गुना(नवदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में अब लंपी संक्रमित पशुओं की संख्या हर रोज बढ़ती जा रही है, लेकिन अब शहर में लंपी संक्रमण को लेकर खतरा बढ़ गया है। रविवार को शहर में पांच लंपी संक्रमित पशु मिलने के बाद पशु चिकित्सा विभाग ने शहर के बाजारों में टीमों को तैनात कर दिया है। विभाग की टीमों ने शहर के बाजारों में वैक्सीनेशन का कार्य शुरू कर दिया है। वहीं जिले में अब तक लंपी संक्रमण से पीड़ित 14 पशु मिल चुके हैं, जिनको आइसोलेशन में रखा गया है। पशु चिकित्सा विभाग के उपसंचालक आरपीएस भदौरिया का कहना है कि जिले में लंपी संक्रमण के बाद अलर्ट जारी किया गया है। डाक्टरों की टीमें हर रोज गुना, राघौगढ़, बमोरी, आरोन और चांचौड़ा में संक्रमित पशुओं को वैक्सीनेशन का कार्य कर रही हैं। लेकिन शहर में एक दिन में पांच संक्रमित पशु मिलने के बाद आसपास के क्षेत्रों में टीमें अन्य पशुओं को खोजने में जुटी हैं। वहीं लंपी संक्रमण को रोकने के लिए हर ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है।

जामनेर की गोशालाओं में किया गया वैक्सीनेशन

ग्राम पंचायत जामनेर की गोशाला में जैन समाज के युवाओं और व्यापारियों ने पशुओं का वैक्सीनेशन कराया। साथ ही यहां व्यापारी वर्ग बाजार और अन्य क्षेत्रों में लंपी संक्रमण को रोकने के लिए ग्रामीणों को समझाइश भी दे रहे हैं। जामनेर की गोशाला सहित ग्रामीण क्षेत्रों में वैक्सीनेशन का कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है।

कांजी हाउस में पहुंची पशु चिकित्सा की टीम

शहर के कांजी हाउस में नपा प्रशासन की टीम भी आइसोलेशन में लंपी संक्रमित पशुओं की निगरानी कर रही है, तो पशु चिकित्सा की टीम ने कांजी हाउस में पशुओं का वैक्सीनेशन किया है। उधर, पशु चिकित्सा विभाग का मानना है कि अभी तक जिले में 1500 से अधिक पशुओं का वैक्सीनेशन कर दिया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close