया हैं।

बारिश में भीग कर उठाया आनंद

प्री मानसून की बारिश में कस्बा के बधो और युवाओं ने बारिश में भींग कर खूब मौज-मस्ती की। गुरुवार की सुबह बधो अपने हमजोलियों संग बरसात की बूंदों को पकडने के लिए भागते नजर आए। युवाओं ने भी मानसून के पूर्व गिर रहीं झमाझम बारिश का स्वागत करते हुए खूब मौज मस्ती की। युवाओं का कहना था कि पहली बारिश में भीगने का सुखद अहसास अलग मजा देता हैं, इसलिए वे खुले आसमान के नीचे बारिश में भीगने का आनंद उठा रहें हैं। बधो भी घर वालों की नजर से बचते बचाते अपने सखा सहेली की बीच पहुंचकर पानी में भींगते रहें।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags