राघौगढ़। नवदुनिया न्यूज

नगरपालिका परिषद क्षेत्र की ज्यादातर सड़कें बदहाल हैं। फिर चाहे सड़क वार्ड से गुजरे या किसी शिक्षण संस्थानों को जोड़ती हो। इन सड़कों की हालत इतनी खराब हो चुकी है कि वर्षा के समय लोगों का निकलना मुश्किल होता है, तो आमदिनों चलना दूभर हो जाता है, लेकिन नगरपालिका का आमजन की पीड़ा से कोई मतलब नहीं है, क्योंकि शिकायतों के बाद भी सुनवाई नहीं हो रही है। दरअसल, नगरपालिका परिषद के वार्ड-11 स्थित शासकीय महाविद्यालय को जाने वाला मार्ग इन दिनों गड्ढों में तब्दील हो चुका है। इतना ही नहीं, पूरी सड़क उखड़ चुकी है। ऐसे में महाविद्यालय जाने वाले छात्र-छात्राएं रोज दुर्घटना का शिकार हो रही हैं। जिन पर न तो नगरपालिका, जनप्रतिनिधियों व नपा के जिम्मेदार पद पर बैठे अधिकारियों का कोई कोई ध्यान नहीं है। साथ ही वार्ड-11 की पार्षद रेखाबाई सैनी भी कई बार नगरपालिका अध्यक्ष आरती महेंद्र शर्मा व नपा में आने वाले अब तक चार से ज्यादा सीएमओ सहित वर्तमान सीएमओ हरीश श्रीवास्तव को अपने वार्ड की समस्या से अवगत करा चुकी हैं, परंतु कांग्रेस की पार्षद होने के बावजूद भी नगरपालिका द्वारा कोई सुनवाई नहीं की गई है।

आरोन से भरसूला हाइवे निकलने से नपा को फायदा

ज्ञातव्य है कि आरोन से भरसूला रोड तक हाईवे बनने से नगरपालिका परिषद को काफी फायदा हुआ है। जिस वार्ड-11 बरवटपुरा से हाईवे निकला है, वो वार्ड नगरपालिका क्षेत्र में ही आता है। जिसका सीधा फायदा नगरपालिका को मिला है। अन्यथा इससे पहले रोड की हालत इतनी बेकार थी कि रोज बड़ी घटनाएं सुनने को मिलती थीं। इसके बावजूद भी नगरपालिका द्वारा चिन्हित स्थानों पर सड़क निर्माण तो दूर की बात, सड़कों में हुए गड्ढों की भी मरम्मत नही करा पा रही हैं।

प्राचार्य बोलेः कई बार नपा को अवगत कराया

शासकीय महाविद्यालय जाने वाली सड़क की बदहाल स्थिति को देखते हुए कालेज के प्राचार्य डा. जवाहरलाल द्विवेदी ने कई बार वार्ड पार्षद रेखाबाई नगरपालिका सीएमओ व नपाध्यक्ष आरती महेंद्र शर्मा को लिखित में अवगत कराया है। लेकिन आज तक इस सड़क को नहीं ठीक कराया गया। प्राचार्य ने कहा कि छात्र-छात्राओं को काफी लंबे समय से आवागमन में दिक्कत आ रही है। कई बार तो दुर्घटना भी हो जाती है।

मरमत का टेंडर हुआ, पर काम सिर्फ कागजों में

जानकारी के मुताबिक सड़कों में हुए गड्ढों को भरने के लिए नगरपालिका द्वारा निजी ठेकेदार को टेंडर भी दिया गया था, लेकिन किसी भी प्रकार का मरम्मत का कार्य जमीनी स्तर पर न होते हुए कागजों में होता नजर आया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close