गुना। नवदुनिया प्रतिनिधि

गुना नगर पालिका में भाजपा के मेंडेड को अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर हराने वाले पार्टी के बागी पार्षदों से संगठन ने दूरी बनाने का दावा किया है, लेकिन शुक्रवार की दोपहर 12 बजे भाजपा कार्यालय में पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और संगठन को गढ़ने वाले कुशाभाऊ ठाकरे की जयंती के कार्यक्रम में विधायक से लेकर पार्टी के पदाधिकारी शामिल हुए थे, लेकिन इस दौरान भाजपा संगठन को नपा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के चुनाव में बगावत कर हराने वाले बागी भी इस कार्यक्रम में शामिल हो गए। जिसको लेकर संगठन के भीतर एक बार फिर जिलाध्यक्ष के खिलाफ नाराजगी सामने आई है। नपा अध्यक्ष पद पर भाजपा के मेंडेड पर चुनाव लड़ी सुनीता रविन्द्र रघुवंशी ने कहा कि जिलाध्यक्ष पार्टी हाईकमान के आदेश की अवेहलना कर रहे है। वह पार्टी गाइडलाइन के खिलाफ बागियों का साथ दे रहे है। ऐसे में उन्हें भाजपा जिलाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। भाजपा कार्यालय में पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष कुशाभाऊ ठाकरे के जयंती कार्यक्रम के बाद भाजपा जिलाध्यक्ष गजेंद्र सिंह सिकरवार के खिलाफ संगठन के अन्य पदाधिकारियों ने आवाज मुखर कर दी है। गुना नपा में भाजपा मेंडेड से अध्यक्ष पद का चुनाव हारी सुनीता रविन्द्र रघुवंशी ने कहा कि भाजपा को हराने वाले बागी नपा निर्दलीय उपाध्यक्ष धमेंद्र सोनी, राजू ओझा और बृजेश राठौर कार्यक्रम में पहुंचे। इस दौरान विधायक गोपीलाल जाटव और भाजपा जिलाध्यक्ष गजेंद्र सिंह सिकरवार मौजूद थे। इस दौरान बागी कार्यक्रम में कैसे बैठे रहे। इससे अध्यक्ष के ऊपर सवालिया निशान खड़े हो रहे है। सुनीता रविन्द्र रघुवंशी ने कहा कि जिलाध्यक्ष अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। चुनाव से पहले वह और संगठन जिला प्रभारी संजीव कांकर बागियों को लेकर धार्मिक यात्रा पर गए। आज भी वह बागियों को भाजपा के कार्यक्रम में शामिल करा रहे हैं। जिन बागियों ने संगठन को चुनौती देकर मेंडेड को तोड़ने का काम किया है। आज जिलाध्यक्ष उनके कार्यक्रम में शामिल हो रहे हैं। पार्टी हाईकमान ने भी बागियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है, तो उधर जिलाध्यक्ष बागियों के साथ नजर आ रहे है। जिलाध्यक्ष पार्टी गाइडलाइन के खिलाफ काम कर रहे हैं। उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए। जिलाध्यक्ष का संरक्षण आज भी बागियों को है।

जिलाध्यक्ष बोलेः कार्यक्रम में दो मिनट के बाद चले गए थे बागी

भाजपा जिलाध्यक्ष गजेंद्र सिंह सिकरवार ने कहा कि भाजपा संगठन के खिलाफ नगर पालिका चुनाव में जिन पार्षदों ने बगावत की थी, उनसे पार्टी का कोई संबंध नहीं है। निर्दलीय नपा उपाध्यक्ष धर्मेंद सोनी और दो अन्य पार्षदों के साथ कार्यक्रम में दो मिनट के लिए आए थे, लेकिन उसके बाद वह चले गए। पार्टी से इन बागियों से कोई संबंध नहीं है।

जिलाध्यक्ष की सहमति से बागियों ने भरा था नामांकन

पार्षद कल्याण लोधा ने कहा कि जिलाध्यक्ष गजेंद्र सिंह सिकरवार ने ही बागियों को निर्दलीय नपा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर चुनाव मैदान में उतारा था, जिसकी वजह से भाजपा का मेंडेड हारा है। इन्होंने संगठन को जोड़ने का नहीं तोड़ने का काम किया है। साथ ही उन्होंने पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष कुशाभाऊ ठाकरे के कार्यक्रम में बागियों के शामिल होने के सवाल पर कहा कि जिलाध्यक्ष ही जिला कार्यालय मंत्री को पार्टी पदाधिकारियों को बुलाने को कहते हैं, जिसके चलते जिला कार्यालय मंत्री ने ही बागी धमेंद्र सोनी और दो अन्य पार्षदों को पार्टी के इस कार्यक्रम में बुलाया था। बिना बुलावे के कार्यक्रम में कोई नहीं आता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close