- सीजेएम न्यायालय के आदेश के बाद भी म्याना पुलिस ने नहीं छोड़ी एसयूवी

- थाने के एसआई कमलेश गौड़ ने न्यायालय परिसर में वकील से मांगी 45 हजार रुपये रिश्वत, स्टिंग में फंसे

- नवदुनिया एक्सक्लूसिव -

गुना। नवदुनिया प्रतिनिधि

एक अपराध में जब्त एसयूवी को सीजेएम (मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट) न्यायालय के आदेश के बाद भी पुलिस ने नहीं छोड़ा। म्याना थाने के एसआई (उप निरीक्षक) कमलेश गौड़ ने इसके लिए 45 हजार रुपये रिश्वत मांगी। रिश्वत की मांग इन्होंने न्यायालय परिसर में खड़े होकर एक वकील से की। यहां मोबाइल फोन से किए गए स्टिंग में यह रिश्वत मांगते हुए पकड़े गए। करीब 10 मिनट के वीडियो में एसआई कमलेश गौड़ कहते नजर आ रहे हैं कि भगवान कसम ! मैं आपको वचन देता हूं..5 तुम्हें दूंगा, 40 हजार रुपये मुझे दिलाओ। इनका यह वीडियो पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह के पास पहुंच गया। एसपी इनको निलंबित करने की कार्रवाई कर रहे हैं।

म्याना थाने के अपराध क्रमांक 251/2020, धारा- 399, 400, 402 भादवि व 25, 27, 25बी आयुध अधिनियम में एसयूवी क्रमांक यूपी 14 एवी 0001 को जब्त किया गया था। इस गाड़ी को छोड़ने के संबंध में 10 सितंबर को सीजेएम कौशलेंद्र सिंह भदौरिया के न्यायालय ने म्याना थाना प्रभारी को आदेश कर दिए। इस आदेश में उल्लेख किया गया कि उक्त गाड़ी को आवेदक मोंटी पुत्र मोहर कुमार उम्र 36 साल निवासी खुशीपुरा झांसी उत्तरप्रदेश को दिया जाए। बताया जाता है कि उक्त आदेश के बाद भी पुलिस ने इस गाड़ी को नहीं छोड़ा, बल्कि आवेदक को गुमराह किया। सोमवार को वकील अरविंद सोनी ने इस बारे में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कौशलेंद्र सिंह भदौरिया से शिकायत की, जिसके बाद उन्होंने पुलिस अधीक्षक को अवगत कराया।

कोर्ट मुंशी के भड़कावे में मत आओ... :

करीब 10 मिनट के इस वीडियो में एसआई कमलेश गौड़ अपनी मोटरसाइकिल पर न्यायालय परिसर में वर्दी पहने खड़े नजर आ रहे हैं। यह कहते सुनाई दे रहे हैं कि जब अपनी बात हो गई, तो कोर्ट मुंशी को बीच में नहीं आना चाहिए। गाड़ी के आदेश की तो हमने रिपोर्ट भी डाल दी और सुपुर्द में भी डाल दी। तुम लोग कोर्ट मुंशी के भड़कावे में मत आओ। एसआई श्री गौड़ स्टिंगकर्ता को ऑफर दे रहे हैं कि तुम तो 45 हजार रुपये दिलवाओ, जिसमें से 40 हम रख लेंगे और पांच हजार रुपये तुम्हें देंगे। इन्होंने बीच में टीआई के नाम भी जिक्र किया है। एसआई गौड़ आवेदक का नाम लेते हुए कह रहे हैं कि मैंने रिपोर्ट डाल दी कि वह छोड़कर भाग गया। विवेचना में सहयोग नहीं किया। उसे हिंट कर दो कि अगर पारदियों के साथ नाम आ गया, तो जिंदगी बिगड़ जाएगी और फिर हम तो जायज र्स्पये मांग रहे हैं, इतने तो उनके आने-जाने में ही खर्च हो जाएंगे।

नोट : करीब 10 मिनट का यह वीडियो नवदुनिया के पास सुरक्षित है।

इनका कहना :

- कोर्ट ने आदेश कर दिया, इसके बाद भी पुलिस ने गाड़ी नहीं छोड़ी। एसआई कमलेश गौड़ न्यायालय आए थे, वे यहां 45 हजार रुपये मांग रहे थे। मैंने इस बारे में सीजेएम साहब को बताया है।

अरविंद सोनी, वकील

- किस वीडियो की आप बात कर रहे हो, मैंने ऐसा कोई वीडियो नहीं देखा है। अगर ऐसा कुछ है, तो आप पहले वह वीडियो मुझे भेज दो, उसके बाद ही इस बारे में कुछ कह सकूंगा।

कमलेश गौड़, एसआई

- एसआई कमलेश गौड़ का रिश्वते मांगने संबंधी वीडियो मैंने देखा है। एसआई को निलंबित किया जा रहा है।

राजेश कुमार सिंह, एसपी

फोटो

14 व 15, गुना। वीडियो में कैद हुए एसआई कमलेश गौड़।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020