गुना। नवदुनिया प्रतिनिधि

जिला अस्पताल के मैटरनिटी वार्ड में शुक्रवार की सुबह 11 बजे प्रसूता सपना (25) को स्वजनों ने भर्ती कराया था। चार घंटे के बाद वार्ड में ड्यूटी कर रही डा. चांदनी खान ने कहा कि यहां पर दो विशेषज्ञ महिला डाक्टर हैं, जो अवकाश पर चली गई हैं। ऐसे में प्रसूता सपना को रेफर करना पड़ेगा। हालांकि, इस घटना के बाद लक्ष्‌मण ने कहा कि उनके पास निजी अस्पताल में डिलेवरी कराने को लेकर पैसे नहीं हैं। आप लोग जिला अस्पताल से रेफर न करें। आधे घंटे की बातचीत के बाद मैटरनिटी वार्ड के डाक्टर और स्टाफ नर्स ने प्रसूता सपना को ग्वालियर रेफर कर दिया। जिला अस्पताल के मैटरनिटी वार्ड में हर रोज प्रसूताओं को गंभीर स्थिति में बताकर रेफर कर दिया जाता है, लेकिन शुक्रवार की दोपहर दो महिला विशेषज्ञ डाक्टरों के अवकाश पर चले जाने के बाद मैटरनिटी वार्ड की स्थिति खराब हो गई। यहां पदस्थ स्टाफ ने प्रसूता को रेफर करने की सलाह दी। इसके पीछे की वजह यह बताई कि दो विशेषज्ञ डाक्टर अवकाश पर हैं, ऐसे में रात में गंभीर स्थिति में भर्ती प्रसूताओं की डिलेवरी नहीं हो पाएगी। इस पर स्वजनों ने अस्पताल प्रशासन के खिलाफ गुस्सा जाहिर किया।

बूढ़े बालाजी अपने घर पहुंची प्रसूता, अस्पताल से आया फोन एंबुलेंस तैयार

विनोद ओझा ने बताया कि वह प्रसूता और अपने भाई के साथ मैटरनिटी वार्ड से शाम छह बजे घर बूढ़े बालाजी पहुंच गए। इतने में अस्पताल से फोन आया कि एंबुलेंस तैयार है। ग्वालियर रेफर करने की तैयारी है। ऐसे में स्वजनों ने कहा कि एंबुलेंस को बूढ़े बालाजी भेज दो। प्रसूता की अच्छी स्थिति नहीं है। बाद में स्वजन प्रसूता को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। वहीं सिविल सर्जन डा. बीएल कुशवाह को फोन लगाया, तो ऐसे में उनका मोबाइल बंद आया। लेकिन अस्पताल प्रशासन की व्यवस्था को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close