डिंडौरी। नवोदय स्कूल धमनगांव में 13 वर्षीय छात्रा की संदिग्ध अवस्था में आत्महत्या करने का मामला सामने आया है। सोमवार की सुबह छात्रा का शव गमछे से स्कूल भवन में ही लटका मिलने पर सनसनी फैल गई। जानकारी में बताया गया कि तीन दिन पहले ही 19 जुलाई को छात्रा के पिता बेटी को नवोदय स्कूल में छोड़कर गए थे। 3 दिन में ही छात्रा के द्वारा आत्महत्या किए जाने से प्रबंधन पर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। जिला मुख्यालय से जबलपुर मार्ग में लगभग10 किलोमीटर दूर नवोदय विद्यालय धमनगांव में संचालित हो रहा है।

यह भी पढ़ें : OBC Reservation In MP : अब ओबीसी वर्ग को मिलेगा 27 फीसदी आरक्षण, विधानसभा में बिल पारित

रविवार की देर रात कक्षा 6 में नवीन भर्ती हुई छात्रा मधु मरावी पिता तिवारी मरावी निवासी ग्राम भीमकुंडी ने टॉयलेट की सीढ़ी में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मौके से सुसाइड नोट भी पुलिस ने बरामद किया है। सोसाइड नोट में लिखा है कि मैं कक्षा 6 वी में पढ़ने वाली विद्यार्थी हूं। मेरा सपना है कि मैं एक शिक्षक बनू। मुझे अपने पापा मम्मी, चाचा-चाची, दीदी, भाई, छोटी बहन सबसे बहुत प्यार है। मेरे पापा चाहते हैं कि मैं पढ़ लिख कर बड़ी बनू, मैं जवाहर नवोदय विद्यालय धमनगांव में 6 वी कक्षा से अपनी टीसी कटवाना चाहती हूं। मुझे यहां अच्छा नहीं लगता हैं। मुझे यहां आने के बाद ऐसा लगता है कि में नर्क में आ गई हूं।

यह भी पढ़ें : जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांसद जटिया की पोती को इस तरह दुलारा

तीन दिन में क्यों लगने लगा नर्क : घटना की जानकारी मिलने पर कलेक्टर बी कार्तिकेयन, एसपी एमएल सोलंकी, पुलिस टीम के साथ नवोदय विद्यालय पहुंच कर जायजा लिया है। छात्रा के सुसाइड नोट में लेख है की विद्यालय आकर ऐंसा लगता है की वह नर्क में आ गई है।

आखिर छात्रा को 3 दिन में ही नवोदय विद्यालय नर्क क्यों लगने लगा। छात्रा प्रतिभाशाली रही है। सुसाइड नोट के अनुसार छात्रा ने अपने रिश्तेदारों से बहुत प्यार करना बताया है। अचानक आत्महत्या करना कई तरह के सवाल खड़ा कर रहा है। शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल लाया गया। यहां भी लोग बड़ी संख्या में पहुंच गए। छात्रा के पिता ने इस पूरे मामले में सवाल उठाते हुए सीबीआई जांच की मांग भी कि है।

मामले की जांच की जा रही है। अभी प्रारंभिक तौर पर आत्महत्या करने का ही मामला लग रहा है। परिजनों ने जो सवाल उठाए हैं, उसकी भी जांच करवाई जाएगी। -एमएल सोलंकी, एसपी डिंडौरी

पढ़ें : इस सत्र से भावी डॉक्टर पढ़ेंगे व्यावहारिक पाठ, मरीज से मित्रता रखने के सीखेंगे गुर

पढ़ें : श्रावण के पहले सोमवार पर महाकाल की भस्मारती में उमड़े भक्त